Xi Jinping BRI: खटाई में पड़ता दिख रहा चीन का महत्वकांक्षी प्रोजेक्ट, इटली के बाद फिलीपींस भी बीआरआई से बाहर

0
112
Xi Jinping BRI

Aaj Samaj (आज समाज), Xi Jinping BRI, मनीला: चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग की महत्वकांक्षी परियोजना बेल्ट एंड रोड इनीशिएटिव (बीआरआई) से कई देशों के पीछे हटने के बाद यह प्रोजेक्ट खटाई में पड़ता दिख रहा है। बीते दिनों इटली ने बीआरआई से बाहर होने का ऐलान किया था और अब फिलीपींस के भी ड्रैगन के इस एक खरब डॉलर के प्रोजेक्ट से अलग होने की खबरें हैं। बता दें कि चीन पूरी दुनिया में अपना आर्थिक प्रभाव जमाने की कोशिशों में जुटा है और बीआरआई भी उसके इसी लक्ष्य को हासिल करने का हिस्सा है। इसी प्लान से उसने बीआरआई की शुरुआत की थी, जिसमें कई देशों में चीन विकास परियोजनाओं का निर्माण करने वाला है।

चीन की इस अहम परियोजना को बड़ा झटका

गौरतलब है कि हाल ही में जिनपिंग ने बीजिंग में बेल्ट एंड रोड फोरम का आयोजन किया था, जिसमें 23 देशों के प्रमुख शामिल हुए थे, लेकिन फोरम आयोजित होने के कुछ दिन के भीतर ही इटली और अब फिलीपींस के बाहर होने से बीआरआई को बड़ा झटका लगा है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, फिलीपींस के परिवहन मंत्रालय ने बीआरआई परियोजना से पूरी तरह बाहर होने की घोषणा की है।

फिलीपींस और चीन के बीच दक्षिण चीन सागर को लेकर भी विवाद

बता दें कि फिलीपींस और चीन के बीच दक्षिण चीन सागर को लेकर भी विवाद चल रहा है। ऐसे में माना जा रहा है कि इसी वजह से फिलीपींस ने चीन की परियोजना से अलग होने का फैसला किया है। साथ ही हाल के सालों में बीआरआई परियोजना की गति धीमी हुई है। चीन की आर्थिक ताकत कम हुई है और चीन के बढ़ते कर्ज के जाल से भी कई देश सोचने पर मजबूर हुए हैं।

ड्रैगन ने फिलीपींस की पेट्रोलिंग के खिलाफ अपनाया था सख्त रुख

ड्रैगन ने दक्षिण चीन सागर में फिलीपींस की पेट्रोलिंग के खिलाफ सख्त रुख अपनाया था, जिस पर फिलीपींस के राष्ट्रपति फर्दीनंद मार्कोस जूनियर ने चिंता जाहिर की थी। फिलीपींस में बीआरआई परियोजना के तहत चीन ने 4.9 अरब डॉलर का निवेश करने का ऐलान किया था, जिसके तहत मिनदानाओ रेलवे प्रोजेक्ट, चिको रिवर पंप इरीगेशन प्रोजेक्ट, कलीवा डैम प्रोजेक्ट, समल आइलैंड-दावाओ सिटी को जोड़ने वाली परियोजना आदि का निर्माण किया जाना था। बताया जा रहा है कि फिलीपींस अब जापान, दक्षिण कोरिया, अमेरिका और यूरोपीय यूनियन के निवेश को मंजूरी देने पर विचार कर रहा है।

यह भी पढ़ें :

Connect With Us: Twitter Facebook

 

SHARE