Shri Akal Takht Jathedar: अमृतपाल केस समझ से परे, सीएम के बच्चों को गाली देना बेवकूफी

0
269
Shri Akal Takht Jathedar
श्री अकाल तख्त साहिब के जत्थेदार ज्ञानी हरप्रीत सिंह

आज समाज डिजिटल, Shri Akal Takht Jathedar:  श्री अकाल तख्त साहिब के जत्थेदार ज्ञानी हरप्रीत सिंह ने भी वारिस पंजाब दे के मुखी अमृतपाल सिंह मामले में मुख्यमंत्री भगवंत मान के बच्चों को गाली देने पर खासी नाराजगी जताई है। उन्होंने कहा कि सीएम के बच्चे के बारे में बोला जा रहा है और यह पूरी तरह गलत है। बच्चे बेकसूर है। उन्हें निशाना बनाना बेवकूफी है। ज्ञानी हरप्रीत सिंह ने कहा कि जज्बाती होकर उठाया गया कदम कभी सार्थक नहीं हो सकता।

सरेंडर की बात कभी कहीं तो कभी कहीं, राजनीति का अंदेशा

जत्थेदार ज्ञानी हरप्रीत सिंह ने एक यू-ट्यूब चैनल पर इंटरव्यू के दौरान यह भी कहा कि अमृतपाल का मामला समझ से बाहर है। जब उनसे पूछा गया कि अमृतपाल छह माह में पंजाब में आया और अब यह स्थिति उत्पन्न हो रही है, इस पर उन्होंने कहा कि अमृतपाल सिंह मामला समझ से परे है। इसमें भी कोई राजनीति हो सकती है। जत्थेदार ने कहा, कभी श्री अकाल तख्त साहिब पर तो कभी दमदमा साहिब में सरेंडर की बातें हो रही हैं। मीडिया या सरकार तक यह बातें कौन पहुंचा रहा है, यह देखने की बात है।

भारतीय दूतावासों पर कार्रवाई भी गलत

जत्थेदार ज्ञानी हरप्रीत सिंह ने खालीस्तानी समर्थकों द्वारा भारतीय दूतावासों पर की जा रही कार्रवाई को भी गलत बताया है। उन्होंने कहा, हमें अगर प्रदर्शन करना है तो ऐसे कदम उठाने चाहिए, जिससे नुकसान के बजाय फायदा हो। ऐसा करके हम विरोधियों को प्रोपेगैंडा करने का मौका देते हैं।

27 मार्च को माहौल खराब करने की कोशिश हुई

जत्थेदार ने कहा कि 27 मार्च को बैठक में सिख बुद्धिजीवी पहुंचे थे और इससे पहले आईजी इंटेलिजेंस जसकरण सिंह उन्हें मिलकर गए थे। उन्होंने जसकरण को भी बताया गया था कि बैठक सूझवान सिखों व सयानी शख्सीयतों की है और माहौल खराब होने का सवाल नहीं उठता। लेकिन सिख विरोधी ताकतों ने 27 मार्च को माहौल खराब करने की कोशिशें की।

मीडिया ने पॉजिटिव रोल अदा नहीं किया

ज्ञानी हरप्रीत सिंह ने कहा कि एसजीपीसी ने 27 मार्च की बैठक में कोई सख्त आदेश नहीं दिया। दूसरी तरफ मीडिया ने पॉजिटिव रोल अदा नहीं किया। जो नेगेटिव बोलता था, उसके आगे 5-5 मिनट माइक रखा, जो पॉजिटिव बोलता है, उससे जल्द माइक हटा लिया जाता था। उन्होंने कहा कि 8 लोगों पर एनएसए लगा दिया गया। गिरफ्तारियों के लिए बड़े स्तर पर कार्रवाई की गई, क्योंकि वे सिख हैं।

यह भी पढ़ें :   Indore Temple Accident Update: मध्य प्रदेश के इंदौर में कल हुए हादसे में मृतक संख्या 35 हुई

SHARE