Homeहरियाणाकरनालभ्रष्टाचार पर पूर्णत: अंकुश लगाने के लिए जिला प्रशासन एक्शन मोड में

भ्रष्टाचार पर पूर्णत: अंकुश लगाने के लिए जिला प्रशासन एक्शन मोड में

प्रवीण वालिया, करनाल:

भ्रष्टाचार पर अंकुश लगाने के लिए जिला प्रशासन एक्शन मोड में आ गया है। अब किसी भी सूरत में दोषी को बख्शा नहीं जाएगा।

यह भी पढ़ें :  महेंद्रगढ़ की टीम ने कनीना में अलग-अलग स्थानों से दो युवकों को अवैध हथियार सहित किया गिरफ्तार

दोषियों के खिलाफ करें प्रशासनिक कार्यवाही : उपायुक्त अनीश यादव

इसको लेकर उपायुक्त अनीश यादव ने जिला एवं उपमंडल स्तर पर गठित विजिलेंस कमेटी के अध्यक्ष एवं सदस्यों को निर्देश दिए कि वे अपने-अपने अधीनस्थ क्षेत्र में चल रहे विकास कार्यों में प्रयोग होने वाली निर्माण सामग्री की गुणवत्ता की जांच करें, जहां कहीं भी लापरवाही नजर आती है, संबंधित विभाग के अधिकारी के खिलाफ तुरंत कार्यवाही अमल में लाई जाए। इसके अलावा सरकारी कार्यालयों में अधिकारियों एवं कर्मचारियों के समय पर आ रहे हैं या नहीं इसको भी सुनिश्चित किया जाए ताकि आम जनता को किसी प्रकार की दिक्कत का सामना न करना पड़े। विजिलेंस कमेटियां हर सप्ताह में औचक निरीक्षण करने के लिए एक दिन अवश्य निर्धारित करें और जांच रिपोर्ट उपायुक्त कार्यालय अवश्य भेजें।

जिला व उपमंडल स्तरीय विजिलेंस कमेटी करें औचक निरीक्षण

उपायुक्त वीरवार को लघु सचिवालय स्थित अपने कार्यालय में जिला एवं उपमंडल स्तर पर गठित विजिलेंस कमेटियों के अध्यक्षों के साथ मासिक प्रगति रिपोर्ट की समीक्षा कर रहे थे। उन्होंने स्पष्ट निर्देश दिए कि जिला में विभिन्न विभागों, नगर निगम, नगर पालिकाओं द्वारा करवाए जा रहे विकास कार्यों का विजिलेंस कमेटी के सदस्यों को साथ लेकर औचक निरीक्षण करें और निर्माण सामग्री की गुणवत्ता बनाए रखने पर बल दें। उन्होंने यह भी कहा कि सप्ताह में कम से कम एक दिन का औचक निरीक्षण अवश्य निर्धारित करें और उसकी जांच रिपोर्ट उपायुक्त कार्यालय भिजवाएं ताकि लापरवाह अधिकारी एवं कर्मचारियों पर कार्यवाही अमल में लाई जा सके।

निर्माण सामग्री गुणवत्ता की करें चैकिंग

बैठक में उपायुक्त ने नगराधीश मयंक भारद्वाज को निर्देश दिए कि वे जिला विजिलेंस कमेटी व उपमंडल स्तरीय विजिलेंस कमेटी से हर माह में 20 तारीख तक चैकिंग रिपोर्ट लेंगे और मासिक समीक्षा बैठक में वह जांच रिपोर्ट प्रस्तुत करवाना सुनिश्चित किया जाए ताकि जांच के दौरान दोषी पाए गए संबंधित अधिकारी व कर्मचारी के खिलाफ कार्यवाही की जा सके। उन्होंने कहा कि जिला में भ्रष्टाचार किसी भी सूरत में बर्दाश्त नहीं किया जाएगा अगर कहीं पर भी इस प्रकार की बात किसी कार्यालय में नजर आई तो संबंधित के खिलाफ तुरंत प्रभाव से प्रशासनिक कार्यवाही अमल में लाई जाएगी।

बैठक में ये सभी रहे उपस्थित

बैठक में अतिरिक्त उपायुक्त डा. वैशाली शर्मा, इंद्री के एसडीएम डा. आनंद कुमार शर्मा, करनाल के एसडीएम अभिनव मेहता, असंध के एसडीएम मनदीप कुमार, घरौंडा के एसडीएम अभय सिंह जांगड़ा उपस्थित रहे।

यह भी पढ़ें : शहीद सोसायटी का समस्या समाधान के लिए मुख्यमंत्री को पत्र

यह भी पढ़ें : कलवेहड़ी गांव में वर्षों पुरानी जोहड़ की समस्या से ग्रामीणों को जल्द मिलेगी निजात : विधायक हरविन्द्र कल्याण

यह भी पढ़ें : करनाल एनडीआरआई के वैज्ञानिकों ने गेहूं निर्यात के लिए किया रोड मैप तैयार

Connect With Us : Twitter Facebook

SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular