Homeदेशउधार दिए 2 लाख रुपये मांगने पर शिक्षिका को जिंदा जलाया

उधार दिए 2 लाख रुपये मांगने पर शिक्षिका को जिंदा जलाया

  • सड़क पर दौड़ती रही लेकिन किसी ने बचाने की नहीं की जुर्रत

आज समाज डिजिटल, Raiser News:
शिक्षिका को जलाने की घटना 10 अगस्त की है और मंगलवार रात को उसने एसएमएस अस्पताल में उपचार के दौरान दम तोड़ दिया। रायसर थाना पुलिस ने महिला के पर्चा बयान के अधार पर 12 अगस्त को नामजद आरोपियों के खिलाफ जानलेवा हमला करने का मामला दर्ज किया था।

शिक्षिका की मौत पर अब हत्या की धारा जोड़ दी गई है। पुलिस ने मेडिकल बोर्ड से शव का पोस्टमार्टम करवाकर परिजन के सुपुर्द कर दिया है। समाचार लिखे जाने तक पुलिस मामले की जांच कर रही है। अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक धर्मेंद्र यादव ने मामले की जानकारी देते हुए बताया कि रायसर की रहने वाली अनीता देवी पत्नी ताराचंद की जलने से मौत हो गई।

6 वर्षीय बेटे के साथ जा रही थी स्कूल

रिपोर्ट में बताया गया कि वह घर के नजदीक एक निजी स्कूल में बतौर शिक्षिका नौकरी करती है। 10 अगस्त की सुबह करीब 8:00 बजे 6 वर्षीय बड़े बेटे राजवीर को साथ लेकर स्कूल पढ़ाने जा रही थी, तभी रास्ते में ताऊ ससुर स्वर्गीय कन्हैया राम का वार्ड पंच बेटा बाबूलाल रेगर रामकरण और उनके परिवार के सदस्य प्रह्लाद, राजेंद्र , विमला देवी, सरस्वती, सुलोचना, अर्चना को लाठियां लेकर उसकी तरफ आते देखा।

तब वह बेटे को लेकर घर की तरफ भागी और भागते समय मोबाइल से हेड कांस्टेबल विनोद गुर्जर को फोन किया था और 100 नंबर पर भी फोन किया। तभी प्रह्लाद के भाई लालू यादव ने दोनों हाथ पकड़ लिए और घसीटने लगे। राजेंद्र रामकरण ने लात मारी और साथ आई महिलाओं के हवाले कर दिया। फिर आरोपियों ने उस पर पेट्रोल छिड़ककर आग लगा दी। लोग देखते रहे लेकिन बचाने के लिए किसी ने जुर्रत नहीं की।

100 नंबर पर भी मिलाया था फोन

घटना की सूचना पाकर मौके पर अन्य परिजन उसे अस्पताल लेकर पहुंचे। जमवारामगढ़ उप अधीक्षक शिवकुमार भारद्वाज ने बताया कि अनीता ने सुलोचना पर वह सरस्वती के खिलाफ उधार दिए 2 लाख मांगने पर मारपीट करने का मामला 7 मई को दर्ज करवाया था। दोनों महिलाओं को गिरफ्तार कर कोर्ट में चार्जशीट पेश की तब आरोपी पक्ष के बाबूलाल गवारिया को शांति भंग करने के मामले में गिरफ्तार कर और पाबंद करवाया गया।

13 मई को अनीता ने उधार लिए रुपये मांगने पर सुनील, मोहन व अन्य पर मारपीट,अभद्रता करने पर सुनील को गिरफ्तार कर कोर्ट में पेश किया। 8 अगस्त को दूसरे पक्ष ने अनीता के खिलाफ झगड़ा मारपीट करने की रिपोर्ट दर्ज कराई अनीता ने भी दूसरे पक्ष के रिपोर्ट दर्ज कराई। इस मामले की जांच जारी थी।

यह चल रहा था विवाद

पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार अनीता से 3 वर्ष पहले ताऊ ससुर स्वर्गीय कन्हैया राम के पौते सुनील रेगर ने 2 लाख रुपये उधार लिए थे। सुनील रुपए नहीं लौटा रहा था। आरोपियों की बात को लेकर दोनों परिवार के बीच झगड़ा चल रहा था। अनीता के परिजन ने बताया कि आरोपियों ने अनीता जब भी उधार रुपए मांगती तभी झगड़ा करते।

पुलिस के हाथ खाली

घटना 10 अगस्त की है लेकिन अभी तक पुलिस यह तय नहीं कर सकी अनीता को किसने जलाया है। पुलिस ने मामले में समाचार लिखे जानते तक किसी को भी गिरफ्तार नहीं किया। पुलिस बयान लेने आई ताराचंद ने डीजीपी से जांच करवा कर न्याय दिलवाने की मांग की है समाचार लिखे जाने तक पुलिस मामले की छानबीन कर रही थी

ये भी पढ़ें : सत्य साई प्ले वे स्कूल में स्वतंत्रता दिवस धूमधाम से मनाया

SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular