Homeमनोरंजनअकबर-बीरबल की कहानी: सबसे बड़ी चीज Biggest Thing

अकबर-बीरबल की कहानी: सबसे बड़ी चीज Biggest Thing

आज समाज डिजिटल, अम्बाला
Biggest Thing : एक बार बीरबल दरबार में मौजूद नहीं थे। इसी का फायदा उठाकर कुछ मंत्रीगण बीरबल के खिलाफ महाराज अकबर के कान भरने लगे। उनमें से एक कहने लगा, “महाराज! आप केवल बीरबल को ही हर जिम्मेदारी देते हैं और हर काम में उन्हीं की सलाह ली जाती है। इसका मतलब यह है कि आप हमें अयोग्य समझते हैं।

Read Also : अकबर बीरबल : पहले मुर्गी आई या अंडा First Chicken Or Egg
Biggest Thing

अगर तुम लोग इसका जवाब न दे पाए Biggest Thing 

महाराज को बीरबल बहुत प्रिय थे, लेकिन उन्होंने मंत्रीगणों को निराश न करने के लिए एक समाधान निकाला। उन्होंने उनसे कहा कि मैं तुम सब से प्रश्न का जवाब चाहता हूं। ध्यान रहे कि अगर तुम लोग इसका जवाब न दे पाए, तो तुम सबको फांसी की सजा सुनाई जाएगी।

प्रश्न का उत्तर सटीक होना चाहिए Biggest Thing

दरबारियों ने झिझक कर महाराज से कहा कि ठीक है महाराज! हमें आपकी ये शर्त मंजूर है, लेकिन पहले आप प्रश्न तो पूछिए।” महाराज ने कहा कि दुनिया की सबसे बड़ी चीज़ क्या है?” सवाल सुनकर मंत्रीगण एक-दूसरे का मुंह ताकने लगे। महाराज ने स्थिति देखकर कहा कि याद रहे कि प्रश्न का उत्तर सटीक होना चाहिए। मुझे अटपटा सा जवाब नहीं चाहिए।

 Biggest Thing 

मंत्रीगण प्रश्न का उत्तर ढूंढने लगे  

सभी मंत्रीगणों ने राजा से इस प्रश्न का उत्तर देने के लिए कुछ दिनों की मोहलत मांगी। राजा भी इस बात के लिए तैयार हो गए। महल से बाहर निकलकर सभी मंत्रीगण इस प्रश्न का उत्तर ढूंढने लगे। पहले ने कहा कि दुनिया की सबसे बड़ी चीज़ भगवान है, तो दूसरा कहने लगा कि दुनिया की सबसे बड़ी चीज भूख है। तीसरे ने दोनों के जवाब को नकार दिया और कहा कि भगवान कोई चीज नहीं है और भूख को भी बर्दाश्त किया जा सकता है। इसलिए राजा के प्रश्न का उत्तर इन दोनों में से कोई नहीं है।

Read Also : अकबर-बीरबल की कहानी : सबसे बड़ा मनहूस कौन? Who Is Biggest Wretched Person?

उपाय न मिलने पर एकत्रित होकर बीरबल के पास पहुंचे

धीरे-धीरे समय बीतता गया और मोहलत में लिए दिन भी गुजर गए। राजा द्वारा पूछे गए प्रश्न का जवाब न मिलने पर सभी मंत्रीगणों को जान की फिक्र सताने लगी। कोई अन्य उपाय न मिलने पर वो सभी एकत्रित होकर बीरबल के पास पहुंचे और उन्हें पूरी कहानी सुनाई। बीरबल पहले से ही इस बात से परिचित थे। उन्होंने उनसे कहा कि मैं तुम्हारी जान बचा सकता हूं, लेकिन तुम्हें वही करना होगा जैसा मैं कहूं।” सभी बीरबल की बात पर राजी हो गए।

मंत्रीगणों को पालकी उठाने का काम दिया Biggest Thing

अगले दिन बीरबल ने एक पालकी का इंतजाम करवाया। उन्होंने दो मंत्रीगणों को पालकी उठाने का काम दिया। तीसरे से अपना हुक्का पकड़वाया और चौथे से अपने जूते उठवाये व स्वयं पालकी में बैठ गए। फिर उन सभी को राजा के महल की ओर चलने का इशारा दिया।

Read Also : अकबर-बीरबल: ऊंट की गर्दन Camel’s Neck

महाराज मुस्कुराये बिना न रह सके

जब सभी बीरबल को लेकर दरबार में पहुंचे तो महाराज इस मंजर को देखकर हैरान थे। इससे पहले कि वो बीरबल से कुछ पूछते कि बीरबल खुद ही राजा से बोले कि महाराज! दुनिया की सबसे बड़ी चीज ‘गरज’ होती है। अपनी गरज के कारण ही ये सब मेरी पालकी को उठा कर यहां तक ले आए हैं। यह सुन महाराज मुस्कुराये बिना न रह सके और सभी मंत्रीगण शरम के मारे सिर झुकाए खड़े रहे।

शिक्षा : हमें कभी किसी की योग्यता से जलना नहीं चाहिए, बल्कि उससे सीख लेकर खुद को बेहतर बनाने की कोशिश करनी चाहिए।

Read Also: तेनाली रमन: बीज का घड़ा Seed Pitcher

Read Also : गर्मियों में हेल्दी और फिट रहने के टिप्स Healthy And Fit In Summer

Connect With Us : Twitter Facebook

SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular