17th Vande Bharat: पीएम ने बंगाल को दूसरी, ओडिशा को दी पहली वंदे भारत की सौगात

0
558
17th Vande Bharat
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी।

Aaj Samaj (आज समाज), 17th Vande Bharat, नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को पश्चिम बंगाल और ओडिशा के लोगों को ‘वंदे भारत ट्रेन’ की सौगात दी। पीएम ने वर्चुअली ओडिशा के पुरी-हावड़ा रूट पर वंदे भारत एक्सप्रेस को हरी झंडी दिखाई। यह ट्रेन हावड़ा और पुरी के बीच 500 किलोमीटर की दूरी लगभग साढ़े छह घंटे में तय करेगी। ट्रेन को जब हरी झंडी दिखाई गई उस समय रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव खुद पुरी स्टेशन पर उपस्थित रहे। पीएम मोदी ने कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि और ओडिशा और बंगाल के लोगों को ‘वंदे भारत ट्रेन’ का उपहार मिल रहा है।

वंदे भारत गति व प्रगति का प्रतीक

पीएम ने कहा, ‘वंदे भारत ट्रेन’ आधुनिक भारत और आकांक्षी भारतीय दोनों का प्रतीक बन रही है। प्रधानमंत्री ने कहा, आज जब ‘वंदे भारत’ एक स्थान से दूसरे स्थान पर यात्रा करते हुए गुजरती है तो उसमें भारत की गति और प्रगति दिखाई देती है। उन्होंने कहा, इस अमृतकाल में वंदे भारत ट्रेनें विकास का इंजन भी बन रही हैं और ‘एक भारत-श्रेष्ठ भारत’ की भावना को भी आगे बढ़ा रही हैं। बीते सालों में भारत ने कठिन से कठिन वैश्विक हालातों में भी अपने विकास की गति को बनाए रखा है। इसके पीछे एक बड़ा कारण है कि इस विकास में हर रा emas168 ज्य की भागीदारी है। देश हर राज्य को साथ लेकर आगे बढ़ रहा है।

टेक्नोलॉजी भी खुद बना रहा आज का नया भारत

प्रधानमंत्री ने कहा, आज का नया भारत टेक्नोलॉजी भी खुद बना रहा है और नई सुविधाओं को भी तेजी से देश के कोने-कोने में पहुंचा भी रहा है। ये वंदे भारत ट्रेन भी भारत ने अपने बलबूते ही बनाई है। प्रधानमंत्री ने पुरी और कटक रेलवे स्टेशनों के पुनर्विकास की आधारशिला भी रखी। इसके साथ ही कई रेलवे परियोजनाओं का शिलान्यास भी किया।
अपने संबोधन में पीएम ने यह भी कहा कि बीते आठ से नौ वर्ष में ओडिशा में रेल परियोजनाओं के बजट में काफी वृद्धि की गई है। 2014 से पहले पिछले दस वर्ष में यहां हर साल औसतन 20 किलोमीटर के आसापास ही रेल लाइनें बिछाई जाती थीं, जबकि 2022-23 में यहां पर 120 किलोमीटर के आसपास रेल लाइनें बिछाई गई हैं।

साढ़े छह घंटे में 500 किमी का सफर

पश्चिम बंगाल के लिए यह दूसरी ‘वंदे भारत ट्रेन’ है। इससे पहले राज्य में हावड़ा से न्यू जलपाईगुड़ी के बीच वंदे भारत एक्सप्रेस ट्रेन को हरी झंडी दिखाई गई थी। हावड़ा-पुरी वंदे भारत एक्सप्रेस साढ़े 6 घंटे में 500 किलोमीटर की दूरी तय करेगी। गाड़ी संख्या 22895/22896 वंदे भारत एक्सप्रेस 20 मई से रोजाना यात्रियों की सेवा के लिए पटरियों पर दौड़ेगी। ये ट्रेन हफ्ते में 6 दिन पटरियों पर दौड़ेगी। गुरुवार को हावड़ा-पुरी वंदे भारत एक्सप्रेस ट्रेन नहीं चलेगी। ट्रेन हावड़ा से सुबह 6:10 पर रवाना होगी और दोपहर में 12.35 पर पुरी पहुंचेगी। वहीं, वापसी में ये गाड़ी पुरी से दोपहर 1.50 पर रवाना होगी और रात 8.30 बजे हावड़ा पहुंचेगी।

वंदे भारत ट्रेन की स्पीड 160 किलोमीटर प्रतिघंटा

बता दें, वंदे भारत एक्सप्रेस भारत में एक हाई स्पीड ट्रेन है। यह देश की पहली सेमी हाई स्पीड ट्रेन है, जिसकी अधिकतम स्पीड 160 किलोमीटर/घंटा है। ट्रेन पूरी तरह भारत में डिजाइन और मैन्युफैक्चर की गई है, जिसमें 80 फीसदी उत्पादों को स्वदेशी बनाया गया था। ट्रेनें अत्याधुनिक सुविधाओं से लैस हैं। इनमें जीपीएस आधारित सूचना सिस्टम, सीसीटीवी कैमरे, वैक्यूम आधारित बायो टॉयलेट, आॅटोमैटिक स्लाइडिंग डोर और हर कोच में चार आपातकालीन पुश बटन हैं।

कठिन वैश्विक हालातों में भी देश में विकास की गति बरकरार

प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत ने कठिन से कठिन वैश्विक हालातों में भी देश में विकास की गति को बरकरार रखा है। इसका साफ उदाहरण कोरोनाकाल है। उन्होंने कहा कि भारत ने कोरोना जैसी वैश्विक महामारी की स्वदेशी वैक्सीन तैयार करके दुनिया को चौंका दिया था। सरकार के इन सभी प्रयासों में समान बात यह है कि ये सभी सुविधाएं एक राज्य या शहर तक सीमित नहीं रहीं बल्कि देश के हर आदमी के पास बहुत जल्दी पहुंची।

इसके पीछे बड़ा कारण यह है कि इस विकास में हर राज्य की बड़ी भागीदारी है। देश हर राज्य को साथ लेकर आगे बढ़ रहा है। पीएम ने कहा, आज वंदे भारत ट्रेन भी उत्तर से लेकर दक्षिण और पूर्व से लेकर पश्चिम तक देश के हर किनारे को स्पर्श करती है। आज का नया भारत टेक्नोलॉजी भी खुद बना रहा है और सुविधाओं को देश के कोने-कोने तक बहुत तेजी से पहुंचा रहा है। इसका उदाहरण 5जी टेक्नोलॉजी है। भारत आज अपने बलबुते ही इस तकनीक को विकसित करके सुदूर क्षेत्र तक पहुंचा रहा है।

यह भी पढ़ें : Haryana में आफत बना बारिश, आंधी व तूफान, सैकड़ों पेड़ गिरे, 4 दिन बाद फिर पश्चिमी विक्षोभ

यह भी पढ़ें : Ratna Lal Kataria: पिता ज्योति राम के लिए वास्तव में रत्न बनकर जन्मे थे कटारिया

यह भी पढ़ें : Karnataka Political Crisis Update: सिद्धारमैया को कर्नाटक कमान, डीके डिप्टी सीएम

Connect With Us: Twitter Facebook

SHARE