Homeराज्यपंजाबमोहाली एयरपोर्ट का नाम शहीद -ए- आजम सरदार भगत सिंह के नाम...

मोहाली एयरपोर्ट का नाम शहीद -ए- आजम सरदार भगत सिंह के नाम पर

जगदीश, नवांशहर:

  • हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहरलाल खट्टर व पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान की सांझी कोशिश के लिए जताया आभार

बलिदानी भगत सिंह के पैतृक गांव खटकड़ कलां के निवासियों ने सरपंच कुलविंदर कौर तथा शहीदे आजम सरदार भगत सिंह वेलफेयर सोसायटी के प्रधान गुरजीत सिंह के नेतृत्व में सांझी बैठक बुलाकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का मोहाली एयरपोर्ट का नाम शहीदे आजम सरदार भगत सिंह के नाम पर रखने के लिए आभार जताया उन्होंने कहा कि लंबे समय से पंजाब के लोगों की मांग थी कि मोहाली एयरपोर्ट का नाम बलिदानी के नाम पर रखा जाए। उन्होंने कहा कि हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहरलाल खट्टर तथा पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान ने अपने एजेंडे में मोहाली एयरपोर्ट का नाम युवाओं के प्रेरक तथा क्रान्तिवीर भगतसिंह के नाम पर रखने का प्रपोजल बनाया जिसे प्रधानमंत्री ने माना तथा भगतसिंह के 119वें जन्मदिन पर मोहाली एयरपोर्ट का नामकरण शहीद के नाम पर करके पंजाब व हरियाणा तथा करोड़ों युवाओं को सौगात के रूप में उनकी मनोकामना पूरी कर दी। इस कार्य के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को गांव की पंचायत तथा शहीदे आजम सरदार भगत सिंह वेलफेयर सोसाइटी अलग अलग धन्यवाद पत्र प्रधानमंत्री को भेजेगी। इस मौके पर शहीदे आजम सरदार भगत सिंह वेलफेयर सोसायटी के प्रधान गुरजीत सिंह, तरलोचन सिंह पंच, बाबा हरमिंदर सिंह लक्की, गौरव की सुरिन्द्रपाल महे मौजूद रहे।

इन लोगों ने भी किया मोहाली एयरपोर्ट का नाम बलिदानी के नाम पर रखने पर प्रधानमंत्री का धन्यवाद

बंगा से आप नेता कुलजीत सिंह सरहाल, बलाचौर की विधायक बीबी संतोष चौधरी, मास्टर रामकिशन पल्ली झिक्की, इंद्रजीत सिंह मान, जगजीत सिंह सोढी, ललित मोहन पाठक बल्लू प्रधान, शिव कौडा, अमरदीप बंगा, गगन अग्निहोत्री, पुष्पा देवी बलवीर करनाणा, कांग्रेस नेता हरप्रीत सिंह कैंथ, सतबीर सिंह पल्ली झिक्की, भाजपा नेता चौधरी मोहनलाल, संजीव भारद्वाज, कृष्ण कुमार, नरेश रावल, प्रीतपाल सिंह बजाज, विक्की खोसला, रामानन्द भनोट, प्रिंस सिंह, प्रभजोत भनोट शामिल रहे।

मुख्यमंत्री 28 सितम्बर को खटकड़कलां में बाधा के मुताबक खेल स्टेडियम बनाने के लिए करें घोषणा तथा कार्रवाई आरम्भ कार्रवाई

शहीदे आजम सरदार भगत सिंह वेलफेयर सोसायटी के प्रधान गुरजीत सिंह ने पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान से मांग की है व 28 सितम्बर को बलिदानी भगत सिंह के जन्मदिन पर खटकड़कलां जब उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित करने के लिए आए तो क्षेत्र के लोगों की लम्बे समय से खेल स्टेडियम बनाने की मांग को पूरा करे मुख्यमंत्री ने लोगों से वादा किया था कि वह खटकड़कलां में आधुनिक सुविधाओं से लैस खेल स्टेडियम बनवाएंगे। खटकड़कलां में खेल स्टेडियम बनने से बंगा विधानसभा क्षेत्र व नवांशहर विधानसभा क्षेत्र के खिलाडि़यों को विभिन्न खेलों के ट्रैक बन जाने पर अपनी खेल प्रतिभा उजागर करने का मौका मिलेगा। उन्होंने कहा कि अभी संपन्न हुई जिला स्तरीय खेलों में रैसलिंग हॉकी फुटबाल बास्केटबाल एथलेटिक्स में तथा रेसलिंग में जिले के सैकड़ों खिडारियों ने अपनी ऊर्जावान शक्ति का प्रदर्शन किया है तथा वह खिलाड़ी राज्य स्तरीय खेलों में अपना सहयोग करेंगे। उन्होंने कहा कि बन्गा क्षेत्र में खिलाडि़यों की स्टेडियम सम्बन्धी कमी को अगर सुविधा खटकड़कलां में खेल स्टेडियम बनाकर पूरी की जा सकती है।

जिले में घोषित मैडीकल कालेज भी खटकड़कलां में बने सरपंच कुलविंद्र कौर

सरपंच कुलविंद्र कौर ने कहा कि मुख्यमंत्री भगत सिंह मान ने पंजाब में 16 नए कालेज बनाने की घोषणा की है जिसके तहत जिला शहीद भगत सिंह नगर में भी मैडीकल कालेज बनाने की बात की गई है। उन्होंने कहा कि खटकड़कलां में मैडीकल कालेज तथा हस्पताल बनाया जाए जिससे जिले के बच्चों को डॉकटर, पैरामैडीकल, हेल्थकेयर अधिकारी बनने का मौका मिलेगा। इसके अलावा मैडीकल अस्पताल में लोगों को हैल्थ सुविधाएं मिलेंगी जिसके लिए वह दूर दूर के अस्पताल में तथा प्राइवेट स्कूलों में महंगे इलाज से बच जाएंगे।

सरपंच कुलविंद्र कौर

 

मुख्यमंत्री गांव की पंचायत तथा समाजसेवी संगठनों के प्रतिनिधियों से मिलने के लिए पहले से ही टाइम फिक्स करने
गांव की सरपंच कुलविंद्र कौर, पंच तरलोचन सिंह, पंच सुरेन्द्र पाल महे’, बाबा हरमिंदर सिंह लक्की, गौरव घई ने पंजाब सरकार के मुख्यमंत्री भगवंत मान से अपील की है कि गांव की पंचायत को खटकड़कलां पहुंच अनदेखा न करें। वह गांव की पंचायत के स्थानीय समस्याओं के हल के लिए पंचायत को मिलने का मौका दें जिससे पंचायत उन्हें सम्मानित भी कर सकें। उन्होंने कहा कि विगत समय के दौरान जब भी केन्द्रीय सरकार या स्थानिक सरकार ने कभी भी कोई कार्यक्रम खटकड़कलां में किया तो गांव की पंचायत को अनदेखा नहीं किया। गांव की पंचायत को मिलने के लिए पहले से ही सामान निर्धारित किया जाए तथा स्थानीय समस्याओं को पहल के आधार पर हल किया जाए। उन्होंने कहा कि अगर ऐसा होता है तो भगवंत मान के शपथ समारोह में बोले वो शब्द सार्थक हो जाएंगे के अब सरकार गांव से चलेगी।

ये भी पढ़ें : शारदीय नवरात्रि के नौ दिनों में मां दुर्गा को लगाएं ये 9 चीजें का भोग

Connect With Us: Twitter Facebook
SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular