Homeहरियाणाकुरुक्षेत्रशाहबाद में दो सांडो ने 11 साल की बच्ची को मारी टक्कर,...

शाहबाद में दो सांडो ने 11 साल की बच्ची को मारी टक्कर, मौके पर हुई मौत

इशिका ठाकुर, कुरुक्षेत्र:
कुरुक्षेत्र जिले के शाहबाद की लक्की कॉलोनी में दो सांडो ने 11 साल की बच्ची पलक को मारी टक्कर, टक्कर लगने से बच्चे की मौके पर ही मौत,आवारा पशुओं के कारण दिन प्रतिदिन काफी हादसे हो रहे हैं। जिसमे लोग अपनी जान तक गवा रहे है। ऐसा ही एक हादसा कुरुक्षेत्र जिले के शाहाबाद कस्बे की लकी कालोनी में हुआ है। जहां 11 वर्षीय पलक नाम की बच्ची को दो आवारा सांडो ने मार दिया, जिससे उसकी मौके पर ही मौत हो गई.बच्ची की मौत के कारण जहां परिवार में मातम छाया हुआ है.वही कॉलोनी के लोगो भी इस घटना से अचंभित है।

सांड ने बच्ची की टांगो को कुचला

स्थानीय निवासी मनीष ने कहा कि वह एक गरीब परिवार की बच्ची है। जिसकी माता दूसरे के घरों में मेड का काम करके अपनी रोजी-रोटी चला रही है। और वह अपने बच्चों को पढ़ा रही है। और दिन की तरह आज भी उसकी मां मनीष के घर पर काम करने के लिए आई हुई थी। वहां से उन्होंने अपने 11 वर्षीय बच्ची पलक को पास में ही मार्केट में बनी एक दुकान पर दूध लेने के लिए भेजा था। जहां रास्ते में दो सांड आपस में लड़ाई कर रहे थे। जब बच्ची उनके पास से गुजरी तो एक सांड ने बच्चे को उठाकर पलट दिया, जिसे उसके सर पर गंभीर चोटें लग गई। वही दूसरे सांड ने जमीन पर पड़ी हुई बच्ची को अपनी टांगो से कुचल दिया। जब तक बच्ची को हॉस्पिटल में ले जाएगा तब तक बच्ची दम तोड़ चुकी थी। जिससे पूरे शहर वासी आवारा पशुओं के डर से घर से बाहर निकलने में भी डर रहे हैं। क्योंकि कुरुक्षेत्र में यह पहला मामला नहीं है। इससे पहले भी ऐसी कई घटनाएं सामने आ चुकी है जिसमें आवारा पशुओं की वजह से राहगीरों की मौत हो चुकी है।

आवारा पशुओं की वजह से 11 वर्षीय बच्चे की मौत

शाहाबाद के विधायक रामकरण काला ने कहा कि यह एक बहुत ही दर्दनाक घटना है। जिसमें आवारा पशुओं की वजह से 11 वर्षीय बच्चे की मौत हो गई।विधायक ने स्थानीय प्रशासन पर आरोप लगाया है कि वह आवारा पशुओं पर लगाम नहीं लगा रहे। अगर समय रहते ही आवारा पशुओं को पकड़कर गौशाला में डाला जाता तो आज इस बच्ची की मौत नहीं होती। मैं परिवार के प्रति संवेदना व्यक्त करता हूं.मैं सरकार से अपील करता हूं कि जिले में जितने भी आवारा पशु घूम रहे हैं उनको जल्द पकड़कर गौशाला में डालने का काम करें। जिससे सड़क पर चलते हुए लोग अपने आप को सुरक्षित महसूस करें।

अगर सरकार की बात करें सरकार आवारा पशुओं पर लगाम लगाने की बात करती है और फंड भी जारी किया जाता है लेकिन फिर भी हजारों की संख्या में आवारा पशुओं सड़कों पर घूमते हुए दिखाई देते हैं। जो आमजन के लिए एक बड़ा खतरा बने हुए हैं।

ये भी पढ़ें : रोहतक पुलिस ने चलाया नाइट डोमिनेशन अभियान

Connect With Us: Twitter Facebook

 

SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular