Homeदेशजर्मनी की विदेश मंत्री पहुंची भारत, समकक्ष जयशंकर ने किया स्वागत, व्यापक...

जर्मनी की विदेश मंत्री पहुंची भारत, समकक्ष जयशंकर ने किया स्वागत, व्यापक प्रवासन और गतिशीलता साझेदारी पर हुए हस्ताक्षर

आज समाज डिजिटल, German Foreign Minister In Delhi : विदेश मंत्री एस जयशंकर ने सोमवार को एक बार फिर से कहा कि भारत पाकिस्तान के साथ आतंकवाद के रहते हुए बातचीत नहीं कर सकता है। जयशंकर नई दिल्ली में अपने जर्मन समकक्ष एनालेना बेयरबॉक के साथ एक संयुक्त संवाददाता सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे।

इससे पहले विदेश मंत्री एस जयशंकर (External Affairs Minister S Jaishankar) ने जर्मनी की विदेश मंत्री एनालेना बेयरबॉक का स्वागत किया। एनालेना बेयरबॉक अपनी 2 दिवसीय यात्रा पर आज दिल्ली पहुंची हैं। इस दौरान, वह नवीकरणीय ऊर्जा में परिवर्तन और रूस और चीन के साथ भारत के संबंधों पर सहयोग पर चर्चा करेंगी।

वहीं विदेश मंत्रालय ने ट्वीट किया, “अपनी पहली आधिकारिक यात्रा पर नई दिल्ली पहुंचने पर जर्मन विदेश मंत्री एबारबॉक का गर्मजोशी से स्वागत। क्षेत्रीय और वैश्विक विकास पर विचारों का आदान-प्रदान करने और भारत-जर्मनी रणनीतिक साझेदारी में हुई प्रगति की समीक्षा करने का अवसर।”

जयशंकर ने बैरबॉक के साथ व्यापक प्रवासन और गतिशीलता साझेदारी पर एक समझौते पर हस्ताक्षर किए। वहीं प्रेस कॉन्फ्रेंस में बेयरबॉक ने ने कहा कि मौजूदा वैश्विक माहौल में दोनों देशों का साथ खड़े होना जरूरी है। विदेश मंत्री जयशंकर ने कहा कि आज हमारे सामने मुख्य चुनौती आतंकवाद है। आतंकवाद के रहते हुए हम पाकिस्सेतान से बातचीत नहीं कर सकते।

दाेनों देशों में हुई प्रतिनिधि मंडल स्तर की वार्ता

सम्मेलन में External Affairs Minister एस जयशंकर और जर्मनी की उनकी समकक्ष एनालेना बेयरबॉक के बीच द्विपक्षीय मसलों पर विस्तार से चर्चा हुई। दोनों देशों के बीच प्रतिनिधि मंडल स्तर की वार्ता भी हुई। जयशंकर से मुलाकात के बाद दोनों नेताओं ने साझा प्रेस कॉन्फ्रेंस को भी संबोधित किया। बेयरबॉक ने कहा कि हम इस वर्ष कई बार मिल चुके हैं। इससे साबित होता है कि हमारे बीच घनिष्ठ समन्वय कितना महत्वपूर्ण है। आज दुनिया जिस चुनौतीपूर्ण स्थिति में उलझी हुई है, उसमें इसकी बहुत आवश्यकता है। इस कठिन समय में हमारा मिलकर खड़ा होना बहुत जरूरी है।

महात्मा गांधी के अंतिम कदमों का किया अनुसरण

जर्मनी की विदेश मंत्री एनालेना बेयरबॉक ने कहा मैंने गांधी स्मृति संग्रहालय से भारत की अपनी यात्रा शुरू की। जब मैंने आज महात्मा गांधी के अंतिम कदमों का अनुसरण किया तो मुझे पूरी तरह से पता चला कि भारत की स्वतंत्रता की राह वास्तव में आसान नहीं थी। उन्हाेंने कहा किबाली (इंडोनेशिया) में जी-20 शिखर सम्मेलन में, भारत ने दिखाया कि वह विश्व स्तर पर अपनी भूमिका निभाने के लिए तैयार है।

यूक्रेन में रूसी आक्रामकता के युद्ध के खिलाफ G20 की स्पष्ट स्थिति भी अंततः भारत के लिए धन्यवाद है। एक उभरती हुई आर्थिक शक्ति और एक ठोस लोकतंत्र के रूप में, तमाम आंतरिक सामाजिक चुनौतियों के बावजूद भारत दुनिया के कई देशों के लिए एक रोल मॉडल और सेतु दोनों है। और जर्मनी का स्वाभाविक साझेदार है।

वहीं विदेश मंत्री जयशंकर ने कहा कि हमारी रणनीतिक साझेदारी जो दो दशकों से अधिक पुरानी है, वो वास्तव में अधिक राजनीतिक आदान-प्रदान, निरंतर बढ़ते व्यापार, अधिक निवेश से मजबूत हुई है।’ जयशंकर व बेयरबॉक ने व्यापक प्रवासन और गतिशीलता समझौते पर भी दस्तखत किए।

ये भी पढ़ें : Delhi MCD Election Voting Updates

ये भी पढ़ें : Navy Day पर बोले पीएम मोदी : भारत में हमें आपके समृद्ध समुद्री इतिहास पर गर्व

ये भी पढ़ें : मुंबई में धारा 144 लगाने के आदेश, 2 जनवरी तक प्रदर्शन, बैठकों समेत इन एक्टिविटीज पर पूर्णत: रोक

ये भी पढ़ें : अब पता चला कि महिलाओं के कपड़े में क्यों भागे थे रामदेव… विवादास्पद बयान के बाद टीएमसी नेता महुआ मोइत्रा ने किया ट्वीट

Connect With Us: Twitter Facebook
SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular