Homeहरियाणाकरनालधान खरीद कार्य में खरीद ऐजेंसी ना करे लापरवाही

धान खरीद कार्य में खरीद ऐजेंसी ना करे लापरवाही

प्रवीण वालिया, करनाल :

  • मंडियों से समय पर करवाएं धान का उठान
  • किसानों को न आने दे कोई दिक्कत : मुख्यमंत्री मनोहर लाल
  • मुख्यमंत्री ने वीडियो कांफ्रैंसिंग के माध्यम से ध दिए आवश्यक निर्देश,
  • मुख्यमंत्री ने की ई-खरीद हरियाणा मोबाईल एप की शुरूआत

खरीद एजेंसी लापरवाही न करें

मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा कि खरीफ सीजन के दौरान 1 अक्तू बर 2022 से धान की सरकारी खरीद का कार्य शुरू हो जाएगा। उन्होंने स्पष्ट किया कि धान खरीद के कार्य में सरकारी खरीद एजेंसी लापरवाही न करें, समय पर मंडियों से धान का उठान करवाएं ताकि किसानों को फसल लाने में किसी प्रकार की दिक्कत का सामना न करना पड़े। उन्होंने कहा कि सभी खरीद एजेंसी फसल की पेमेंट की अदायगी 72 घंटे के अंदर-अंदर करना सुनिश्चित करेंगी। मुख्यमंत्री शुक्रवार को चंडीगढ़ से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से उपायुक्तों के साथ धान खरीद को लेकर किए गए प्रबंधों की समीक्षा कर रहे थे। वीसी में उप मुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला भी मौजूद रहे।

मुख्यमंत्री ने ई-खरीद हरियाणा मोबाईल एप की शुरूआत की

इस मौके पर मुख्यमंत्री ने ई-खरीद हरियाणा मोबाईल एप की शुरूआत की। उन्होंने उपायुक्तों को निर्देश दिए कि धान की खरीद के कार्य पर कड़ी नजर रखें और अपने-अपने जिलों में धान की खरीद सुचारू रूप से करवाना सुनिश्चित करें। यदि किसी मंडी में कोई दिक्कत आती है तो उसका तुरंत समाधान करें। उन्होंने यह भी स्पष्ट किया कि मुख्यालय चंडीगढ़ से प्रशासनिक सचिव की ड्यूटी उपायुक्तों की सहायता के लिए लगाई गई है। मुख्य जिम्मेदारी सभी उपायुक्तों की रहेगी। ऐसे में उपायुक्त स्वयं व एसडीएम से मंडियों का निरीक्षण करवाते रहें। उन्होंने कहा कि जब धान का सीजन पीक पर होगा तो मंडियों में आवक काफी मात्रा में बढ़ जाती है, इसके लिए सभी उपायुक्त अपने-अपने जिला में अतिरिक्त खरीद केन्द्र स्थापित करने की तैयारी रखें। मुख्यमंत्री ने कहा कि राईस मिलर्स को उनकी क्षमता के अनुसार धान दी जाए, किसी के साथ पक्षपात न करें।

जिला में 15 अनाज मंडी व खरीद केंद्र स्थापित

वीसी में उपायुक्त अनीश यादव ने बताया कि जिला में 15 अनाज मंडी व खरीद केंद्र स्थापित हैं। इन सभी मंडियों में गेट पास के लिए पर्याप्त मात्रा में स्टाफ तैनात किया गया है और गेटों पर सीसीटीवी कैमरें चालू हालात में हैं। धान खरीद के समय नमी जांच करने वाली मशीन की उपलब्धता सुनिश्चित करवाई गई है। इसके अलावा खरीद ऐजेंसियों द्वारा पर्याप्त मात्रा में बारदाने की भी उपलब्धता सुनिश्चित की गई है। उन्होंने बताया कि समय पर अनाज मंडियों से धान का उठान करवाने के लिए सभी ट्रांसपोर्टर को सख्त हिदायत दी गई है। अगर कोई ट्रासपोर्टर धान उठान के कार्य में लापरवाही करता पाया गया तो उसके खिलाफ कार्यवाही अमल में लाई जाएगी।

खरीद ऐजेंसियों की आवश्यक तैयारियां पूरी

उपायुक्त ने बताया कि जिला में धान खरीद को लेकर सभी खरीद ऐजेंसियों ने सभी आवश्यक तैयारियां पूरी कर ली है। इस वर्ष जिला में 11 लाख 50 हजार मीट्रिक टन धान की आवक होने की सम्भावना है, जिसमें से खाद्य आपूर्ति विभाग द्वारा 7 लाख मीट्रिक टन, हैफेड द्वारा 2.50 लाख मीट्रिक टन तथा हरियाणा वेयर हॉऊसिंग द्वारा 2 लाख मीट्रिक टन धान खरीदे जाने की संभावना है। उन्होंने बताया कि सभी खरीद ऐजेंसियां सरकार द्वारा निर्धारित सर्मथन मूल्य के अनुसार कॉमन धान को 2040 रुपये प्रति क्विंटल व ग्रेड ए धान को 2060 रुपये प्रति क्विंटल के भाव से खरीदा जाएगा। उन्होंने बताया कि जिला में मंडियों से धान के उठान के लिए 23 परिवहन ठेकेदार एवं 30 श्रम ठेकेदार खरीफ सीजन में नियुक्त किए गए है। इनमें खाद्य एवं आपूर्ति विभाग के लिए 10, हैफेड के लिए 12 तथा हरियाणा वेयर हाऊस के लिए 8 के नाम शामिल है जोकि धान का उठान करके राईस मिलों पहुंचाने का कार्य करेंगे। उन्होंने बताया कि इस वर्ष मेरा फसल मेरा-ब्यौरा पोर्टल पर जिला में 78 हजार 754 किसान पंजीकृत हुए है, जिन्होंने 3 लाख 99 हजार 252 एकड में धान की रोपाई एवं धान की सीधी बिजाई की हुई है।

Connect With Us: Twitter Facebook
SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular