Homeहरियाणापानीपतऐसा कार्य करें जिससे लोग हमें 100 वर्षों तक याद रखें: यशपाल...

ऐसा कार्य करें जिससे लोग हमें 100 वर्षों तक याद रखें: यशपाल शर्मा

आज समाज डिजिटल, पानीपत : 

पेंटिग, गायन एवं नृत्य प्रतियोगिता का आयोजन

आईबी स्नातकोत्तर महाविद्यालय में दो दिवसीय प्रतिभा खोज प्रतियोगिता का आयोजन बड़े हर्षोल्लास के साथ किया गया। दूसरे दिन पेंटिग, गायन एवं नृत्य प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। इसमें विद्यार्थियों ने बढ़-चढ़कर भाग लिया और प्रतिभा का बेहतरीन प्रदर्शन कर सभी का मन मोह लिया। इस कार्यक्रम प्रतियोगिता का प्रारंभ प्राचार्य डॉ अजय कुमार गर्ग के कर-कमलों द्वारा माँ सरस्वती की प्रतिमा के समक्ष दीप-प्रज्जवलित करके किया गया। कालेज प्राचार्य डॉ अजय कुमार गर्ग ने अपने संबोधन में विद्यार्थियों का उत्साहवर्धन करते हुए कहा कि इस प्रकार के आयोजन करने से विद्यार्थियों को अपने समाज और देश की संस्कृति से अवगत करवाना और भावी जीवन के लिए समाजिकता की भावना भरना है। हर व्यक्ति एक हुनर लेकर पैदा होता है, बस उस हुनर को दुनिया के सामने लाने के लिए मंच की जरूरत होती है। मंच के माध्यम से छात्र का संकोच तो दूर होगा ही साथ में छिपी हुई प्रतिभा भी निखर बाहर आएगी।

कॉलेज कांड वैब सीरिज के बारे में बताया

इस कार्यक्रम में एक नया रंग भर गया जब हिंदी सिनेमा के अभिनेता यशपाल शर्मा महाविद्यालय प्रांगन में पहुंचे। यशपाल शर्मा ने मुख्य अतिथि की भूमिका निभाते हुए अपनी कॉलेज कांड वैब सीरिज के बारे में बताया। उन्होंने कहा कि हमें 100 वर्षों तक जीवित रहने की जरूरत नहीं, हम एक दिन में भी ऐसा कार्य कर सकते हैं जिसे लोग 100 वर्षों तक याद कर सकते हैं। यशपाल शर्मा जी ने कॉलेज कांड वैब सीरिज के बारे में बताते हुए सीरिज के अन्य कलाकारों से मिलाया। सभी कलाकारों ने सीरिज के डायलॉग के साथ-साथ टाइटल सॉन्ग के साथ सॉन्ग से भी विद्यार्थियों का भरपूर मनोरंजन किया। उप-प्राचार्या डॉ. मधु शर्मा ने कहा कि इस प्रकार के कार्यक्रम से विद्यार्थियों में सामाजिकता, नेतृत्व गुण, सहनशीलता की भावनाएं विकसित होने के साथ-साथ सर्वांगीण विकास होता है। डॉ. सुनित शर्मा एवं डॉ. निधान सिंह जी ने कहा कि वर्तमान युग प्रतियोगिता का युग है। इस प्रकार की प्रतियोगिता में हिस्सा लें। विद्यार्थी अपनी अद्भुत प्रतिभा का परिचय दें।

अपने भावी जीवन में आने वाले संघर्षों और कठिनाइयों से मुकाबला करने के लिए तैयार होते हैं। इस कार्यक्रम में मंच का संचालन डॉ. विक्रम ने किया। इस प्रतियोगिता में पंजाबी, हरियाणवी, राजस्थानी, भोजपुरी आदि विभिन्न क्षेत्रों की सांस्कृतिक झलक देखने को मिली। गायन प्रतियोगिता में डॉ तरून जोशी, कुरूक्षेत्र विश्वविद्यालय और विवेक हंस (संगीत डायरेक्टर) ने निर्णायक मंडल की अहम भूमिका निभाई। नृत्य प्रतियोगिता में डॉ. शर्मिला यादव, प्रो. राजेश बाला, प्रो. रेखा शर्मा ने निष्पक्ष एवं तटस्थ रहते हुए अपना अंतिम निर्णय दिया। पेंटिग प्रतियोगिता में प्रो. रंजना शर्मा, डॉ. पूनम मदान, प्रो. ईरा गर्ग आदि निर्णायक मंडल की अहम भूमिका निभाई।

इस अवसर पर मौजूद रहे

इस अवसर पर प्रो. पी. के. नरूला, डॉ. मोहम्मद ईशाक, डॉ. रामेश्वर दास , डॉ. शशि प्रभा, डॉ. अर्पणा गर्ग, डॉ. सीमा, प्रो. नीलम, डॉ. सुनीता ढांडा, प्रो. अजयपाल, डॉ. जोगेश, प्रो. माधवी आदि मौजूद रहे।

ये भी पढ़ें : गौड़ ब्राह्मण डिग्री कॉलेज में कल होगा प्रवेश कार्यक्रम (इंडक्शन प्रोग्राम)

ये भी पढ़ें : भाजपा द्वारा आयोजित सेवा पखवाड़े में बच्चों को जल संरक्षण हेतु किया प्रेरित

Connect With Us: Twitter Facebook
SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular