Homeहमारे धार्मिक स्थलकालाष्टमी 23 अप्रैल को Kalashtami On 23rd April

कालाष्टमी 23 अप्रैल को Kalashtami On 23rd April

सुबह जल्दी उठकर स्नान आदि से निवृत्त हो जाएं। अगर संभव हो तो इस दिन व्रत रखें। घर के मंदिर में दीपक प्रज्वलित करें। इस दिन भगवान शंकर की भी विधि- विधान से पूजा- अर्चना करें। भगवान शंकर के साथ माता पार्वती और गणेश भगवान की पूजा- अर्चना भी करें।

आज समाज डिजिटल, अम्बाला।
Kalashtami On 23rd April : हर माह में कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को कालाष्टमी का पावन पर्व मनाया जाता है। वैशाख का महीना चल रहा है। कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि भगवान भैरव को समर्पित होती है। भगवान भैरव भोलेशंकर के ही अवतार हैं। कालाष्टमी को भैरवाष्टमी के नाम से भी मनाया जाता है। इस दिन विधि- विधान से भगवान भैरव की पूजा- अर्चना की जाती है।

Read Also : गुरुवार व्रत रखने से घर में रहती है सुख-समृद्धि Keeping Thursday Fast

Read Also : अक्षय तृतीया: शुभ मुहूर्त और शुभ कार्य Good Luck And Good Work

Kalashtami On 23rd April

Read Also : हनुमान जी ने भक्तों से जुड़ा शनिदेव ने दिया था वचन Hanuman Ji With Shani Dev

भगवान भैरव की कृपा से सभी तरह के दोषों से मुक्ति मिल जाती है।
शनिवार मुहूर्त- 23 अप्रैल को वैशाख, कृष्ण अष्टमी प्रारम्भ – 06:27 बजे से शुरू होकर 24 अप्रैल को कृष्ण अष्टमी समाप्त – 04:29 सुबह तक।

Kalashtami On 23rd April : सुबह जल्दी उठकर स्नान आदि से निवृत्त हो जाएं। अगर संभव हो तो इस दिन व्रत रखें। घर के मंदिर में दीपक प्रज्वलित करें। इस दिन भगवान शंकर की भी विधि- विधान से पूजा- अर्चना करें। भगवान शंकर के साथ माता पार्वती और गणेश भगवान की पूजा- अर्चना भी करें। आरती करें और भगवान को भोग भी लगाएं। इस बात का ध्यान रखें भगवान को सिर्फ सात्विक चीजों का भोग लगाया जाता है।

Kalashtami On 23rd April :  महत्व: इस पावन दिन भगवान भैरव की पूजा, आरती और भोग लगाने से सभी तरह के भय से मुक्ति मिल जाती है। कालाष्टमी के दिन व्रत करने से शुभ फल की प्राप्ति होती है। भैरव बाबा की कृपा से शत्रुओं से छुटकारा मिल जाता है।

Read Also : महादेव की आराधना से मिलता है मोक्ष Worship Of Mahadev Gives Salvation

Read Also : हनुमान जी ने भक्तों से जुड़ा शनिदेव ने दिया था वचन Hanuman Ji With Shani Dev

भैरव बाबा जी की आरती

जय भैरव देवा, प्रभु जय भैंरव देवा । जय काली और गौरा देवी कृत सेवा ।।
तुम्हीं पाप उद्धारक दु:ख सिंधु तारक । भक्तों के सुख कारक भीषण वपु धारक ।।
वाहन शवन विराजत कर त्रिशूल धारी । महीमा अमित तुम्हारी जय जय भयकारी ।।
तुम बिन देवा सेवा सफल नहीं होंवे । चौमुख दीपक दर्शन दु:ख सगरे खोंवे ।।
तेल चटकि दधि मिश्रित भाषावलि तेरी । कृपा करिये भैरव करिये नहीं देरी ।।
पांव घुंघरु बाजत अरु डमरु डमकावत । बटुकनाथ बन बालक जन मन हरषावत ।।
बथुकनाथ की आरती जो कोई नर गावें । कहें धरणीधर नर मनवाछिंत फल पावे ।।

Read Also : 10 Largest Hanuman Statues भारत में यहां है 10 सबसे विशालकाय बजरंगबली की प्रतिमाएं

Also: पूर्वजो की आत्मा की शांति के लिए फल्गू तीर्थ Falgu Tirtha For Peace Of Souls Of Ancestors

Read Also : हरिद्वार पर माता मनसा देवी के दर्शन न किए तो यात्रा अधूरी If You Dont see Mata Mansa Devi at Haridwar 

Connect With Us: Twitter Facebook

SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular