Homeहरियाणायमुनानगरसेंट लॉरेंस इंटरनेशनल स्कूल में अध्यापक सम्मान समारोह में 30 अध्यापकों को...

सेंट लॉरेंस इंटरनेशनल स्कूल में अध्यापक सम्मान समारोह में 30 अध्यापकों को किया गया सम्मानित

प्रभजीत सिंह लक्की, यमुनानगर :

  • प्रोफ़ेसर ढींगरा लाइफ़टाइम अचीवमेंट अवार्ड से 30 अध्यापकों को किया गया सम्मानित

सेंट लारेंस इंटरनेशनल स्कूल पाबनी रोड़, जगाधरी व सेंट लारेंस इंटरनेशनल स्कूल, बिलासपुर के संयुक्त तत्वाधान में स्कूल की चेयरपर्सन डॉ. रजनी सहगल की अध्यक्षता में आदर्श शिक्षक और देश के द्वितीय राष्ट्रपति डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन के जन्मदिवस के अवसर पर शिक्षकों के सम्मान में शिक्षक सम्मान दिवस मनाया गया। समारोह का शुभारंभ मैनेजिंग डायरेक्टर डॉ. एमके सहगल, चेयरपर्सन डॉ. रजनी सहगल, मुख्य अतिथि प्रो. आर सी ढींगरा,विशिष्ट अतिथि संदीप गुप्ता व सभी पदाधिकारियों ने भगवान गणेश और माँ सरस्वती के चरणों में दीप प्रज्वलित और पुष्पांजलि अर्पित करके किया। प्रिंसिपल रविंदर सिंह वधवा ने अपने सम्बोधन में सभी का स्वागत किया।

विख्यात् शिक्षाविद डॉ. एमके सहगल ने विद्यार्थियों और शिक्षकों को आह्वान करते हुए कहा कि शिक्षक ही एक सुंदर, सुसभ्य, सुसंस्कृत एवं शांतिपूर्ण राष्ट्र एवं विश्व के निर्माता होते हैं। सभी शिक्षकों को चाहिए कि वे विद्यार्थियों को नैतिकता, संस्कार व नेतृत्व से दक्ष करते हुए शिक्षा दें। जिससे वे विद्यार्थी भविष्य में जिम्मेदार नागरिक बन सकें। चेयरपर्सन डॉ. रजनी सहगल ने कहा शिक्षकों के सम्मान में जो आयोजन किया गया व जो सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किए इसके लिए सभी स्टाफ सदस्य बधाई के पात्र हैं। डॉ. रजनी सहगल ने कहा कि जो लोग अपने माता-पिता और शिक्षकों के निर्देशों का मन से पालन करते हैं वे ही अपने जीवन के लक्ष्य में सफलता प्राप्त करते हैं। इसलिए आप सभी के लिए स्वनियंत्रण में रहते हुए शिक्षकों को अध्ययन के प्रति पूर्ण समर्पित होकर दिखाना ही शिक्षक दिवस का सच्चा सम्मान है।

कार्यक्रम मे डॉ. एससी ढींगरा रिटायर्ड प्रोफेसर महाराजा अग्रसेन कॉलेज को उनके शिक्षण क्षेत्र मे उत्कृष्ट योगदान के लिए लाइफटाइम अचीवमेंट अवार्ड से सम्मानित किया गया। डॉ. ढींगरा ने अपने सन्देश में कहा कि शिक्षक को हमेशा विद्यार्थियों के साथ मधुर व्यवहार रखना चाहिए। हमेशा उन्हें प्रोत्साहित करते रहना चाहिए जिससे वे अपने शैक्षणिक जीवन में कामयाबी हासिल कर सके। उन्होंने कहा कि आजकल विद्यार्थियों और शिक्षकों में धैर्य और सहनशीलता कि कमी है। इसीलिए शिक्षकों को चाहिए कि वे सहनशीलता का गुण स्वयं में धारण करें। उन्होंने गीत भी सुनाया कि प्रभु का शुक्रिया हमेशा करना चाहिए।

कार्यक्रम मे विशिष्ट अथिति संदीप गुप्ता, रितु यादव, मधुकर चौहान एवं रजनीश गुप्ता को चेयरपर्सन डॉ. रजनी सहगल और निदेशक डॉ. एमके सहगल द्वारा उत्कृष्ट शिक्षक सम्मान से अलंकृत किया गया। संदीप गुप्ता ने अपने सम्बोधन मे कहा की आज के भौतिकतावादी युग में धन कमाने की ऐसी आपाधापी मची हुई है कि हम अपने नैतिक मूल्यों को नष्ट करते जा रहे हैं। अधुनातन समय में अधिकांश विद्यार्थी अपने माता-पिता और अपने शिक्षकों से दूरी बनाए हुए हैं।

विद्यालय के शिक्षकों के सत्र 2022-23 की शैक्षणिक व शिक्षणेतर गतिविधियों का मूल्यांकन करते हुए 25 शिक्षको को श्रेष्ट टीचर के साथ सम्मानित किया गया। स्वरांजलि ने विजेताओं कि उद्घोषणा की।

इनको किया गया सम्मानित

जगाधरी कैंपस से शैली चौहान, सुमन यादव, ब्रह्मकांति, रजनी बाला, रजनी शर्मा, लिली मेरी, नेहा चोपड़ा, अनीता, मीनू वर्मा, कमल, पिंकी बंसल, पदमा, मीनाक्षी, गुरप्रीत कौर, नीरू, लखविंदर, दलजीत व बिलासपुर कैंपस से राखी बांगा, रजनी शर्मा, सिंधु शर्मा, ममता बत्रा, भावना, ज्योति बाला, प्रियंका शर्मा, मनदीप कौर, रेणु, मीनू को उल्लेखनीय अध्यापन के लिए सम्मानित किया गया। इसके साथ ही कोरोना समय के दौरान स्कूल द्वारा आयोजित ऑनलाइन प्रतियोगिताओं के लिए शैली चौहान, सुमन यादव, नीरू, लखविंदर, संगीता, अमिता शर्मा, पिंकी बंसल को भी सम्मानित किया गया।

वित्तीय प्रबंधक नमन सहगल ने कहा की आज के युग मे तकनीक मे आये परिवर्तन को समझते हुए टीचर्स को भी तकनीकी महारत हासिल करके बच्चों को पढ़ाना पड़ेगा तभी हमारा कल को बेहतर बनाने का संकल्प पूरा हो पायेगा। इस अवसर पर डॉ.एमके सहगल, डॉ.रजनी सहगल, प्रिंसिपल रविंदर सिंह वधवा, विक्रांत गुलाटी, गगन बजाज, शैली चौहान, राखी बांगा, ममता बत्रा, सिंधु शर्मा, रजनी बाला, स्वरांजलि, नमन सहगल व सभी शिक्षक और शिक्षणेत्तर सदस्य उपस्थित रहे।

ये भी पढ़ें : दशहरा कमेटी 5.59 बजे करेगी रावण दहन

ये भी पढ़ें : नारायण सेवा संस्थान में 501 दिव्यांगजन निःशुल्क शल्य चिकित्सा शिविर का उद्घाटन

Connect With Us: Twitter Facebook
SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular