Court Cases: राष्ट्रपति मुर्मू ने किया देश के सबसे बड़े हाईकोर्ट परिसर का उद्घाटन,  हिंदी में भाषण के लिए की CJI की प्रशंसा

0
143
आशीष सिन्हा
आशीष सिन्हा

Aaj Samaj, (आज समाज),Court Cases, नई दिल्ली:

1. कनाडा में 16 साल की लड़की का  बलात्कार और हत्या मामले का मुकदमा 48 साल के बाद निपटा

कनाडा में एक 16 साल की लड़की के साथ बलात्कार और उसकी हत्या के मामले का मुकदमा 48 साल के बाद निपटा है। मांट्रियल में हुई इस घटना से जुड़े सभी तथ्य तब सामने आए जब संदिग्ध आरोपी का शव कब्र से बाहर निकाला गया और उसका डीएनए टेस्ट कराया गया।

दरसअल 1975 में 16 साल की शैरन प्रियर अपने दोस्तों से एक पिज्जा पार्लर में मिलने के बाद अचानक लापता हो गई थी और खोजबीन कर बाद आखिरकार उसका शव तीन दिन बाद  नजदीक के जंगल में मिला था। उस समय मामले का संदिग्ध अमेरिका के नागरिक फ्रैंकलिन रोमीन को माना गया। घटना के समय वह मांट्रियल में मौजूद था और लंबा आपराधिक रिकार्ड था। इतना ही नही मांट्रियल और वेस्ट वर्जीनिया में कई बार सुरक्षा बलों के साथ उसकी मुठभेड़ भी हो चुकी थी।

हालंकि दुष्कर्म के एक मामले में वह दोषी भी साबित हुआ था लेकिन शैरन की हत्या के मामले में वह शक के दायरे में आने से बच गया था। फ्रैंकलिन 36 साल की उम्र में 1982 में मर गया था। मामले की जांच में सामने आया कि जंगल में जिस स्थान पर शव मिला था उसके नजदीक जिस कार के टायरों के निशान मिले थे वे फ्रैंकलिन की कार के टायरों के निशानों से मेल खा रहे थे।

लेकिन पुख्ता सुबूतों के अभाव में पुलिस किसी को भी मामले का दोषी नहीं ठहरा सकी थी। यहां तक कि घटना के बाद शव से डीएनए के जो नमूने लिए गए थे, उनसे भी किसी नतीजे पर नहीं पहुँच सकी थी।

हालांकि उन नमूनों को दशकों तक सुरक्षित रखा गया। 2019 में मांट्रियल पुलिस ने डीएनए के वे नमूने अमेरिका की वेस्ट वर्जीनिया पुलिस के पास भेजे और उनका फ्रैंकलिन के रिश्तेदारों से मैच कराया गया।

डीएनए रिपोर्ट से पता चला कि शैरन के शव से मिले डीएनए के नमूने फ्रैंकलिन के रिश्तेदारों के डीएनए से मेल खाते है। इस रिपोर्ट के बाद शैरन की दुष्कर्म के बाद हत्या के मामले पर पड़ा पर्दा हट गया।

2*लखनऊ में नहर की जमीन पर बिल्डर्स का अवैध कब्जा, हाईकोर्ट ने सीबीआई को दिए जांच के आदेश*

इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने राज्य की राजधानी के अहिमामाउ क्षेत्र में एक निजी डेवलपर द्वारा नहर भूमि के कथित अवैध कब्जे की जांच करने के लिए सीबीआई को स्वतंत्रता दी है।

इलाहाबाद उच्च न्यायालय की लखनऊ पीठ ने कहा कि सीबीआई को जांच करने के लिए किसी भी प्राधिकरण से अनुमति की आवश्यकता नहीं है।

न्याय की पीठ दिनेश कुमार सिंह ने 6 जुलाई को सुनवाई की अगली तारीख तय की।

इससे पहले, अदालत की जानकारी में लाया गया था कि राज्य सरकार के कुछ अधिकारियों और लखनऊ विकास प्राधिकरण से सांठ-गांठ क नहर की भूमि पर अवैध रूप से अंसल बिल्डर्स ने कब्जा कर लिया था।

इसी अवैध कब्जे के एक हिस्से पर कथित तौर पर सिटी मोंटेसरी स्कूल को दिया गया था जहाँ एक भव्य इमारत खड़ी की गई थी। बेंच ने सीबीआई को मामले की प्रारंभिक जांच करने का निर्देश दिया है।

3*राष्ट्रपति मुर्मू ने किया देश के सबसे बड़े हाईकोर्ट परिसर का उद्घाटन,  हिंदी में भाषण के लिए की CJI की प्रशंसा*

राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मु ने झारखंड उच्च न्यायालय के नए भवन के उद्घाटन कार्यक्रम को संबोधित करते हुए हिंदी में अपना भाषण देने के लिए भारत के मुख्य न्यायाधीश, डीवाई चंद्रचूड की प्रशंसा की और धन्यवाद दिया। इसके अलावा न्याय तक पहुंच सुनिश्चित करने में भाषा की भूमिका के बारे में सीजेआई के प्रयासों की प्रशंसा की।

राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मु ने कहा कि अन्य न्यायाधीश भी CJI DY चंद्रचूड़ को उदाहरण मानकर उनका पालन करेंगे, राष्ट्रपति नेउनसे भविष्य में हिंदी में अपने भाषण देने का आग्रह किया।

महामहिम राष्ट्रपति ने अधिकारियों से न्याय को और अधिक सुलभ बनाने का आग्रह किया, विशेष रूप से झारखंड जैसे राज्य में जो विभिन्न भाषाओं का उपयोग करता है। उन्होंने विभिन्न भाषाओं में अपने निर्णय उपलब्ध कराने के लिए सर्वोच्च न्यायालय की प्रशंसा की।

राष्ट्रपति ने कहा कि उन्हें यह देखकर खुशी हुई कि न्याय वितरण प्रणाली को अधिक सुलभ और समावेशी बनाने के लिए कई कदम उठाए गए हैं, खासकर समाज के विभिन्न क्षेत्रों की महिलाओं के लिए।

विचाराधीन बंदियों के बारे में राष्ट्रपति मुर्मु ने कहा कि यह मुद्दा एक है जो “मेरे दिल के करीब” है”। उन्होंने कहा कि जेलों में बड़ी संख्या में लोग वर्षों से पड़े हुए हैं, और जेलें ठसाठस भरी हुई मे हैं, जिससे विचाराधीन बंदियों का जीवन और अधिक कठिन हो रहा है।

राष्ट्रपति ने अनुकूल निर्णयों के बाद भी “सही अर्थों में न्याय” प्राप्त नहीं करने वाले मुकदमों के मुद्दे पर ध्यान आकर्षित किया।

4*मिड डे मील, मिल्क पावडर ही सैनेटरी नैपकिन भी उड़ा लिए मास्टर जी ने, फिर पहुंच गए हाईकोर्ट जमानत लेने, आगे क्या हुआ पढ़ें खबर*

सरकारी योजनाओं का लाभ आम जन तक पहुंचाने के लिए जिम्मेदार लोगों सरकरी टीचर्स ने न केवल मिड डे मील डकार लिया बल्कि सैनेटरी पैड्स भी उड़ा ले गए। लोअर कोर्ट ने जब दोषी ठहराया तो ‘इंसाफ’ मांगने के लिए हाईकोर्ट पहुंच गए। हाईकोर्ट ने को इन हरकतों पर याचिकाकर्ताओं को न केवल फटकार लगाई बल्कि उनकी जमानत याचिकाएं भी खारिज कर दीं।

यह मामला राजस्थान का है। राजस्थान हाईकोर्ट ने कहा है कि  कि याचिकाकर्ता सरकारी कर्मचारी हैं, जिन्हें जनजातीय उपयोजना क्षेत्रों के छात्रों के बीच शिक्षा को बढ़ावा देने के उद्देश्य से विभिन्न सरकारी योजनाओं को लोकप्रिय बनाने की जिम्मेदारी सौंपी गई है। याचिकाकर्ता न केवल व्यक्तिगत लाभ के लिए उन्हें सौंपे गए उत्तरदायित्व को निभाने में विफल रहे हैं बल्कि वास्तव में इन योजनाओं द्वारा प्राप्त किए जाने वाले उद्देश्य को भी कम करके आंका है।
याचिकाकर्ता ने अपने कृत्यों के माध्यम से बड़े पैमाने पर जनता को धोखा दिया है जिससे सरकारी खजाने को भारी वित्तीय नुकसान हुआ है। समग्र तथ्यों और परिस्थितियों की समग्रता को ध्यान में रखते हुए जमानत आवेदनों को खारिज किया जाता है।

हालांकि, कोर्ट ने याचिकाकर्ताओं को जांच के जरिए उनके खिलाफ चालान दाखिल करने के बाद नए सिरे से जमानत याचिका दायर करने की स्वतंत्रता भी दी है। कोर्ट ने यह स्पष्ट किया है कि कोर्ट ने मामले के गुण-दोष पर विचार नहीं किया है और इसमें कोई भी टिप्पणी, अपने आप में, पक्षकारों के हितों के प्रतिकूल नहीं होगी और न कोर्ट के अंतिम फैसले पर कोई प्रभाव पड़ेगा। गौरतलब है कि पूर्व में सेशन कोर्ट से भी आरोपी सरकारी अध्यापकों की जमानत खारिज हो गई थी।

सरकार द्वारा इस तरह की कल्याणकारी योजनाओं को शुरू करने का उद्देश्य आर्थिक रूप से पिछड़े या समाज के कमजोर वर्गों या कम आय वाले परिवारों के छात्रों को शामिल होने और नियमित रूप से स्कूल जाने के लिए प्रोत्साहित करना है, ताकि वे शिक्षित हो सकें और उन्हें विभिन्न चुनौतियों का सामना करने में सक्षम बना सकें। बावजूद इसके कि वे समाज के सबसे निचले पायदान के सदस्य हैं।

पोषण गबन के मामले में पुलिस अभी तक 24 आरोपियों को गिरफ्तार कर सलाखों के पीछे पहुंचा चुकी है, जिनमें 9 सरकारी शिक्षक भी शामिल है। प्रतापगढ़ के एसपी अमित कुमार ने बताया कि  बीती 1 मई को पुलिस ने एक साथ 10 स्थानों पर छापेमारी करते हुए मुख्यमंत्री बाल गोपाल योजना एवं उड़ान योजना के तहत सरकारी विद्यालयों व आंगनवाड़ी केंद्रों पर सप्लाई किए जाने वाले सवा लाख सेनेटरी नैपकिन, कई क्विंटल पोषाहार और मिल्क पाउडर बरामद किया था। प्रतापगढ़ के कोतवाली और धमोतर थाने में इसको लेकर 5 प्रकरण दर्ज किए गए थे।

पोषण घोटाले मामले में धरियावद के ब्लॉक शिक्षा अधिकारी राम मोहन मीणा को भी निलंबित किया गया है। 24 लोगों के जेल में जाने के बाद जांच में ब्लॉक शिक्षा अधिकारी धरियावद का नाम सामने आया था। जिसके बाद SP अमित कुमार की रिपोर्ट के बाद जिला कलेक्टर वह जिला शिक्षा अधिकारी ने ब्लॉक शिक्षा अधिकारी के खिलाफ विभाग को पत्र भी लिखा।

5 *दिल्ली नर्सिंग काउंसिल में संशोधन के लिए याचिका, हाईकोर्ट ने दिल्ली सरकार को जारी किया नोटिस*

दिल्ली उच्च न्यायालय ने गुरुवार को दिल्ली नर्सिंग काउंसिल (डीएनसी) अधिनियम में उपयुक्त संशोधन लाने पर विचार करने के लिए दिशा-निर्देश मांगने वाली याचिका पर एनसीटी दिल्ली सरकार और अन्य को नोटिस जारी किया।
याचिकाकर्ता इंडियन प्रोफेशनल नर्सेज एसोसिएशन याचिकाकर्ता ने याचिका के माध्यम से दिल्ली नर्सिंग काउंसिल अधिनियम, 1997 की धारा 3(1)(एच) को असंवैधानिक घोषित करने का निर्देश देने की मांग की।
याचिका में डीएनसी अधिनियम में संशोधन की मांग की गई है, जिसके तहत दिल्ली नर्सिंग काउंसिल में पंजीकृत सभी नर्सें उस प्रक्रिया में भाग ले सकती हैं, जिसके द्वारा सदस्य दिल्ली नर्सिंग काउंसिल के लिए चुने जाते हैं।

जस्टिस सतीश चंद्र शर्मा और जस्टिस सुब्रमण्यम प्रसाद की बेंच ने गुरुवार को दिल्ली सरकार, दिल्ली नर्सिंग काउंसिल और ट्रेंड नर्सेज एसोसिएशन ऑफ इंडिया से जवाब मांगा।अधिवक्ता रॉबिन राजू के माध्यम से याचिकाकर्ता संगठन ने दिल्ली नर्सिंग काउंसिल अधिनियम, 1997 की धारा 3(1)(एच) को चुनौती दी है, जो प्रशिक्षित नर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया के सदस्यों को अपनी दिल्ली शाखा से एक सदस्य का चुनाव करने के लिए विशेष विशेषाधिकार प्रदान करता है। दिल्ली नर्सिंग काउंसिल की।

याचिका में कहा गया है कि प्रशिक्षित नर्सेज एसोसिएशन ऑफ इंडिया विशेष स्थिति के साथ परिषद में अपना एक प्रतिनिधि रखना स्पष्ट रूप से भेदभावपूर्ण है और संविधान के अनुच्छेद 14 का उल्लंघन करता है।
“धारा 3(1)(एच) अनुच्छेद 14 का उल्लंघन करती है और जब समानता की कसौटी पर परखी जाती है तो यह विफल हो जाती है। यह समझना भी मुश्किल है कि केवल प्रशिक्षित नर्सेज एसोसिएशन ऑफ इंडिया को ही विशेष दर्जा क्यों दिया जा रहा है, जबकि इसी तरह की कई अन्य संस्थाएं हैं। नियुक्त संगठन जो नर्सों के कल्याण के लिए काम कर रहे हैं और दिल्ली में भी पंजीकृत हैं।उपरोक्त प्रावधान इस प्रकार हैस्पष्ट रूप से मनमाना और परिणामस्वरूप संविधान के अनुच्छेद 14 का उल्लंघन, “याचिका में कहा गया है।

याचिका के वकील ने कहा कि डीएनसी अधिनियम की धारा 3(1)(एच), इस तथ्य की अवहेलना करती है कि भारतीय प्रशिक्षित नर्स संघ एक विशेष दर्जा देने के लिए एक वैधानिक निकाय नहीं है।इसके अलावा, यह दोहराया जाता है कि केवल नर्सों का एक वर्ग जो भारत के प्रशिक्षित नर्स संघ के सदस्य हैं, को परिषद के चुनाव की प्रक्रिया में भाग लेने का अधिकार मिल रहा है।

“दिल्ली नर्सिंग काउंसिल के साथ पंजीकृत नर्सों का एक बड़ा वर्ग, जिनके पास भारतीय प्रशिक्षित नर्स एसोसिएशन के अलावा किसी अन्य निकाय से संबद्धता है, उन्हें डीएनसी चुनावों में मतदान के अधिकार से वंचित किया जा रहा है, जिसका प्रभाव यह है कि अनुच्छेद 19 के तहत उनका मौलिक अधिकार निहित है ( 1)(ए) का भी उल्लंघन किया जा रहा है। नर्सों को अपने स्वयं के कल्याण के लिए गठित निकाय की चुनाव प्रक्रिया में भाग लेने के अधिकार से वंचित करना स्पष्ट रूप से मनमाना है।”

6*हिजबुल मुजाहिदीन से जुड़े संदिग्ध को NIA की कोर्ट ने सुनाई 5 साल कैद-ब-मशक्कत की सजा, साथ में जुर्माना भी*

राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) की गुवाहाटी विशेष अदालत ने प्रतिबंधित आतंकवादी संगठन हिजबुल मुजाहिदीन (एचएम) मॉड्यूल के आरोपी मोहम्मद सैदुल आलम को जुर्माने के साथ पांच साल के कठोर कारावास की सजा सुनाई गई है।
एनआईए ने बताया है कि 11 मार्च, 2019 को पांच लोगों को चार्जशीट किया गया था और उनमें से दो की पहचान मोहम्मद सहनवाज अलोम और मोहम्मद उमर फारूक के रूप में की गई थी।”

एनआईए जांच से पता चला कि तीन सजायाफ्ता अभियुक्तों ने असम में हिजबुल मुजाहिदीन (एचएम) मॉड्यूल स्थापित करने के लिए एक कामरूज जमान के साथ साजिश रची थी। साल “2017-2018 के दौरान, उन्होंने जमुनामुख क्षेत्र में और उसके आसपास विभिन्न मस्जिदों, जैसे कि मिलनपुर मस्जिद, इस्लामपुर मस्जिद और सोलमारी मस्जिद में कई बैठकें आयोजित कीं। इन बैठकों का इस्तेमाल प्रतिबंधित संगठन की कट्टर कट्टरपंथी विचारधारा को फैलाने के लिए किया गया, जिसमें भाषणों में कथित अत्याचार और जिहादके बारे में बताया गया था। इन बैठकों में भाग लेने वाले युवाओं को कथित अत्याचारों आदि के जवाब में आतंकवादी कृत्यों को अंजाम देने के लिए एचएम के एक मॉड्यूल को बनाने की आवश्यकता भी जाहिर की गई थी।

अधिकारियों के मुताबिक, कामरूज, शाहनवाज और उमर ने हथियार और गोला-बारूद की खरीद के लिए धन जुटाने की साजिश रची।
“उमर, एक अन्य आरोपी जयनाल उद्दीन के साथ, रसद सहायता प्रदान करता था। अपनी बातचीत  को गुप्त रखने के लिए, कमरुज ज़मान और सैदुल आलम ने अपने मोबाइल सेट पर ब्लैकबेरी मैसेंजर (बीबीएम) ऐप भी इंस्टॉल किया था। कामरुज ने जम्मू और कश्मीर में हिजबुल मुजाहिदीन के कैडर,संपर्क में रहने के लिए इस ऐप का इस्तेमाल किया था।

आगे की जांच से पता चला कि सैदुल ने कामरूज, सहनवाज और उमर के साथ मिलकर दशहरे की पूर्व संध्या पर लुमडिंग और होजई के गैर-मुस्लिम इलाकों में बम विस्फोट और निर्दोष नागरिकों पर सशस्त्र हमले करने की साजिश रची थी। उन्होंने इन हमलों के लिए हथियार और गोला-बारूद खरीदने की भी योजना बनाई थी।

7*पुलिस गवाहों को ढूंढने में रही नाकाम तो मुंबई की अदालत ने अपहरण और लूटपाट के आरोपियों को कर दिया बरी*

मुंबई की एक अदालत ने 1989 में एक व्यवसायी के अपहरण के आरोपी 62 वर्षीय एक व्यक्ति को बरी कर दिया क्योंकि अभियोजन पक्ष पीड़ित के साथ-साथ मामले के अन्य गवाहों का पता लगाने और अभियुक्त के खिलाफ आरोप साबित करने में विफल रहा।

अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश सुनील यू हक ने पारित आदेश में आरोपी अभय उसकईकर को सभी आरोपों से बरी कर दिया।

अदालत ने कहा कि अभियोजन पक्ष ने तीन गवाहों का परीक्षण किया था और बार-बार सम्मन जारी करने के बावजूद अभियोजन पक्ष अन्य गवाहों की उपस्थिति सुनिश्चित नहीं कर सका।

उसकईकर अपहरण और लूटपाट सहित भारतीय दंड संहिता की विभिन्न धाराओं के तहत दंडनीय अपराधों के लिए मुकदमे का सामना कर रहा था।

अभियोजन पक्ष के अनुसार, उसकईकर ने हथियारों से लैस तीन अन्य लोगों के साथ अप्रैल 1989 में दक्षिण मुंबई के कोलाबा इलाके से एक कार में व्यवसायी मोहम्मद रजा हुसैन का अपहरण कर लिया और उन्होंने जबरन एक साझेदारी विलेख पर बाद के हस्ताक्षर प्राप्त किए।

मामले में अदालत ने नवंबर 2022 में आरोप तय किए थे और इस साल मार्च में सुनवाई शुरू हुई थी।

अदालत ने कहा कि यह दिखाने के लिए रिकॉर्ड पर कोई सबूत नहीं है कि उसकईकर ने तीन फरार आरोपियों के साथ आपराधिक साजिश रची।

यह भी पढ़ें : Protection Of Birds And Environment : पक्षियों संग पर्यावरण की सुरक्षा मनुष्य की नैतिक जिम्मेदारी- प्रो. टंकेश्वर कुमार

यह भी पढ़ें : Skin Care Routine : रूटीन में ऐसे रखेंगी त्वचा का ख्याल तो चेहरा दिखेगा लंबे समय तक जवां

Connect With Us: Twitter Facebook

SHARE