Homeहरियाणायमुनानगरसाईबर जालसाज नए-नए तरीकों से कर रहे धोखाधड़ी, सावधानी व जानकारी से...

साईबर जालसाज नए-नए तरीकों से कर रहे धोखाधड़ी, सावधानी व जानकारी से करे बचाव : एसपी

प्रभजीत सिंह लक्की, यमुनानगर :
एसपी मोहित हाण्डा ने बताया कि साईबर अपराध के प्रति आमजन को जागरूक करने के लिए जिला पुलिस द्वारा समय-समय पर विभिन्न तरीकों से आमजन को साइबर अपराध के व उनसे बचने के उपायों के बारे में बताकर जागरूक किया जा रहा है। जिला पुलिस द्वारा साइबर जालसाजों के नए तरीकों के बारे में भी आमजन को अवगत कराया जा रहा है और साथ ही उनसे बचने के उपाय भी बताए जा रहे हैं। क्रैकिंग पासवर्ड, पिन (एटीएमएस, पीओएस मशीन, कीपैड लॉक के साथ स्मार्ट दरवाजे आदि) के धोखेबाजों द्वारा एक नई आक्रमण तकनीक का उपयोग किया जा रहा है, जो हीट हस्ताक्षरों की जांच करके पासवर्ड दर्ज करते समय कीबोर्ड, स्क्रीन पर छोड़ देता है, ऐसे धोखाधड़ी में जालसाज थर्मल के संयोजन इमेजिंग और आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (एआई) का उपयोग करते हैं। अल एल्गोरिदम का उपयोग स्नैप्ड हीट सिग्नेचर के अनुसार पासवर्ड का सटीक अनुमान लगाने के लिए किया जाता है। सामान्य छवि थर्मल छवि पर क्षेत्र जितना उज्जवल दिखाई देता है, हाल ही में इसे छुआ गया होगा। जालसाजों द्वारा ऐसे सहसंबंधों का उपयोग करके एटीएम, पीओएस मशीन, कीपैड लॉक के साथ स्मार्ट दरवाजे आदि के पिन, पासवर्ड को तोड़ा जा रहा है।

साइबर ठगी होने पर राष्ट्रीय हेल्पलाइन नंबर 1930 पर शिकायत रजिस्टर्ड कराएं

जालसाज आम तौर पर उन एटीएम को निशाना बनाते हैं जो बिना गार्ड के होते हैं और वीडियो कैमरों से ठीक से निगरानी नहीं करते हैं। जालसाज अपने पीड़ितों के लिए वांछित सेवाओं का लाभ उठाने की प्रतीक्षा करते हैं (जैसे कि पैसा निकालना, जमा करना या भेजना)। जैसे ही पीड़ित एटीएम खाली करता है, जालसाज थर्मल-इमेजिंग कैमरे का उपयोग करके पिन दर्ज करने के लिए स्पर्श की गई बटन के हीट सिग्नेचर को रिकॉर्ड करने के लिए तस्वीरें, वीडियो लेता है।

जालसाजों द्वारा कभी-कभी हीट सिग्नेचर को रीयल- टाइम में कैप्चर करने के लिए एटीएम के अंदर एक कैमरा भी लगाया जाता है। एक क्षेत्र (एक कुंजी का) का ताप संकेत जितना अधिक गर्म होता है, उतना ही हाल ही में इसे छुआ गया था, जो जालसाजों को संभावित पिन संयोजनों को निर्धारित करने में सफल बनाता है। विभिन्न दुकानों / रेस्तरां में इस्तेमाल किए जा रहे कीपैड लॉक के स्मार्ट दरवाजे और पीओएस मशीनों का उपयोग करने वाले भी इस तरह के तरीकों के प्रति संवेदनशील हैं। इस तरह की धोखाधड़ी करने के लिए धोखेबाजों द्वारा कार्ड स्किमिंग,असुरक्षित वाई-फाई नेटवर्क हैकिंग (भुगतान / सदस्यता के लिए इस्तेमाल किया जा रहा है), मैलवेयर, फिशिंग लिंक या डेटा उल्लंघनों आदि के साथ आम तौर पर पूर्वोक्त विधि का उपयोग किया जाता है।

बचने के उपाय

1.ऐसे एटीएम के उपयोग से बचें जो बिना सुरक्षा के हैं और वीडियो कैमरों से ठीक से निगरानी नहीं करते हैं।
2.किसी भी सदिग्ध अटैचमेंट (एटीएम कमरे की दीवारों या मशीन में) के लिए हमेशा एटीएम की जांच करें। पिन दर्ज करते समय कीपैड क्षेत्र छुपाएं।
3.एटीएम मशीन / पीओएस मशीन / स्मार्ट लॉक को छोड़ने से पहले गैर सार्थक हीट सिग्नेचर उत्पन्न करने के लिए कई रैंडम नंबर कुंजियां (बटन) दवाएं।
4.किसी भी लेन-देन के संबंध में अपने बैंक द्वारा भेजे गए एसएमएस और ईमेल की ठीक से जांच करें, यदि कोई संदिग्ध लेनदेन देखा जाता है तो तुरंत अपने बैंक से संपर्क करें।

ये भी पढ़ें : आरपीएस स्कूल में प्रतियोगिताओं के विजेता विद्यार्थियों को किया सम्मानित

ये भी पढ़ें :राज्य के सभी खण्डों के स्कूलों में 95 करोड़ के खरीदे जाएंगे ड्यूल डैस्क : शिक्षा मंत्री

ये भी पढ़ें : अंतर्राष्ट्रीय गीता जयंती महोत्सव पर श्री राम मंदिर के स्टाल पर लगी है भारी भीड़

ये भी पढ़ें : मिशन महेंद्रगढ़ अपना जल अभियान के तहत एसडीएम ने किया पौधारोपण

Connect With Us: Twitter Facebook
SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular