HomeहरियाणासिरसाExam in Police Security: पुलिस सुरक्षा में 10वीं की परीक्षा देने स्कूल...

Exam in Police Security: पुलिस सुरक्षा में 10वीं की परीक्षा देने स्कूल पहुंचा पीड़ित छात्र

आरोपियों ने दी थी घर को जलाने और छात्र को पेपर नहीं देने की धमकी Exam in Police Security

दलित परिवार के घर के बाहर पुलिस की गाड़ी तैनात

आज समाज डिजिटल, सिरसाः

Exam in Police Security: गांव शाहपुरिया के पीडि़त दलित परिवार को पुलिस अधीक्षक ने सुरक्षा प्रदान कर दी है। परिवार के घर के पास पुलिस कर्मी तैनात हैं।(Exam in Police Security) इसके अलावा पीडि़त छात्र वीरवार को पुलिस सुरक्षा में दसवीं के सरकारी स्कूल में परीक्षा देने पहुंचा। जब तक पेपर चला आधुनिक हथियार से लैस पुलिस कर्मी परीक्षा केंद्र में मौजूद रहा। बता दें कि दबंगों द्वारा दी गई घर को आग लगाने की धमकी के कारण गांव शाहपुरिया से एक दलित परिवार बुधवार को गांव छोडऩे पर मजबूर हो गया था।

परिवार के 40 लोग सुबह पुलिस सुरक्षा की मांग को लेकर पुलिस अधीक्षक कार्यालय में पहुुंचे,लेकिन उन्हें सुरक्षा नहीं मिली। इसके बाद पीडि़त परिवार जिला एवं सत्र न्यायालय में पहुंचा और अपनी वकील एडवोकेट संजू बाला व ज्योति बतरा के माध्यम से पुलिस सुरक्षा दिए जाने की गुहार लगाई। याचिका को गंभीरता से लेते हुए जिला एवं सत्र न्यायाधीश राजेश मलहोत्रा ने पुलिस अधीक्षक सिरसा को निर्देश जारी किए कि पीडि़त परिवार को तुरंत प्रभाव से सुरक्षा दी जाए। इसके अलावा पीडि़त नाबालिग छात्र को पुलिस सुरक्षा में दसवीं कक्षा की परीक्षा में बैठाने के निर्देश जारी किए।

पुलिस आरोपियों पर दर्ज कर चुकी है एफआईआर

Exam in Police Security

26 मार्च को चौपटा थाना पुलिस ने दलित नाबालिग छात्र से मारपीट करने व स्कूल से उसका नाम काटने के आरोप में गांव शाहपुरिया राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय के प्रिंसिपल बलजीत सिंह सहित करीब 10 आरोपियों के खिलाफ विभिन्न धाराओं के तहत केस दर्ज किया था,लेकिन आरोपियों की गिरफ्तारी नहीं हुई। उपायुक्त के निर्देश पर प्रिंसिपल ने पीडि़त छात्र को दसवीं की परीक्षा देने के लिए एडमिट कार्ड जारी कर दिया। इसके बाद आरोपी छात्र के परिवार को धमकी देने लगे कि चाहे जो भी हो जाए, छात्र को परीक्षा नहीं देने देंगे और तुम्हारे घर को आग लगा देंगे।

जातीय भेदभाव के कारण की पिटाई

पीडि़त नाबालिग छात्र के पिता विजय  निवासी गांव शाहपुरिया ने बताया है कि उसका 15 वर्षीय पुत्र गांव के राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय में कक्षा दसवीं में पढ़ता है। उसकी कक्षा में पढऩे वाला एक छात्र उसके साथ जातीय भेदभाव रखता है। पिछले दिनों स्कूल में पेपर था। पेपर में उसके पुत्र के अच्छे नंबर आए। एक मार्च 2022 को उक्त छात्र उनके घर आया और बाइक पर उसके पुत्र को बैठाकर ले गया।

कुछ देर बाद उक्त छात्र फिर घर आया और कहा कि उसके पिता विक्रम ने आपको बुलाया है। विजय सिंह का कहना है कि उक्त छात्र उसे गांव के बाहर खेत में ले गया,यहां उसका पुत्र भी मौजूद था। इसके बाद यहां पहले से मौजूद विक्रम ने अपने साथियों के साथ विजय  व उसके नाबालिग पुत्र के साथ मारपीट शुरू कर दी। पिता-पुत्र ने मुश्किल से अपनी जान बचाकर यहां से भागे। अगले दिन विजय का पुत्र स्कूल गया तो प्रिंसिपल ने उसे आने से रोक दिया।

 

Read Also : रणबीर कपूर और आलिया भट्ट की अप्रैल में सगाई, दिसंबर में शादी Ranbir-Alia Engagement

Read Also : फैंस ने सोशल मीडिया के जरिए ‘शर्माजी नमकीन’ पर आपने रिव्यू दिए ‘Sharmaji Namkeen’ Twitter Review

Connect With Us : Twitter Facebook

SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular