Homeखेलटोक्यो ओलंपिक: रवि कुमार दहिया 'गोल्ड' से चूके, भारत की झोली में...

टोक्यो ओलंपिक: रवि कुमार दहिया ‘गोल्ड’ से चूके, भारत की झोली में सिल्वर मेडल

आज समाज डिजिटल

टोक्यो। भारतीय रेसलर रवि कुमार दहिया को टोक्यो ओलंपिक में रजत पदक के साथ संतोष करना पड़ा। आरओसी के जावुर युवुगेव ने रवि को पुरुषों के 57 किलो वर्ग के फाइनल मुकाबले में 7-4 से मात दी। इसी के साथ भारत ओलंपिक इतिहास में पहली बार कुश्ती में गोल्ड मेडल अपने नाम करने से चूक गया। युवुगेव ने अपने बेहतरीन रक्षण का नजारा पेश किया और अंकों के आधार पर यह मुकाबला 7-4 से जीता। युवुगेव ने शुरूआती अंक बनाया, लेकिन रवि ने जल्द ही स्कोर 2-2 कर दिया। रूसी खिलाड़ी ने फिर से बढ़त हासिल कर दी। रवि पहले राउंड के बाद 2-4 से पीछे थे। दूसरे राउंड में भी युवुगेव ने एक अंक बनाकर अपनी बढ़त मजबूत की। रवि दूसरे राउंड में भी दो अंक ही जुटा सके। युवुगेव दो बार के विश्व चैंपियन (2018, 2019) रह चुके हैं। जिस साल (2019) में उगयेव ने नूर सुल्तान में विश्व चैंपियनशिप का सोना जीता था, उसी वर्ष रवि ने इसी वर्ग में कांस्य अपने नाम किया था। वह मौजूदा एशियाई चैंपियन (2020, 2021) और अंडर-23 विश्व चैंपियनशिप (2018) के रज पदक विजेता हैं। बता दें कि कुश्ती में भारत का यह दूसरा रजत पदक है। इस खेल में लंदन ओलंपिक में सुशील कुमार रजत पदक जीत चुके हैं। सुशील कुमार ने 2008 बीजिंग ओलंपिक में ब्रॉन्ज, जबकि 2012 लंदन ओलंपिक में सिल्वर मेडल अपने नाम किया था। लंदन ओलंपिक में योगेश्वर दत्त ने भी कांस्य पदक जीता था। वहीं साक्षी मलिक रियो ओलंपिक 2016 में कांसे का तमगा अपने नाम कर चुकी हैं।
पीएम मोदी ने दी बधाई, कहा- खूब लड़े, आपका जवाब नहीं
रवि दहिया को ओलंपिक में जीतने पर पीएम नरेंद्र मोदी ने भी बधाई दी है। पीएम मोदी ने ट्वीट किया, ‘रवि कुमार दहिया बेहतरीन पहलवान हैं। उनकी फाइटिंग स्पिरिट का कोई जवाब नहीं है। उन्हें टोक्यो ओलंपिक में सिल्वर मेडल जीतने के लिए शुभकामनाएं। भारत को उनकी इस शानदार उपलब्धि पर गर्व है।’

SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular