Homeराज्यपंजाबपंजाब, हरियाणा के युवाओं में तेजी से पनप रही नपुंसकता

पंजाब, हरियाणा के युवाओं में तेजी से पनप रही नपुंसकता

आज समाज डिजिटल, जालंधर:
पंजाब और हरियाणा के युवाओं में नपुंसकता तेजी से फैल रही है। यहां तक कि 20 वर्ष के किशोरों में भी नपुंसकता मिल रही है। यहां तक कि 40 वर्ष तक 40 फीसद पुरुष नपुंसक हो रहे हैं।

पीजीआई ने जारी किए ये आंकड़े

विश्व सेक्स स्वास्थ्य दिवस पर पीजीआई की ओर से जारी अनौपचारिक आंकड़ों में ये तथ्य मिले। यूरोलॉजी विभाग, पी.जी.आई. के प्रोफेसर डा. संतोष कुमार बताते हैं कि इस नपुंसकता का सबसे बड़ा कारण इंटरनेट है। 60 वर्ष से अधिक आयु के लोगों में अब सेक्स के प्रति रुचि और उपचार कराने के मामले सामने आने लगे हैं। डा.संतोष कुमार ने बताया कि लोग भ्रमित हैं कि मेडिकल साइंस में सेक्सोलॉजिस्ट पेशेवर से वे अपनी समस्या का निदान प्राप्त कर सकते हैं, परंतु तथ्य यह है कि इस तरह का कोई प्रोफेशन देश में मान्य नहीं है। उन्होंने इस बात पर जोर दिया कि सेक्सोलॉजिस्ट या अपनी दुकानें चला रहे नीम-हकीमों के चक्कर में न पड़कर, मर्द रोगी को अपना इलाज यूरोलॉजिस्ट जबकि महिला रोगी को गाइनोकोलॉजिस्ट से परामर्श लेकर शुरू करना चाहिए।

इस कारण 28 फीसद महिला-पुरुषों में अलगाव

उन्होंने बताया कि मरीज 3 प्रकार के सेक्सुअल रोगों से गुजरता है जिनमें सेक्सुअल डाईफंक्शन, सेक्सुअली ट्रांसमिटिड डिजीस और रिप्रोडक्टिव हेल्थ मामले शामिल होते हैं। आंकड़ों की मानें तो भारत विश्व की नपुंसकता की राजधानी बनता जा रहा है। एक शोध के अनुसार 35 फीसद मर्द 40 वर्ष की उम्र से पहले, जबकि 20 फीसद उम्र के किसी भी पड़ाव में किसी न किसी सेक्सुअल प्रॉब्लम का सामना करते हैं परन्तु हैरत की बात यह है कि 42 फीसद मर्द डॉक्टरों की ओर से लिखित दवाओं को छोड़ किसी अन्य सस्ते उपचार का विकल्प तलाशते हैं जोकि निकट भविष्य में उनके लिए घातक सिद्ध होता है। नपुंसकता के प्रति भ्रमित 75 फीसदी मर्द और 66 फीसदी महिलाएं अपनी उम्र को इसका बड़ा कारण मानती हैं।

एक नजर इन आंकड़ों पर

आंकड़े चौकाने वाले तब बन जाते हैं जब जोड़े इस रोग को लेकर अलग हो जाते हैं। 28 फीसदी महिलाएं इसके चलते अपने पार्टनर से अलग हो जाती हैं। उन्होंने यह भी बताया कि पी.जी.आई., चंडीगढ़ में पंजाब, हरियाणा से प्रतिवर्ष करीब 50,000 मरीज सेक्स रोगों को लेकर उनके पास विभाग में आते हैं। ऐसे में 20 वर्ष तक के युवाओं में 8 प्रतिशत नपुंसकता पाई गई है, 30 वर्ष तक के युवाओं में यह दर 12 प्रतिशत है, 40 वर्ष तक के युवाओं में यह दर 40 प्रतिशत है, 50 वर्ष तक के लोगों में 48 प्रतिशत, 60 वर्ष तक के लोगों में 57 प्रतिशत और 70 वर्ष तक के लोगों में यह दर 67 प्रतिशत है।

ये भी पढ़ें : मोहाली में 50 फीट से गिरा झूला, 50 घायल

ये भी पढ़ें : संकल्प योगा सेंटर ने मीनू वालिया को किया सम्मानित

ये भी पढ़ें : शिक्षक दिवस के अवसर पर भारत विकास परिषद् द्वारा मनाया गया गुरु वंदन छात्र अभिनंदन

ये भी पढ़ें : टीचर्स डे पर भगवंत मान का अध्यापकों को तोहफा

ये भी पढ़ें : ब्यास दरिया में बढ़ा जलस्तर, खेतों में तैर रही नांव

 Connect With Us: Twitter Facebook

 

SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular