Homeहरियाणाअंबालाराजकीय अध्यापक संघ का चिराग योजना के खिलाफ प्रदर्शन

राजकीय अध्यापक संघ का चिराग योजना के खिलाफ प्रदर्शन

नवीन मित्तल, शहजादपुर:
हरियाणा अनुसूचित जाति राजकीय अध्यापक संघ खंड शहजादपुर की ओर से हरियाणा सरकार की चिराग और अन्य योजनाओं के खिलाफ खंड शिक्षा अधिकारी शहजादपुर के कार्यालय पर सांकेतिक धरना दिया गया। इसकी अध्यक्षता खंड प्रधान तरुण कुमार ने की और मंच संचालन खंड सचिव बलजीत सिंह ने किया।

तुगलकी फरमानों से घट रही छात्रों की संख्या

खंड प्रधान तरुण कुमार ने उपस्थित अध्यापकों को संबोधित करते हुए कहा कि हरियाणा सरकार आए दिन नए-नए तुगलकी फरमान थोप रही है। इसके कारण स्कूलों में दिन प्रतिदिन छात्र कम होते जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि इसी वर्तमान सत्र में सरकार की ओर से बच्चों के दाखिले स्कूलों की प्रबंधन सूचना प्रणाली आईडी की बजाए अध्यापकों की प्रबंधन सूचना प्रणाली आईडी पर करने के आदेश दिए। इस कारण काफी परेशानियों का सामना करना पड़ा। खंड सचिव बलजीत सिंह ने कहा कि उसके बाद सरकार द्वारा बच्चों के दाखिलों में फैमिली आईडी की शर्त जोड़ी गयी। जबकि फैमली आईडी अभी ना पूरी तरह अपडेट है और ना ही इसमें इंकम वैरीफाई हो पाई है।

चिराग योजना को बताया स्कूल बंद करने की साजिश

demonstration-against-chirag-scheme
demonstration-against-chirag-scheme

इस कारण डेटा मैच ना हो पाने के कारण बहुत से बच्चे दाखिले से वंचित रह गए। उन्होंने कहा कि प्राइवेट स्कूलों में इस तरह की कोई शर्त ना होने के कारण ऐसे सभी बच्चे प्राइवेट स्कूलों में चले गए। खंड कोषाध्यक्ष विकासदीप ने कहा कि उसके बाद इस जन विरोधी सरकार ने एक और नई योजना पेश की है। जिसका नाम है “चिराग योजना”। जो कि सरकारी स्कूलों को बंद करने की साजिश है। इस योजना के अंतर्गत कक्षा दूसरी से बारहवीं तक के बच्चे सरकारी स्कूलों से प्राइवेट स्कूलों में दाखिला ले सकेंगे और फीस सरकार भरेगी। जबकि यही दोगली सरकार मॉडल संस्कृति स्कूलों में बच्चों से फीस वसूल कर रही है। कुछ ही सालों में सरकारी स्कूलों से बच्चे प्राइवेट स्कूलों में जाते रहेंगे और कर्मचारी विरोधी यह सरकार स्कूलों पर ताला जड़ती रहेगी। इस तरह यह योजना केवल सरकारी स्कूलों को बंद करने की है।

4 साल में केवल रह जाएंगे प्राइवेट स्कूल: संजीव

खंड उपप्रधान संजीव कुमार ने कहा कि जब 2-4 सालों में सरकारी स्कूल बंद हो जाएंगे और केवल प्राइवेट स्कूल रह जाएंगे तो यह बिजनेसमैन मैत्री सरकार गैस सब्सिडी की तरह फीस देनी बंद कर देगी। फिर प्रदेश में केवल प्राइवेट स्कूल रह जाएंगे जो कि मनमर्जी की फीस गरीब लोगों से वसूल करेंगे। उन्होंने कहा कि मंहगाई व बेरोजगारी के इस भंयकर कुचक्र में फंसे आम व गरीब लोग प्राइवेट स्कूलों के शोषण को बर्दाश्त नहीं कर पाएंगे और उनके बच्चे अशिक्षित ही रह जाएंगे। जिला आडिटर संदीप सिंह ने कहा कि भारत एक लोकतांत्रिक देश है। जिसके संविधान में जन कल्याणकारी राज्य की बात कही गई है, लेकिन यह सरकार जन कल्याण की बजाए अपने बिजनेस मैन मित्रों का ही कल्याण कर रही है।

एचटेट पास युवाओं के सपने होंगे चूर

यह जन विरोधी सरकार बेरोजगार युवाओं को रोजगार देने के बजाय रोजगार छीन रही है। यदि सरकारी स्कूल व संस्थान बंद होंगे तो ना केवल बेरोजगार व एचटेट पास युवाओं के नौकरी पाने के सपने चूर-चूर हो जाएंगे। बल्कि क्लर्क, मिड डे मील वर्कर, सफाई कर्मचारी व चौकीदार आदि के रोजगार भी छिन जाएंगे। हरियाणा पहले ही बेरोजगारी में न० एक है। सरकार की इस तरह की योजनाओं से बेरोजगारी और बढ़ेगी व प्रदेश में मारामारी मच जाएगी। जिला प्रधान रविन्द्र नरवाल ने कहा कि हरियाणा अनुसूचित जाति राजकीय अध्यापक संघ का “शिक्षा बचाओ स्कूल बचाओ” आंदोलन रुकने वाला नहीं है। इसके बाद अगले सप्ताह जिले भर के सभी एसडीएम साहिबान के कार्यालयों पर यह धरना प्रदर्शन किया जाएगा व ज्ञापन दिया जाएगा।

SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular