Homeराज्यपंजाबये होता है त्याग: सात साल बाद बच्चों से मिले भगवंत मान...

ये होता है त्याग: सात साल बाद बच्चों से मिले भगवंत मान After 7 Years Mann Met With Children

  • पहली बार सांसद बनने में पत्नी ने की थी मदद
  • पंजाब और परिवार में से भगवंत ने चुना पंजाब
  • भगवंत को छोड़ परिवार बस गया था अमेरिका

आज समाज डिजिटल, अंबाला:
After 7 Years Mann Met With Children: पंजाब की धरती ने नेतृत्व चुन लिया है। अब भगवंत मान पंज+आब के सिपहसलार होंगे। उनके पंजाबी कोमेडियन होने दो बार सांसद बनने से हर कोई वाकिफ है। उनके विरोधी उनका हाथ में प्याले के लिए कटाक्ष करते हैं। शपथ ग्रहण समारोह में लाखों लोग शामिल हुए। इसमें दो लोग खास थे। जो अमेरिका से आए थे, वो भी सात साल बाद। यहां हम बात कर रहे हैं भगवंत मान के दो बच्चों की। बस यहीं से शुरू होती है उनकी असली कहानी, जिससे आम आदमी परिचित नहीं है।

भगवंत मान का त्याग After 7 Years Mann Met With Children

भगवंत मान पंजाब के जाने-माने कामेडियन। संगरूर से अब तक आम आदमी पार्टी के सांसद। पंजाब के आन-बान और शान मुख्यमंत्री भगवंत मान। आम आदमी के लिए उनकी बस यही पहचान है। पंजाब से संबंध और उनके जज्बे की शायद किसी को सुगबुगाहट भी नहीं। आज हम बात करते हैं उनकी निजी जिंदगी के बारे में।

पंजाब और परिवार बन गया अपना After 7 Years Mann Met With Children

पंजाब के मुख्यमंत्री पद की शपथ का मौका इस बार उन्हें दोहरी खुशी दे गया। एक तरफ तो उनका पंजाब की सेवा करने का सपना साकार हो गया। दूसरा 7 साल उन्हें अपने दोनों बच्चों का दीदार भी हो गया। भगवंत मान के बेटे दिलशान मान (17) और बेटी सीरत कौर मान (21) अमेरिका में अपनी मां इंद्रप्रीत कौर के साथ रहते हैं। मान और इंद्रप्रीत 2015 में अलग हो गए थे। तब से दिलप्रीत अपने दोनों बच्चों के साथ अमेरिका में ही रहती हैं।

After 7 Years Mann Met With Children
After 7 Years Mann Met With Children

मान की सांसदी के लिए पत्नी ने बहाया था पसीना After 7 Years Mann Met With Children

भगवंत मान ने जब पहली बार लोकसभा चुनाव लड़ने का फैसला लिया था। उस समय उनकी पत्नी ने भी उनका पूरा साथ दिया था। उनके लोकसभा क्षेत्र में उन्होंने भी कई रैलियां की थी। चुनाव प्रचार के दौरान इंद्रप्रीत के प्रभावी भाषणों की खूब चर्चा होती थी। उस दौर में तो यहां तक कहा जाता था कि अगर इंद्रप्रीत को आप विधानसभा चुनाव में टिकट दे देती है तो वो बड़ी आसानी से चुनाव जीत सकती हैं।

इस कारण से मांगा तलाक After 7 Years Mann Met With Children

बात 20 मार्च 2015 की है। जब भगवंत मान-इंद्रप्रीत कौर ने कोर्ट में सहमति से तलाक की अर्जी लगाई। इसमें मान का तर्क था कि वे लोगों के विश्वास के चलते पत्नी से तलाक ले रहे हैं। कोर्ट में दी गई अर्जी में भगवंत मान की पत्नी ने शर्त रखी कि अगर मान कैलिफोर्निया शिफ्ट हो जाते हैं तो तलाक नहीं लेंगी। मान का तर्क था कि वे लोगों का विश्वास नहीं तोड़ सकते। यदि पत्नी भारत में सैटल होना चाहती हैं तो वे तलाक की अर्जी नहीं लगाएंगे।

मैं तो यारो पंजाब वल्ल हो गया: मान After 7 Years Mann Met With Children

भगवंत मान ने उस समय फेसबुक पर लिखा था, जो लटका समय से था वह हल हो गया, कोर्ट विच्च फैसला यह कल हो गया, इक पासे परिवार, दूजे पासे सी पंजाब, मैं तो यारों अपने पंजाब वल्ल हो गया। उन्होंने ये लाइनें केवल फेसबुक के लिए ही नहीं बल्कि जिंदगी पर भी उतार ली। इसके बाद भगवंत मान ने परिवार की परवाह की न किसी विपक्ष की। वे सांसद रहते संगरूर की आवाज उठाते रहे। पंजाब की समस्याओं से हमेशा रूबरू हुए।

राजनीति में कद बढ़ा, परिवार छूटने की कसक After 7 Years Mann Met With Children

परिवार के अमेरिका शिफ्ट होने के बाद भी भगवंत मान राजनीति में उनका कद बढ़ता गया। 2019 में दूसरी बार मान लोकसभा सांसद बने। अब पंजाब के 25वें मुख्यमंत्री बने हैं। इसके बाद भी परिवार के दूर होने की कसक आज भी उनके दिल में है। एक इंटरव्यू के दौरान उन्होंने कहा था कि राजनीति की वजह से मैंने अपने बच्चों परिवार को खो दिया। वो अब अमेरिकी नागरिक हैं। उन्होंने इस इंटरव्यू में यहां तक कहा था कि उनके बच्चों से अब बात तक नहीं होती।

SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular