Homeराज्यहिमाचल प्रदेशGovernor Released Three Books राज्यपाल ने किया तीन पुस्तकों का विमोचन

Governor Released Three Books राज्यपाल ने किया तीन पुस्तकों का विमोचन

Governor Released Three Books

आज समाज डिजिटल, शिमला
राज्पाल राजेंद्र विश्वनाथ आर्लेकर ने रविवार को राजभवन में फल विज्ञान विभाग, औद्योनिकी एवं वानिकी महाविद्यालय नेरी, हमीरपुर द्वारा राष्ट्रीय कृषि विकास परियोजना के तहत शीतोष्ण फलों की बागवानी एवं कृषि से सम्बन्धित नवीनतम तकनीकी जानकारी पर आधारित तीन पुस्तकों का विमोचन किया।

Governor Released Three Books

इस अवसर पर राज्यपाल ने कहा कि यह पुस्तकें प्रदेश एवं देश के अन्य भागों में इन फलों की खेती करने वाले किसानों तथा बागवानी विषय में शिक्षा प्राप्त कर रहे विद्यार्थियों के लिए सुलभ व्यवहारिक ज्ञान से परिपूर्ण हैं। उन्होंने कहा कि हिमाचल प्रदेश की जलवायु विभिन्न प्रकार के फलदार पौधों की खेती के लिए उपयुक्त है। यहां पर उपोष्ण जलवायु से लेकर विशेष शीतोष्ण जलवायु पाया जाता है, जो कि बागवानी के व्यापक आधार को दर्शाता है।

Governor Released Three Books

राज्यपाल ने कहा कि बागवानी को यहां पर एक मुख्य व्यवसाय के रूप में अपनाया जा रहा है जो कृषि क्षेत्र में खाद्य सुरक्षा और संतुलित पोषण के लिए महत्वपूर्ण है। हिमाचल प्रदेश के निचले पर्वतीय क्षेत्रों में सरकार द्वारा किए जा रहे बागबानी क्षेत्र के प्रसार में अमरूद एवं लीची पर आधारित यह दोनों पुस्तकें निश्चित तौर पर किसान बागवानों के लिए मार्गदर्शन का कार्य करेंगी। उन्होंने कहा कि पुस्तकों में दी गई जानकारी से इन फसलों की उत्पादन एवं उत्पादकता तथा किसानों की शुद्ध आय की बढ़ौतरी में सहायक होगीं।

Governor Released Three Books

पहली पुस्तक “पर्वतीय क्षेत्रों में अमरूद की खेती जिसके लेखक डॉ. सोम देव शर्मा, डॉ. विकास कुमार शर्मा, डॉ. के.के. श्रीवास्तव एवं डॉ. शैलेन्द्र कुमार यादव हैं। इस पुस्तक में हिमाचल प्रदेश के शीतोष्ण क्षेत्रों में अमरूद की खेती की आधुनिक नवीनतम तकनीकी पर विस्तृत जानकारी दी गई है। दूसरी पुस्तक “पर्वतीय क्षेत्रों में लीची की खेती“ शीर्षक से प्रकाशित की गई है, जिसका लेखन डॉ. सोम देव शर्मा एवं डॉ. विकास कुमार शर्मा द्वारा किया गया है।

Governor Released Three Books

एक अन्य पुस्तक “कृषि में आत्मनिर्भरता- ग्राम स्वावलम्बन एवं सतत् विकास”शीर्षक से प्रकाशित है, जिसके लेखक डॉ. सोम देव शर्मा, डॉ. विकास कुमार शर्मा एवं डॉ. आशुतोष हैं। यह पुस्तक मुख्य रूप से पर्वतीय क्षेत्रों की भौगोलिक संरचना पारिस्थितिकी, जलवायु तथा प्राकृतिक संसाधनों के दृष्टिगत उपयुक्त कृषि एवं कृषि से सम्बन्धित विविध आयामों की तर्कसंगत और पर्यावरण सम्मत समन्वित खेती के चिन्तन को इंगित करती है। भारतीय किसान संघ के प्रदेश संगठन मंत्री हरि राम भी उपस्थित थे।

Governor Released Three Books

Read Also : Statement Of Dr. Anita हमें अपने देश में अधिक से अधिक रिसर्च कर शोध पेपर प्रस्तुत करने चाहिएं : डॉ. अनिता

Read Also : 40th Covid Vaccination Camp वैद्य केसरदास सेवा समिति ने लगाया हैल्थ चौकअप और 40वॉ कोविड वैक्सीनेशन कैम्प

Connect With Us: Twitter Facebook

SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular