Homeहरियाणामहेंद्रगढ़श्रीकृष्णा स्कूल महेंद्रगढ़ में शिक्षक दिवस पर विभिन्न कार्यक्रम आयोजित

श्रीकृष्णा स्कूल महेंद्रगढ़ में शिक्षक दिवस पर विभिन्न कार्यक्रम आयोजित

नीरज कौशिक, महेंद्रगढ़ :
श्रीकृष्णा सी. सै. स्कूल महेंद्रगढ़ मे सोमवार को शिक्षक दिवस को लेकर विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन किया गया। जिसमें मुख्य अतिथि स्कूल के एमडी कर्मवीर राव मुख्य रूप से उपस्थित रहे वहीं अध्यक्षता स्कूल प्राचार्य वीरेंद्र सिंह द्वारा की गई।

शिक्षा के साथ-साथ संस्कारों का होना अत्यंत जरूरी

शिक्षक दिवस पर विद्यार्थियों ने कविता, भाषण, देशभक्ति गीत, डांस, समूह गीत एवं सांस्कृतिक कार्यक्रमों में अपनी प्रस्तुति देकर शिक्षकों व विद्यार्थियों का मन मोह लिया। इस बारे में जानकारी देते हुए मिडिल हैड सुरेंद्र कुमार ने बताया कि शिक्षक दिवस के अवसर पर श्रीकृष्णा स्कूल महेंद्रगढ़ में विभिन्न कार्यक्रम आयोजित किए गए। उन्होंने विद्यार्थियों को बताया कि आज के युग में विद्यार्थी अपनी मंजिल से भटक रहे हैं। उसका कारण है संस्कारों का न होना। विद्यार्थियों में शिक्षा के साथ-साथ संस्कारों का होना अत्यंत जरूरी है। शिक्षा के साथ-साथ संस्कार होंगे तो विद्यार्थी अपनी मंजिल पा सकते है।

शिक्षा को लेकर अनेक अनमोल विचार

इस मौके पर स्कूल के एमडी कर्मवीर राव ने विद्यार्थियों को संबोधित करते हुए कहा कि शिक्षक राष्ट्र निर्माता एवं समाज का मार्गदर्शन होता है। शिक्षक ज्ञान का वह अविरल स्त्रोत है जो विद्यार्थियों के भविष्य का निर्माण करता है। उन्होंने कहा कि इस संघर्ष भरे जीवन में शिक्षकों द्वारा सिखाए सबक एवं उनके मार्गदर्शन जीवन में सफलता की बुलंदियों पर ले जाते है। अपने ज्ञान का सही इस्तेमाल कर विद्यार्थी सफल एवं कामयाब बनता है। देश के पूर्व राष्ट्रपति डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन ने भी शिक्षा को लेकर अनेक अनमोल विचार दिए। वे बहुमुखी प्रतिभा के धनी थे और शिक्षा को जीवन के लिए बेहद महत्त्वपूर्ण मानते थे।

इस मौके पर स्कूल का समस्त स्टाफ उपस्थित रहा

इस मौके पर स्कूल के प्राचार्य वीरेंद्र सिंह ने विद्यार्थियों को बधाई देते हुए उनके उज्ज्वल भविष्य की कामना करते हुए कहा कि शिक्षाविद डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन की जन्मदिवस को शिक्षक के रूप में मनाया जाता है। किसी भी राष्ट्र का निर्माण उनकी शिक्षण संस्थाओं में होता है। आज के इस भौतिक युग में शिक्षकों का उत्तरदायित्व और अधिक बढ़ गया है क्योंकि संस्कारों एवं मनुष्यता की भावना से दूर होती नई पीढ़ी में शिक्षक ही नैतिक एवं मानवतावादी मूल्यों को स्थापित कर सकता है। उन्होंने कहा कि पूर्व राष्ट्रपति डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन शास्त्र के ज्ञाता, दार्शनिक, सनातन संस्कृति के संवाहक और प्रख्यात विचारक थे। उनके सम्मान और शिक्षा के प्रति अभिभावकों और बच्चों को जागरूक करने के उद्देश्य से शिक्षक दिवस मनाया जाता है। इस मौके पर स्कूल का समस्त स्टाफ उपस्थित रहा।

ये भी पढ़ें : शिक्षक दिवस के अवसर पर भारत विकास परिषद् द्वारा मनाया गया गुरु वंदन छात्र अभिनंदन

ये भी पढ़ें : टीचर्स डे पर भगवंत मान का अध्यापकों को तोहफा

ये भी पढ़ें : ब्यास दरिया में बढ़ा जलस्तर, खेतों में तैर रही नांव

ये भी पढ़ें : पंजाब, हरियाणा के युवाओं में तेजी से पनप रही नपुंसकता

 Connect With Us: Twitter Facebook

 

SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular