Homeहमारे धार्मिक स्थलहरिद्वार पर माता मनसा देवी के दर्शन न किए तो यात्रा अधूरी...

हरिद्वार पर माता मनसा देवी के दर्शन न किए तो यात्रा अधूरी If You Dont see Mata Mansa Devi at Haridwar

आज समाज डिजिटल, अम्बाला :
If You Dont see Mata Mansa Devi at Haridwar :
उत्तराखंड तो प्रमुख तीर्थ स्थान है, लेकिन हरिद्वार में भक्तों का मेला वर्षभर लगा रहता है। यही वजह है कुंभ का मेला भी हरिद्वार में लगता है। महाशिवरात्रि के पहले शाही स्नान से धार्मिक और औपचारिक तौर पर कुंभ की शुरूआत मानी जाती है।

माता मनसा देवी मंदिर में चैत्र और आश्विन मास के नवरात्रों में मेला लगता है। हरिद्वार का प्रमुख आकर्षण माना जाता है मां गंगा की निर्मल जलधारा। माना जाता है गंगोत्री से उद्गम के बाद मां गंगा सबसे पहले हरिद्वार में प्रवेश करती हैं।

कौन हैं मनसा देवी ?

पौराणिक मान्याताओं के अनुसार मां देवी मनसा को भगवान शंकर की पुत्री के रूप में और मां मनसा जी की शादी जगत्कारू से हुई थी और उनके पुत्र का नाम आस्तिक था। मनसा देवी को नागों के राजा वासुकी की बहन के रूप में भी जाना जाता है।

कहां स्थित है मनसा देवी का मंदिर?

मनसा देवी के मंदिर हरिद्वार से 3 किमी दूर शिवालिक पर्वत श्रृंखला में बिलवा पहाड़ पर स्थित है। सालभर पर भक्तों की भारी भीड़ रहती है। मान्यता है कि यहां भक्त जो मुराद लेकर आते हैं, उनकी वह मनोकामना देवी मां पूर्ण करती हैं। If You Dont see Mata Mansa Devi at Haridwar

भक्तों की सभी मनोकामनाएं पूर्ण करती हैं मां मनसा देवी

माता मनसा देवी जी के मंदिर में मां की 2 मूर्तियां स्थापित हैं। इनमें से एक मूर्ति की पंचभुजाएं और एक मुख है और वहीं दूसरी मूर्ति की 8 भुजाएं हैं। If You Dont see Mata Mansa Devi at Haridwar

यहां मां दुर्गा के 52 शक्तिपीठों में से एक माना जाता है। नाम से प्रतीत होता मां का नाम है मनसा यानी मन की कामना। आने वाले भक्त मुराद लेकर एक पेड़ पर धागा बांधते हैं। फिर इच्छा पूर्ण हो जाने के बाद उस धागे को खोलते हैं और फिर मां का आशीर्वाद लेकर चले जाते हैं। If You Dont see Mata Mansa Devi at Haridwar

पौराणिक मान्यताएं If You Dont see Mata Mansa Devi at Haridwar

विभिन पुराणों में मां मनसा देवी का वर्णन अलग प्रकार से किया गया है। पुराणों में बताया है कि इनका जन्म कश्यप ऋषि के मस्तिष्क से हुआ था और मनसा किसी भी विष से अधिक शक्तिशाली थी इसलिये ब्रह्मा ने इनका नाम विषहरी रखा।

Read Also : भगवान शंकर की अश्रु धारा से बना सरोवर Jalandhar Shri Devi Talab Mandir

विष्णु पुराण के चतुर्थ भाग में एक नागकन्या का वर्णन है जो आगे चलकर मनसा के नाम से प्रचलित हुई। ब्रह्मवैवर्त पुराण के अंतर्गत एक नागकन्या थी जो शिव तथा कृष्ण की भक्त थी।

If You Dont see Mata Mansa Devi at Haridwar
If You Dont see Mata Mansa Devi at Haridwar

इसी प्रकार पंचकूला जिले में भी माता मनसा देवी जी का मंदिर है  पंचकूला के मशहूर माता मनसा देवी मंदिर अपने आप में बेहद खास है। इस मंदिर का इतिहास बड़ा ही प्रभावशाली है। माता मनसा देवी मंदिर में चैत्र और आश्विन मास के नवरात्रों में मेला लगता है।

Read Also :  गुरुद्वारा पंजोखरा साहिब: यहां स्नान मात्र से दूर होते हैं सभी कष्ट Gurdwara Panjokhara Sahib

Read Also : यहां स्वयं प्रकट हुआ शिवलिंग, खाली नहीं जाती मुराद 550 Years Old Lord Shiva Temple:

SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular