HomeAssembly Election 2022अब दिल्ली-पंजाब में राज अपना, पूरा होगा पराली प्रदूषण रोकने का सपना...

अब दिल्ली-पंजाब में राज अपना, पूरा होगा पराली प्रदूषण रोकने का सपना Stop Pollution

आज समाज डिजिटल, अंबाला:
Stop Pollution: पंजाब विधानसभा की कुल 117 सीटों में से 92 पर जीत हासिल करने वाली आम आदमी पार्टी के लिए आने वाला समय चुनौतियों का रहेगा। अब तक पंजाब की समस्याओं के आधार पर कांग्रेस की बखियां उधेड़ने  वाले केजरीवाल को इन कठिनाइयों को दूर करना होगा।

हमेशा आड़े हाथों लिया है पड़ोसियों को Stop Pollution

पराली जलाने के मुद्दे पर केजरीवाल ने हमेशा ही हरियाणा पंजाब को आडे हाथों लिया है। यहां रोचक बात यह है कि अब पंजाब और दिल्ली में आम आदमी पार्टी की सरकार बन गई है। ऐसे में वे पराली की समस्या को खत्म करके दिल्ली के प्रदूषण को दूर करने में कितने सफल हो पाते हैं। अब सभी की निगाहें दिल्ली के तीन बार के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर होंगी। जिन्होंने इस समस्या के लिए पड़ोसी राज्यों को दोषी ठहराया है।

अक्टूबर में गहराती है धुंध की समस्या Stop Pollution

ऐसा भी देखा गया है कि हर साल अक्टूबर में जब दिल्ली में आसमान धुंध से भर जाता है तो दिल्ली के मुख्यमंत्री पंजाब और हरियाणा के मुख्यमंत्रियों को किसानों को पराली जलाने से रोकने के लिए कुछ नहीं करने के लिए हमला करते हैं। अब जबकि दोनों राज्यों में आम आदमी पार्टी की ही सरकार है तो मामला और भी महत्वपूर्ण हो जाता है। इस मामले में केजरीवाल और भगवंत मान को सक्रिय भूमिका निभानी होगी।

शिअद ने लगाया था बदनाम करने का आरोप Stop Pollution

इसके बदले में वे लोग दिल्ली सरकार को वाहन प्रदूषण को रोकने में विफलता के लिए दोषी ठहराते हैं। जो कुल प्रदूषण में कम से कम 40 प्रतिशत का योगदान करता है। पिछले महीने के विधानसभा चुनावों से पहले शिरोमणि अकाली दल ने केजरीवाल पर दिल्ली की प्रदूषित हवा के लिए पंजाब के किसानों को बदनाम करने का भी आरोप लगाया था।

कैप्टन सरकार पर भी मढ़ा था दोष Stop Pollution

दिल्ली के सीएम ने पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह पर भी कई बार पराली का दोष मढ़ा था। अब जबकि पंजाब और दिल्ली दोनों की बागडोर केजरीवाल की पार्टी के हाथों में है, ये देखना दिलचस्प होगा कि क्या नई सरकार इस सर्दी में उस पुराने राजनीतिक आरोप-प्रत्यारोप को रोक सकती है या नहीं। विधानसभा में रिकॉर्ड बहुमत के साथ अब अअढ के पास अब किसानों के लिए बायो-डीकम्पोजर्स की अपनी बहुप्रचारित योजना को लागू करने का पूरा अधिकार है।

ऐसा कहते हैं विशेषज्ञ Stop Pollution

उधर कृषि विशेषज्ञ बताते हैं कि हमें देखना होगा कि वे इस चुनौती का कितने सही तरीके से सामना करते हैं। कम से कम उन्हें अब केवल बयानबाजी से बचना होगा। उन्होेंने कहा कि ह्यपंजाब भारत में हरित क्रांति का अगुवा रहा है, लेकिन इसके कारण पर्यावरणीय में गड़बड़ी पैदा हुई है। अब यहां आप पार्टी के लिए एक मौका है कि वह राज्य को एक सदाबहार क्रांति की राह पर ले जाए।

Also Read : Budget Is Anti Women-Laborers-And Farmers महिला, मजदूर और किसान विरोधी है बजट: प्रो. राय

Also Read : Haryana Budget मनोहर बजट : किसान, महिलाओं और मिडिल क्लास पर नजर

SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular