Haryana में आफत बना बारिश, आंधी व तूफान, सैकड़ों पेड़ गिरे, 4 दिन बाद फिर पश्चिमी विक्षोभ

0
392
Haryana
आंधी-तूफान के कारण उखड़ा पेड़ व क्षतिग्रस्त गाड़ी।

Aaj Samaj (आज समाज), Haryana, चंडीगढ़: हरियाणा में बुधवार रात को आंधी आफत बनकर आई और अंबाला, सोनीपत, फतेहाबाद और पानीपत, रोहतक, रेवाड़ी व चरखी दादरी समेत राज्य के अधिकतर जिलों में सैकड़ों पेड़ टूट गए। बिजली के खम्भे गिर गए और कई जगह बिजली गुल होने से लोगों को खासी दिक्कतों का सामना करना पड़ा।

प्रदेश के अधिकतर जिलों के लिए अब भी अलर्ट

मौसम विभाग के अनुसार नए पश्चिमी विक्षोभ के सक्रिय होने के चलते प्रदेश में मौसम ने एक बार फिर करवट ली है और अब भी राज्य के ज्यादातर जिलों में अलर्ट है। महेंद्रगढ़, रेवाड़ी, पंचकूला, फरीदाबाद व गुरुग्राम को छोड़ कर अन्य सभी जिलों में मौसम विभाग ने अलर्ट जारी किया है। सूत्रों के अनुसार सिरसा में सबसे ज्यादा 700 पेड़ उखड़े। कई जिलों में रात को तेज आंधी के साथ बारिश होती रही और कई जगह ओले भी गिरे, जिससे तापमान कम हो गया। आंधी तूफान के बीच हिसार में रात का पारा गिरकर 11.5 डिग्री पर पहुंच गया था।

मौसम विभाग को रात को कई बार अलग-अलग क्षेत्रों के लिए अलर्ट जारी करना पड़ा। फतेहाबाद जिले में भी रात को आए तूफान ने जमकर तबाही मचाई। शहर में रात साढ़े 12 बजे से बाधित हुई बिजली व्यवस्था सुबह 6 बजे बहाल हुई। मौसम खराब रहने के बाद भी प्रदेश में अधिकतम तापमान में कोई ज्यादा गिरावट दर्ज नहीं की गई।

राहत लेकिन उमस कर रही परेशान

लोगों को बारिश और बूंदाबांदी से राहत तो मिल रही है, लेकिन उमस भी परेशान कर रही है। एक घंटे में सिरसा के डबवाली में एक एमएम बारिश हुई है। रात को तीन बजे तक कुरुक्षेत्र में 3.3 एमएम, सोनीपत में 1 एमएम, यमुनानगर में 3 एमएम और पंचकूला में 0.5 एमएम बारिश रिकॉर्ड हुई है। इसके अलावा कई अन्य जिलों में भी आंधी तूफान के साथ बूंदाबांदी हुई।

23 से फिर प्रभावी होगा नया पश्चिमी विक्षोभ

शुक्रवार को आसमान साफ रह सकता है लेकिन 4 दिन बाद फिर हरियाणा को एक और ताजा पश्चिमी विक्षोभ प्रभावित करेगा। 23 मई को नए पश्चिमी विक्षोभ के उत्तरी पर्वतीय क्षेत्रों पर सक्रिय होने के कारण दिल्ली-एनसीआर व हरियाणा में एक बार फिर से तेज हवाएं चलेंगी। हल्की से मध्यम बारिश होगी और एक दो जगह गरज चमक के साथ ओलावृष्टि भी हो सकती है। 26 मई तक प्रदेश में मौसम खराब रहेगा। इसका असर नौतपा पर भी पड़ेगा और मौसम विशेषज्ञों का मानना है कि नौतपा पूरे प्रदेश को नहीं तपा पाएगा।

यह भी पढ़ें : Tesla Car Company: इलेक्ट्रिक कार बनाने वाली कंपनी टेस्ला की जल्द होगी भारत में एंट्री!

यह भी पढ़ें : Ratna Lal Kataria: पिता ज्योति राम के लिए वास्तव में रत्न बनकर जन्मे थे कटारिया

यह भी पढ़ें : Karnataka Political Crisis Update: सिद्धारमैया को कर्नाटक कमान, डीके डिप्टी सीएम

Connect With Us: Twitter Facebook

 

SHARE