Homeलाइफस्टाइलज्यादा खट्टा और मीठा खाते है तो हो जाएं सावधान, सेहत और...

ज्यादा खट्टा और मीठा खाते है तो हो जाएं सावधान, सेहत और खूबसूरती को करें खराब

आज समाज डिजिटल, अंबाला:
कई घरों में पोहे में टमाटर खूब डाला जाता है, परोसते समय उस पर नींबू भी निचोड़ा जाता है। इससे स्वाद तो बढ़ जाता है, लेकिन अतिरिक्त खटास कई समस्याओं का कारण बनती है। क्योकि पोहा में वे एक से अधिक खट्टी चीजों का उपयोग करके इसे स्वादिष्ट बनाते हैं, लेकिन यह स्वाद सेहत के लिए नुकसान का सौदा हो सकता है।

मालपुआ, जलेबी और खीर एक साथ खाने से भी होगा नुकसान

ज्यादा खट्टा और मीठा खाते है तो हो जाएं सावधान, सेहत और खूबसूरती को करें खराब
ज्यादा खट्टा और मीठा खाते है तो हो जाएं सावधान, सेहत और खूबसूरती को करें खराब
  • एक ही टेस्ट की दो चीजों को मिलाने से खाने का सीधा असर पाचन शक्ति पर पड़ता है। अलग-अलग स्वाद की खट्टी चीजों के साथ ही नहीं, बल्कि खीर, मालपुआ, जलेबी जैसी अलग-अलग स्वाद की मीठी चीजों से भी परहेज करना चाहिए। सभी मीठे होते हैं लेकिन एक साथ खाने से अपच होता है।
  • एक ही रेसिपी में दो या दो से ज्यादा खट्टी चीजें एक साथ इस्तेमाल करने से भी सेहत को काफी नुकसान हो सकता है। शरीर के अंदर, वे एक दूसरे के साथ प्रतिक्रिया करते हैं।
  • खट्टी चीजों की मात्रा अधिक मात्रा में बढ़ जाती है। इससे एसिडिटी हो जाती है।
  • कुछ लोग कढ़ी बनाते समय दही के साथ नींबू का भी प्रयोग करते हैं जो कि गलत है। दूध और दूध से बनी चीजों में नींबू के इस्तेमाल को गलत बताया गया है। पित्त के बढ़ने से पेट में कई तरह की समस्याएं होती हैं। शरीर की गर्मी बढ़ जाती है।
  • ज्यादा खटास शरीर में पित्त को बढ़ाती है। इससे खुजली हो सकती है।
  • शरीर में गर्मी बढ़ने की भी संभावना है। इससे गुदा से खून भी आ सकता है।
  • अधिक खटास के कारण शरीर में अत्यधिक गर्मी के कारण पेशाब में जलन हो सकती है।
  • आंतों में सूजन की समस्या भी हो सकती है, जिससे पेट के अंदर जलन, गैस और पेट फूलने की समस्या हो सकती है।

ज्यादा खट्टा खराब कर देगा खूबसूरती

  • ज्यादा खटास होने से चेहरे पर काफी मुंहासे निकलने लगते हैं।
  • बालों के झड़ने की समस्या भी शुरू हो जाती है।
  • मासिक धर्म के दौरान महिलाओं को अधिक डिस्चार्ज हो सकता है। इसलिए अधिक मात्रा में खट्टा खाने से बचना चाहिए।

पकाने और खाने का सही तरीका सेहत को बचाएगा

  • टमाटर को ढेर सारे मसालों के साथ भूनने से इसमें मौजूद पोषक तत्व कम हो जाते हैं।
  • कम पके या ताजे टमाटर खाना ज्यादा फायदेमंद होता है।
  • कुछ रेसीपीज में दही को भून दिया जाता है, यह भी गलत है।

पित्त को कैसे नियंत्रित करें?

  • ऐसिडिटी को बढ़ाने वाले फूड्स के बजाय अल्काइन फूड्स अच्छे आहार माने जाते हैं।
  • एसिडिटी बढ़ने पर खीरा, छाछ, नारियल पानी का सेवन करना चाहिए। इससे पेट को आराम मिलेगा।

ये भी पढ़ें : गर्मियों के मौसम में टॉय करें ड्राई फ्रूट्स मिल्क शेक

ये भी पढ़ें : गर्मियों में लस्सी का सेवन करना है बहुत लाभकारी 

Connect With Us: Twitter Facebook
SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular