Homeहरियाणाकरनालअतिरिक्त आयुक्त ने इंजीनियरों के साथ डिस्पोजल स्थलों का किया निरीक्षण

अतिरिक्त आयुक्त ने इंजीनियरों के साथ डिस्पोजल स्थलों का किया निरीक्षण

प्रवीण वालिया, Karnal News: मानसून के दौरान शहर में जल भराव की समस्या न हो, इससे बचने के लिए नगर निगम कई दिनो से ठोस उपाय करने में लगा है। इसके तहत छोटे-बड़े सभी नालों की सफाई, डिस्पोजल स्थलों पर जरूरत अनुसार अतिरिक्त जेनरेटर सेट और मोटरों की व्यवस्था तथा सबसे अहम मुगल कैनाल के एन.एच.-44 से आगे भाग की पोकलेन मशीन से सफाई और इसे चोड़ा करने का कार्य किया जा रहा है।

ये भी पढ़ें : एसिड अटैक : तीन लोगों ने एक युवक पर फेंका तेजाब , गंभीर हालत में अस्पातल में भर्ती , आरोपी फरार

पोकलेन मशीन और टै्रक्टर से भी सफाई का काम जोरों से किया जा रहा है

सोमवार को निगम के अतिरिक्त आयुक्त गौरव कुमार ने इंजीनियरिंग विभाग के जेई से लेकर एक्सईएन तक को साथ लेकर शहर के सभी ऐसे चिन्हित स्थलों का दौरा किया, जहां बारिश के दिनो में जल भराव हो जाता है। मुख्य अभियंता महीपाल सिंह भी दौरे में मौजूद रहे। दौरे में उन्होंने एन.एच. को क्रॉस करती मुगल कैनाल के आगे के हिस्से को चैक किया, यहां पोकलेन मशीन से नाले में जमी गाद को निकालने की कार्रवाई पिछले कई दिनो से जारी थी। खास बात यह है कि अब इसकी चौड़ाई भी करीब दोगुनी की जा रही है, ताकि बारिश के दिनो में इसके बहाव की क्षमता ठीक से बनी रहे। दूसरी ओर मुगल कैनाल के शहरी क्षेत्र के हिस्से में पक्की जगहों पर पोकलेन मशीन और टै्रक्टर से भी सफाई का काम जोरों से किया जा रहा है।

छोटे-बड़े सभी नालों की सफाई, 6 अतिरिक्त जेनसेट

अतिरिक्त आयुक्त ने चिलचिलाती धूप में नगर निगम क्षेत्र के करीब 2 दर्जन स्थलों का दौरा किया, जिसमें करीब 6 घण्टे व्यस्तता बनी रही। उन्होंने चैकिंग के दौरान सम्बंधित इंजीनियरों को निर्देश दिए कि मई अंत तक सभी छोटी-बड़ी नालियां अच्छे से साफ हों। सेनीटेशन अधिकारी महावीर सोढी को निर्देश दिए कि इस काम के लिए एक नाला गैंग को तैयार करें। उन्होंने कहा कि नगर निगम के उपायों के बाद भी जिस वार्ड में जल भराव की समस्या पेश आएगी, उसके लिए सम्बंधित कार्यकारी अभियंता जिम्मेदार होंगे। अच्छा होगा कि अभी से जरूरत अनुसार पानी निकासी के संसाधन खरीद लिए जाएं। उन्होंने जोर देकर कहा कि नगर निगम के अधीन 44 रेन वाटर हार्वेस्टर (वर्षा जल संचयन) हैं, अगले एक सप्ताह में इनकी समूचित तरीके से सफाई हो जानी चाहिए, जरूरत पड़े तो इनकी मेन्टेनेन्स का टैण्डर लगाया जा सकता है। इसी प्रकार मानसून के दिनो में पौधारोपन भी बड़े स्तर पर करवाया जाए, इसके लिए उन्होंने निगम के हाल्टीकल्चर एक्सईएन को निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि 6 नए जेनरेटर सेट खरीद लिए जाएं, इनकी टैण्डर प्रक्रिया पूरी हो चुकी है।

उपायो के लिए दिए निर्देश

अतिरिक्त आयुक्त ने सबसे पहले बलड़ी बाईपास और इसके आस-पास एन.एच. के स्टोरम वाटर नालों का निरीक्षण किया। इनमें सफाई की दरकार का आभास होते ही उन्होंने एन.एच. के सेक्शन इंजीनियर भानू प्रताप को फोन कर निर्देश दिए कि वे इनकी सफाई को सुनिश्चित बनाएं। बलड़ी बाईपास पर स्थित एक डिस्पोजल का भी निरीक्षक किया। हालांकि इसकी कंडीशन सही थी, लेकिन इस जगह पर एक ओर मोटर की व्यवस्था करने के लिए उन्होंने निगम अधिकारियों को निर्देश दिए। उन्होंने अम्बेड़कर चौक से एनडीआरआई चौक तक स्टोरम वाटर की लाईनो को चैक किया। उन्होंने नए बस स्टैण्ड के साथ लगते आईडीटीआर के सामने सिंचाई विभाग की ड्रेन का भी निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान पाया गया कि इसे सफाई की जरूरत है और निर्देश दिए कि इसकी सफाई करवाई जाए। आई.टी.आई. चौक पर मौजूद अंडर स्पेस में बारिश के दिनो में जलभराव की समस्या से निपटने के लिए उन्होंने इसका निरीक्षण किया और जल निकासी की लाईन ब्लॉक पाई गई। उन्होंने इसकी सफाई करवाने के निर्देश दिए।

बिजली की मोटरें और पाईप खरीदने के दिए निर्देश

कुंजपुरा रोड स्थित नीलोखेड़ी विधायक के आवास से लेकर मॉडल टाऊन की ओर आने वाले नाले का भी अतिरिक्त आयुक्त ने निरीक्षण किया और बताया कि इसकी रिमॉडलिंग की जाएगी। उन्होंने सेनीटेशन अधिकारी को निर्देश दिए कि ड्रेन की सफाई करवाएं और इस पर एक जाली लगवाई जाए, ताकि उसमें फसे कूड़े-कचरे को निकालकर जल प्रवाह को बनाए रखा जा सके। उन्होंने दयानंद कॉलोनी में जाकर एक लो-लाईन एरिया को देखा, जो बारिश के दिनो में पानी से भर जाता है। इसके उपाय के लिए उन्होंने इंजीनियरों को निर्देश दिए कि इसकी निकासी के लिए पम्प लगाए जाएं। ऐसे कामो के लिए निगम के कर्मचारी और पम्प का पर्याप्त इंतजाम हो। अतिरिक्त आयुक्त ने अटल पार्क में बने डिस्पोजल नम्बर-7 की हालत का जायजा लिया। दौरे में मौजूद अधिकारियों ने बताया कि इसे समूचित बनाने के लिए नगर निगम की ओर से टैण्डर लगाया गया है, जिसमें क्षतिग्रस्त मोटर की जगह नई मोटर ली जाएगी।

कुओं की भी सफाई करवाई जाए

उन्होंने सेक्टर-4 स्थित जी.टी. के साथ लगते एक डिस्पोजल पाँयट का भी निरीक्षण किया, यहां एक मोटर खराब पाई गई। तीन डिस्पोजल वेल को भी सफाई की दरकार थी। उन्होंने निर्देश दिए कि खराब मोटर को ठीक करवाएं और कुओं की भी सफाई करवाई जाए। उन्होंने मेरठ रोड स्थित मुगल कैनाल पुलिया की भी सफाई करवाने के निर्देश दिए। दौरे में सेक्टर-6 डिस्पोजल पाँयट पर तीनो मोटरों की हालत सही पाई गई। उन्होंने यहां एक अतिरिक्त जेनसेट लगाए जाने के निर्देश दिए। इसी प्रकार सेक्टर-14 डिस्पोजल नम्बर-5 भी ठीक हालत में पाया गया। उन्होंने सेनीटेशन अधिकारी को निर्देश दिए कि शहर में जितने भी डिस्पोजल पाँयट हैं, सभी जगहों की सफाई करवाई जाए। इंजीनियरों से कहा कि सभी जगहों पर एक-एक कर्मचारी मौजूद रहे और सभी इंतजाम स्टैण्ड बाई सुनिश्चित रहें। उन्होंने डिस्पोजल पाँयट नम्बर-1, 2, 3 व 4 का भी निरीक्षण किया और उनकी मेन्टेनेन्स चैक की। सभी जगह कंडीशन ओके पाई गई।

प्रेम नगर स्थित डिस्पोजल स्थल का दौरा किया

इसके पश्चात अतिरिक्त आयुक्त ने सेक्टर-13 स्थित गीता मंदिर के पास जल भराव स्थल का दौरा किया और इस पाँयट पर 2 वर्षा जल संचयन बनाने के लिए टैण्डर लगाने के निर्देश दिए। उन्होंने सेक्टर-13 ग्रीन बेल्ट स्थित रेन वाटर हार्वेस्टर की सफाई करवाने के निर्देश दिए। सेक्टर-6 शिव मंदिर क्षेत्र में पानी निकासी के लिए पार्क में नया रेन वाटर हार्वेस्टर लगाने बारे कहा। इसके पश्चात उन्होंने प्रेम नगर स्थित डिस्पोजल स्थल का दौरा किया, जिसकी स्थिति सही पाई गई।

इस दौरे में ये सभी रहे मौजूद

दौरे में उनके साथ कार्यकारी अभियंता अक्षय भारद्वाज, सतीश शर्मा, मोनिका शर्मा व नरेश त्यागी, सहायक अभियंता सुनील भल्ला, सतीश मित्तल व मदन मोहन गर्ग तथा कनिष्ठ अभियंता प्रदीप कुमार, कृष्ण कुमार, प्रदीप कुमार, सोहन सिंह तथा राम निवास भोरिया मौजूद रहे।

ये भी पढ़ें : पुलिस भर्ती पेपर लीक मामले में चार और युवक गिरफ्तार , एसआईटी के हाथ लगी बड़ी सफलता , कई राज्यों से जुड़े है तार

ये भी पढ़ें : महिला सशक्तिकरण, नई शिक्षा नीति नामक शीर्षक पर क्लास रूम एक्टिविटी आयोजित

ये भी पढ़ें : कौशल रोजगार निगम के विरोध में 27 मई को विरोध प्रदर्शन करेगा सर्व कर्मचारी संघ हरियाणा : जरनैल सिंह

Connect With Us : Twitter Facebook

SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular