Homeहरियाणामहेंद्रगढ़जिला में जल संरक्षण को बढ़ावा दिया जाएगा : हर्षित कुमार

जिला में जल संरक्षण को बढ़ावा दिया जाएगा : हर्षित कुमार

नीरज कौशिक, महेंद्रगढ़ :

एसडीएम महेंद्रगढ़ ने ग्रहण की मिशन महेंद्रगढ़ अपना जल अभियान की सदस्यता

मिशन महेंद्रगढ़ अपना जल अभियान के तहत जिला में जल संरक्षण पर पौधारोपण को लगातार बढ़ावा दिया जाएगा। इस अभियान में अधिक से अधिक नागरिकों को जोड़ा जाएगा ताकि धरती को हरा-भरा बनाया जा सके। यह बात महेंद्रगढ़ के एसडीएम हर्षित कुमार ने आज मिशन महेंद्रगढ़ अपना जल टीम के सदस्य के रूप में सदस्यता ग्रहण करने के दौरान कही।

पौधारोपण के लिए लोगों को जागरूक किया 

उन्होंने बताया कि इस मिशन को जन आंदोलन के तौर पर चलाया जा रहा है इसमें हर नागरिक की भागीदारी जरूरी है। जल जंगल और जमीन को स्वच्छ व साफ-सुथरा रखना प्रत्येक व्यक्ति की जिम्मेदारी है। ऐसे में हम सभी को पूरी ईमानदारी के साथ इस मिशन से जुड़ना चाहिए। हर्षित कुमार आईएएस ने बताया कि उपायुक्त के सपनों को साकार करने के लिए वह अधिक से अधिक जल संरक्षण के लिए व पौधारोपण के लिए लोगों को जागरूक करेंगे।

उन्होंने लोगों से आह्वान किया है कि वह अपने आस पड़ोस में पानी को बर्बाद होने से रोके अपने नल की टोटी को बंद करके रखें। पानी को बर्बाद ना होने दें। सर्दी के मौसम को देखते हुए उन्होंने लोगों से आह्वान किया है कि सर्दी से बचाने के लिए पेड़ों की देखभाल करें। उनमें समय-समय पर पानी डालें ताकि सर्दी की चपेट में ना आ सके।

उन्होंने बताया कि जिला महेंद्रगढ़ में पानी बहुत नीचे है इसके लिए हमें पानी की एक-एक बूंद को बचाना है। बरसात के पानी को छोटे-छोटे गड्ढे बनाकर उसमें इकट्ठा किया जा सकता है ताकि बरसात का पानी धरती मां की गोद में समा सके।

अधिक पानी को बर्बाद ना करें

उन्होंने किसानों से आह्वान किया है कि वे अपने खेतों की मेड को मजबूत रखें ताकि बरसात का पानी खेतों में समा सके। उन्होंने किसान भाइयों से पुनः आह्वान किया है कि आप अपने ट्यूबल का पानी जरूरत के अनुसार ही खेती के लिए प्रयोग करें अधिक पानी को बर्बाद ना करें। मिशन महेंद्रगढ़ अपना जल टीम के सदस्य राजेश शर्मा झाड़ली ने बताया कि उपायुक्त एवं मिशन महेंद्रगढ़ अपना जल के संयोजक महोदय डॉ. जयकृष्ण आभीर के दिशा निर्देश अनुसार आज लघु सचिवालय में हर्षित कुमार आईएएस ने अपनी टोपी व टी-शर्ट लेकर सदस्यता ग्रहण की। इस अवसर पर स्टेनो ब्रह्मदत्त शर्मा, सतवीर सिंह, शंकर आदि मौजूद रहे।

ये भी पढ़े: सरस और क्राफ्ट मेले में आई शिल्पकला की विदेशों में भी सुनाई दे रही है गूंज

ये भी पढ़े: ब्रह्मसरोवर के पावन तट पर देखने को मिलेगा 23 प्रदेशों की शिल्पकला का अनोखा संगम

Connect With Us: Twitter Facebook
SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular