Homeहरियाणामहेंद्रगढ़पांचवें दिन की कथा में हुआ श्रीकृष्ण बाल लीलाएं, श्रीगोवर्धन पूजा व...

पांचवें दिन की कथा में हुआ श्रीकृष्ण बाल लीलाएं, श्रीगोवर्धन पूजा व छप्पन भोग का वर्णन

नीरज कौशिक, महेंद्रगढ़ :
स्थानीय करेलिया बाजार में स्थित बाबा जयरामदास धर्मशाला में लाला ताराचंद मेहता परिवार की ओर से आयोजित श्रीमद्भागवत कथा अमृत महोत्सव में तपोभूमि हरिद्वार से पधारे महामंडलेश्वर श्रीश्री 1008 स्वामी विज्ञानानंद सरस्वती जी महाराज ने कथा के पांचवें दिन 5 भगवान श्रीकृष्ण की बाललीलाएं, माखनचोरी, इन्द्र का मान मर्दन, श्री गोवर्धन पूजा एवं 56 भोग की कथा का वर्णन किया ।

गोवर्धन महाराज की पूजा

Shri Govardhan Puja and Chappan Bhog
Shri Govardhan Puja and Chappan Bhog

इस दौरान मास्टर अमरसिंह सोनी के निर्देशन में बच्चों के द्वारा माखनचोर, मटकी फोड़ एवं कृष्ण द्वारा गोवर्धन पर्वत को उठाने की मनमोहक झांकियां भी पेश की। श्री गोवर्धन महाराज की कथा का वर्णन करते हुए गुरुजी ने बताया कि भगवान श्री कृष्ण ने गोवर्धन पर्वत को अपनी चिटली उंगली पर उठाकर मूसलाधार वर्षा से सभी भक्तों की रक्षा की और इंद्र का मान मर्दन किया । इस प्रकार गोवर्धन महाराज की पूजा प्रारंभ हुई और उन्हें छप्पन भोग का प्रसाद चढ़ने लगा ।

इस अवसर पर अनेक भक्त गण उपस्थित रहे

इस अवसर पर श्री गीता विज्ञान प्रचार समिति के प्रधान मुकेश मेहता, हरीराम मेहता, विजय मेहता, मदन लाल सोलूवाला, वरिष्ठ अधिवक्ता बुद्धि प्रकाश वशिष्ठ, चेतन प्रकाश गौड, कृष्ण दत्त मास्टर, महेश जोशी, नरेश गोयल, डा. रूपेंद्र यादव, मुरारी लाल अग्रवाल, सागर सोनी, शैलेंद्र वर्मा, पवन नांगलिया, कृष्ण कुमार मेहता, शिव चरण सर्राफ, श्याम लाल, रामचंद्र अग्रवाल, विश्वनाथ मिश्रा, हरीसिंह यादव, सुशील मेहता, मूलचंद शर्मा, राम प्रकाश शर्मा, दर्शन खुराना, सतीश बोहरा, प्रवक्ता अमरसिंह सोनी, राजेंद्र गौड़, राजेंद्र यादव, ओम प्रकाश चनेजा, अरविंद खेतान, सुनील कनोडिया, कृष्ण सोनी सहित अनेक भक्त गण उपस्थित थे।

ये भी पढ़ें : सन्निहित सरोवर को दर्शनीय स्थल बनाने के लिए तैयार किया जाएगा नया प्रोजेक्ट:सुधा

ये भी पढ़ें : उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला की अग्रणी सोच से प्रदेश में चल रही विकास की लहर : डा. खैहरा

ये भी पढ़ें : महिला विकास निगम के ऋणी उपभोक्ताओं को दिया कर्ज मुक्त होने का अवसर:शांतनु

ये भी पढ़ें : नावदी के खेतों में जाकर डीसी ने किया खरीफ फसल की गिरदावरी का निरीक्षण

ये भी पढ़ें : विद्यार्थियों के विकास में शिक्षकों की भूमिका महत्त्वपूर्ण- प्रो. टंकेश्वर कुमार

 Connect With Us: Twitter Facebook

 

SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular