Homeहरियाणामहेंद्रगढ़संस्कारों को जीवित रखने के लिए रामायण अत्यंत आवश्यक: रामबिलास शर्मा

संस्कारों को जीवित रखने के लिए रामायण अत्यंत आवश्यक: रामबिलास शर्मा

नीरज कौशिक, महेंद्रगढ़:

  • परिषद के रंगमंच पर होने वाला रामलीला मंचन पूरे हरियाणा में रखता है अलग पहचान – शर्मा
  • परिषद के रंगमंच पर हुआ बाली वध और लंका दहन की बेहतरीन लीला का मंचन

रामलीला परिषद के राजाराम पालडी रंगमंच पर बाली वध और लंका दहन की बेहतरीन लीला का मंचन किया गया। मुख्य अतिथि के रूप में हरियाणा सरकार के पूर्व शिक्षा मंत्री रामबिलास शर्मा और अध्यक्षता कर रहे महेंद्रगढ़ नगरपालिका के चेयरमैन रमेश सैनी ने संयुक्त रूप से मां सरस्वती के समक्ष दीप प्रज्ज्वलित कर लीला का शुभारम्भ किया। विशिष्ट अतिथि के रूप में भाजपा प्रदेश कार्यसमिति सदस्य देवेंद्र यादव और नगरपालिका की उपप्रधान मंजु कौशिक उपस्थित रहे।

गिरते हुए मूल्यों और संस्कारों के लिए रामलीला जरुरी

अपने उद्बोधन में मुख्य अतिथि रामबिलास शर्मा ने उपस्थित अपार जनसमूह को संबोधित करते हुए कहा कि रामलीला परिषद के मंच पर होने वाला रामलीला का मंचन पूरे हरियाणा में अपना एक विशेष स्थान रखता है। उन्होंने रामलीला प्रेमियों से आह्वान किया कि गिरते हुए मूल्यों और संस्कारों को जीवित रखने के लिए राम की लीलाओं का अनुसरण करना होगा तभी हम राम राज्य की कल्पना कर सकते हैं। परिषद के संरक्षक अनिल कौशिक ने मुख्यअतिथि का स्वागत करते हुए कहा कि रामबिलास शर्मा का रामलीला परिषद से सदैव लगाव रहा है और मुख्य द्वार पर बने नये भवन निर्माण में रामबिलास शर्मा का विशेष योगदान रहा है।

परिषद के रंगमंच पर सुग्रीव और बाली संवाद, रावण सीता संवाद और रावण हनुमान संवाद अंतिम समय तक लोगों के कानों में गूंजते रहे। सुग्रीव के अभिनय में संदीप खोरीवाला, बाली के अभिनय में दिनेश खोरीवाला की संवाद अदायगी को दर्शकों ने खूब सराहा। रावण के अभिनय में वरिष्ठ कलाकार सुधीर दीवान, सीता के अभिनय में अतुल शर्मा के संवादों ने खूब तालियां बटोरी। हनुमान के अभिनय ने विक्रम सैनी ने अशोक वाटिका में जाकर मां जानकी के दर्शन कर अपना परिचय दिया। अशोक वाटिका उजाड़ते समय फल तोड़कर दर्शकों में फेंकने के दृश्य से विशेषकर बच्चों में एक नयी उत्जा का संचार हो गया।

हजारों की संख्या में रामभक्त उपस्थित

मेघनाथ के अभिनय में अभिषेक डागर, अंगद के अभिनय में पुनीत शर्मा, अक्षय कुमार के अभिनय के विक्की प्रजापत, विभीषण के अभिनय में जतिन अग्रवाल ने अपने-अपने किरदारों के साथ पूरा न्याय किया। परिषद के संरक्षक चेतनप्रकाश गौड, दयाशंकर तिवाड़ी, अनिल कौशिक, प्रधान दिनकर बोहरा, कार्यकारी प्रधान अमित मिश्रा, राजेश लावणिया, घीसाराम सैनी, गिरीश कनौड़िया, राजेश बोहरा, रामचन्द्र जांगड़ा,अनिल सेठ, सुनील यादव, प्रवीण गौड़, कुलदीप मांदीवाल ने सभी अतिथियों का पटका, अंगवस्त्र, स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया। इस अवसर पर राजेन्द्र पोपली, सुरेश लावणिया, सुरेश मक्कड़, सुशील शर्मा, नरेश जोशी, प्रमोद तिवाड़ी, सूर्यप्रकाश कौशिक, अशोक जांगड़ा, सोहन टैनी, दीपक गौड़, सुरेश पंचोली, अंकित मिश्रा, प्रदीप सेन, शरद कनौड़िया सहित हजारों की संख्या में रामभक्त उपस्थित थे।

Connect With Us: Twitter Facebook
SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular