Homeदेश‘5 अगस्त’ भारत के इतिहास की स्वर्णिम अक्षरों में लिखी जाने वाली...

‘5 अगस्त’ भारत के इतिहास की स्वर्णिम अक्षरों में लिखी जाने वाली तिथि है

 

Is it a crime to be a Hindu in India?
Is it a crime to be a Hindu in India?

डॉ महेंद्र ठाकुर

वक्तव्य राजनीतिक दलों के नेता देते जरूर थे, लेकिन सत्य यह था कि जम्मू-कश्मीर अनुच्छेद 370 के नागपाश में बंधा हुआ था और भारत से कटा हुआ था। यह अनुच्छेद भारत सरकार के किसी भी निर्णय को सीधे तौर पर जम्मू-कश्मीर में लागू होने से रोकता था। इसलिए ‘जम्मू-कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है’ यह बात 5 अगस्त 2019 से पहले केवल कहने भर के लिए ही थी।

अनुच्छेद 370 एक जहरीले कांटे की तरह

भारत माता के शीश मुकुट जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 एक जहरीले कांटे की तरह था। इसके कारण कश्मीर घाटी के चंद परिवार मालामाल हो रहे थे। विशेषकर कश्मीर घाटी में अलगाव की आग धधक रही थी। घाटी के युवा पत्थरबाज़ बने हुए थे। सेना को अनेक प्रकार की चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा था।

कश्मीर घाटी के नेता जो अनुच्छेद 370 को अपने लाभ के लिए पत्थर की लकीर समझते थे, उनमें से नेशनल कॉन्फ्रेंस के अध्यक्ष और जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री फ़ारुख़ अब्दुला दंभ के साथ कहते थे,”धरती पर कोई भी ताकत अनुच्छेद 370 को छू नहीं सकती।” वहीं पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ़्ती कहती थी,”370 को कोई छू भी नहीं सकता। इससे एक कदम आगे बढ़कर उन्होंने धमकी दी थी “ना समझोगे तो मिट जाओगे ऐ हिन्दुस्तान वालो, तुम्हारी दास्तान तक भी ना होगी दास्तानों में”

एक नए युग की शुरुआत 

अनुच्छेद 370 के नाम पर चाँदी काटने वाले इन कश्मीर घाटी के नेताओं को लद्दाख के सांसद जमयांग सेरिंग नामग्याल ने संसद में यह कहते हुए मुहतोड़ उत्तर दिया था,”इस फ़ैसले से केवल दो परिवारों की रोज़ी-रोटी बंद होगी।” इस विषय पर कांग्रेस का अपना ही राग था। लेकिन 5 अगस्त 2019 को भारत सरकार ने सभी को चौंकाते हुए अनुच्छेद 370 हटा दिया और जम्मू-कश्मीर और लद्दाख में एक नए युग की शुरुआत हुई।

देशवासियों ने खुशियां मनाई। 5 अगस्त 2019 का दिन कश्मीर घाटी में बढ़ रहे अलगाववाद पर बहुत शक्तिशाली प्रहार था। इस प्रहार की चोट इतनी गहरी थी कि पाकिस्तान भी कुकुर की तरह बिलबिला रहा था। 5 अगस्त 2019 को जम्मू-कश्मीर के ‘भारत का अभिन्न अंग’ होने की राह में कांग्रेस द्वारा स्थापित गुप्त बाधा अर्थात अनुच्छेद 370 की समाप्ति होना एक ऐतिहासिक दिन था। आज 5 अगस्त के दिन उस घटनाक्रम का स्मरण करना अपरिहार्य है।

हिन्दू समाज की विजय

पिछले 500 वर्षों के इतिहास में 5 अगस्त 2020 के दिन एक और ऐतिहासिक घटना घटी। इस शुभ क्षण की प्रतीक्षा में हिन्दू समाज पिछले 491 वर्ष से संघर्ष कर रहा था। 21 मार्च 1528 को मुगल आक्रांता बाबर के आदेश पर उसके सिपहसलार मीर बाकी ने राममंदिर को ध्वस्त किया था और फिर उसके स्थान पर एक ढांचा खड़ा कर दिया था। उस ढांचे को हिन्दू समाज ने 6 दिसंबर 1992 को उखाड़ फेंका था। इसके बाद न्यायलय में प्रकरण चला और हिन्दू समाज की विजय हुई।

‘दिव्य क्षण’ की प्रतीक्षा और संघर्ष

हिन्दू संस्कृति की अस्मिता को कलंकित करने वाला यह ऐतिहासिक कलंक 5 अगस्त 2020 को धुला था। 5 अगस्त 2020 को राममंदिर निर्माण के लिए भूमिपूजन के ‘दिव्य क्षण’ की प्रतीक्षा और संघर्ष में रामभक्तों की कई पीढ़ियां अपने आराध्य प्रभु श्रीराम का मंदिर बनाने की अधूरी कामना के साथ उनके श्री चरणों में लीन हो गईं थीं। लेकिन 5 अगस्त 2020 को वह शुभ क्षण आया और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के हाथों द्वारा असंख्य सनातनी रामभक्त हिन्दुओं के संघर्ष, त्याग और तप की पूर्णाहुति हुई। उस दिन सम्पूर्ण हिन्दू समाज के आनंद की कोई सीमा नही थी। इसलिए हिन्दू समाज के लिए 5 अगस्त का दिन आधुनिक ‘दीपावली’ त्यौहार के समान है।

5 अगस्त वर्ष 2019 और 2020 की दोनों ही घटनायें भारत के इतिहास की सुखद और स्वर्णिम अक्षरों में अंकित होने वाली घटनायें हैं। दोनों ही घटनायें देश और धर्म भक्तों का मनोबल बढ़ाने वाली हैं और देश और धर्म विरोधियों की छाती पर मूँग दलने वाली हैं।

डॉ. महेंद्र ठाकुर, हिमाचल प्रदेश आधारित फ्रीलांसर स्तंभकार हैं साथ ही कई बेस्टसेलर और सुप्रसिद्ध पुस्तकों के हिंदी अनुवादक भी हैं। इनका ट्विटर हैंडल @@Mahender_Chem है।

SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular