ITV network से  एक्सक्लूलिव हात करते हुए  Pakistan  के रुकाव क्रिकेटर्स ने धोनी को  खेल का एंबेसडर माना ..India news पर लाइव शो में बासित अली दानिश कनेरिया मोहम्मद युयुफ लगी भारत की और से रितेंदर सिंह सोढी अयाज़ मेनन और राजकुमार शर्मा ने शिरकत की
बासित भाई पहला सवाल आप ही से करना चाहूंगा धोनी ने अचानक रिटायरमेंट अनाउंस कर दिया है इसको आप कैसे देखते हैं और उन्होंने एक गाने के जरिए रिटायरमेंट का ऐलान करा जो कि शायद आज तक कभी नहीं हुआ क्या कहना है आपका

धोनी पल दो पल का क्रिकेटर नहीं था वह एक महान खिलाड़ी था उसने पूरी दुनिया पर राज करा , इसलिए आप खुद देखें हर जगह से उनके फैंस दुखी जाए कर रहे हैं चाहे वह भारत हो या चाहे पाकिस्तान इससे पता चलता है वह कितना बड़ा खिलाड़ी था , उसने बहुत कुछ हासिल करा जो एक क्रिकेटर हासिल करना चाहता है उसको बहुत अलग-अलग नाम दिए गए मिस्टर कूल,  माही, मिस्टर हेलीकॉप्टर जैसा कि आपके पास खबर आ रही है हमारे पाकिस्तान से जो खबरे आ रही है इससे आप अंदाजा लगा सकते हैं कि पाकिस्तान में उसको कितना चाहा जाता था
दानिश भाई आप तो धोनी के साथ खेले भी है आप कैसे देखते हैं धोनी के ऐसे अचानक रिटायरमेंट ले लेने को मुझे याद उन्होंने ऐसे ही ऑस्ट्रेलिया में करा था जब टेस्ट से संन्यास लिया था कि अचानक घोषणा कर दी थी सन्यास की क्या कहना है आपका
अद्भुत खिलाड़ी था एक महान खिलाड़ी भारत का सबसे कामयाब कप्तान जितनी तारीफ करें कम है , सब इस खबर से सदमे में आ गए कि उन्होंने रिटायरमेंट ले लिया है मैं खुद शौक हो गया था , वह एक डेढ़ साल से क्रिकेट से दूर थे,  तो मुझे लगता है  की प्लानिंग पहले से होगी , मुझे लगता है अगर यह कोविड-19 नहीं होता तो हम  धोनी को खेलते हुए देखते शायद वह भारत के लिए T20 वर्ल्ड कप भी खेलते क्योंकि अभी वो बहुत समय से खेल से दूर थे इस कोविड की वजह से कोई खेल भी नहीं हो पाया इसलिए हो सकता है उन्होंने ये फैसला जल्दी ले लिया , और वह अपना पूरा ध्यान अब फ्रेंचाइजीज क्रिकेट के लिए लगाना चाहते हैं ताकि उन पर कोई दबाव ना हो की टीम में वापसी करनी है,  फ्री माइंड से खेलना चाहते हैं , मुझे लगता है ऐसे महान बल्लेबाज ऐसे महान कप्तान का एक अच्छा फेयरवेल होना था उन्हें मैदान से संन्यास का ऐलान करना चाहिए था
मुझे दानिश भाई अभी भी याद है जब 2005 में पाकिस्तान ने भारत का दौरा करा था उस टीम में आप भी थे और धोनी ने वाइजैक में शतक लगाया था उनका पहला शतक पाकिस्तान के खिलाफ ही आया था ऐसा बहुत कम देखने को मिलता है कि पाकिस्तान के अंदर किसी भारतीय खिलाड़ी की तारीफ हो ऐसे बहुत कम खिलाड़ी होते हैं उस व्यक्ति को यादें आपकी धोनी के साथ या उस वक़्त की तो हमें भी बताएं
उस वक्त वह नए खिलाड़ी थे हर कोई टीम में यही सोच रहा था कि यह नया लड़का है कैसा खेलेगा कैसा नहीं इंजमाम उल हक खुद सोच में थे कि यह नया लड़का कैसा खेलेगा लेकिन जब वह खेल लो उतरे उन्होंने शॉट लगाए जिस तरह से वह खेले उन्होंने हर किसी को शौक कर दिया , मैंने जब उन्हें पर्सनली खेलते हुए देखा  तो मैंने यही सोचा कि यह भारतीय क्रिकेट टीम का भविष्य है , और फिर जब वह पाकिस्तान के दौरे पर आए उन्होंने मुझे बहुत मारा  मैने दो बार आउट भी करा, बहुत शांत स्वभाव के खिलाड़ी है एक जेंटलमैन खिलाड़ी है सच में दोनों एक महान खिलाड़ी है
बासित भाई आपने इमरान खान को कप्तानी करते हुए देखा है और धोनी को भी जिन्होंने तो आईसीसी टूर्नामेंट जीता है भारत को चैंपियंस ट्रॉफी जीत आई है कैसे देखते हैं आप उनकी कप्तानी को
देखिए इमरान खान का  हमारे मुल्क में अलग ही रुतबा था क्योंकि उन्होंने  1992 का वर्ल्ड कप पाकिस्तान को जिताया था मतलब वह सबसे अलग है एक तरीके से वैसे ही भारत के अंदर धोनी अलग है क्योंकि बहुत सारे कप्तान आए भारत के अंदर और अभी भी है जैसे विराट कोहली रोहित शर्मा ने भी थोड़ी कप्तानी करी है लेकिन जो ऊपर वाले ने रुतबा धोनी को दिया है वह कभी मिट नहीं पाएगा क्योंकि वह एक महान कप्तान है , सारी अचीवमेंट ऊपर वाले ने उसकी झोली में डाल दिए क्योंकि उन्होंने भारत के लिए T20 वर्ल्ड कप जीता फेस वन डे वर्ल्ड कप जीता और फीर  चैंपियन ट्रॉफी और साथ साथ में भारत को टेस्ट में नंबर वन भी बनाया
दानिश भाई अभी मैं देख रहा था कि पाकिस्तान के अंदर फैंस भी धोनी के रिटायरमेंट से बहुत दुखी है एक बार उनकी तारीफ परवेज मुशर्रफ ने भी करी थी उनकी बैटिंग की नहीं बल्कि उनके बालों की दानिश भाई  क्या वजह है कि धोनी पाकिस्तान के अंदर इतने लोकप्रिय हैं
देखिए भारत के अंदर नहीं बल्कि पूरे एशिया के अंदर क्रिकेट को एक तरीके से पूजा  जाता है  और जब धोनी जैसे यंगस्टर खिलाड़ी मैदान में उतरते हैं तो हर कोई उनसे सीखना चाहता है , और मुशर्रफ साहब ने भी उनके बालों की तारीफ करी थी वह खुद क्रिकेट को बहुत फॉलो करते हैं ,
तो पाकिस्तान के अंदर भी भारत के खिलाड़ियों की फैन फॉलोइंग ज्यादा है जैसे धोनी की और अब विराट कोहली की , धोनी ने भारत को बहुत सारे बहुत सारे खिलाड़ी दिए हैं जैसे विराट कोहली रोहित शर्मा सुरेश रैना और मुझे एक वाक्य याद आता है आशीष नेहरा टीम से बाहर थे आईपीएल के जरिए उनका वापस टीम में लाना , धोनी यंग क्रिकेटर्स के रोल मॉडल है उन्होंने बहुत सारे यंग खिलाड़ियों को आगे बढ़ाया है चाहे आप अश्विन को ले ले या भुवनेश्वर को , बुमराह की बात करें जितने यंग क्रिकेटर्स आए हैं धोनी ने उन सब को आगे बढ़ाया है , और धोनी ने कभी भी हार को अपने ऊपर हावी नहीं होने दिया हारते थे तो भी मुस्कुराया करते थे
बासित भाई ने धोनी की मुस्कुराहट की बात करी  मैं आपसे पूछना चाहूंगा यह धोनी की मुस्कुराहट कितनी टेंशन देती थी पाकिस्तान के कप्तान को
देखिए टेंशन नहीं होती थी खुशी होती थी टेंशन उन्हें होती है जो क्रिकेट नहीं खेले हैं , और मैं आपको चैंपियंस ट्रॉफी के टाइम की बात बताता हूं उस वक्त सरफराज अहमद कप्तान थे और धोनी ने उनके बेटे के साथ एक तस्वीर ली थी जो पाकिस्तान में बहुत फेमस हुई हर कोई फैन उस फोटो को देख कर बहुत खुश हुआ , पाकिस्तान में हर किसी ने उस वक्त धोनी को दुआ दी कि ऐसा खिलाड़ी शायद ही कभी आएगा
दानिश भाई क्या आपने भी ऐसा ही महसूस करा जैसा कि बासित भाई धोनी के बारे में बता रहे हैं क्यों कैसे इंसान है
जी बिल्कुल जब मैं उनके साथ खेला तो हम होटल में मिला करते थे मैदान में मिलते थे सच में वह एक जेंटलमैन खिलाड़ी थे और एक कुल कप्तान थे , इंडिया पाकिस्तान का जब भी मैच होता था तो हमेशा सारे खिलाड़ी टेंशन में रहते थे प्रेशर होता था उनके ऊपर लेकिन उस वक्त भी ध्वनि बिल्कुल शांत होकर कप्तानी करते थे बासित भाई ने बिल्कुल सही कहा की इस तरह के खिलाड़ी और कप्तान बहुत कम मिलते हैं मैंने ऐसा कप्तान ना ही पाकिस्तान में देखा ना ही भारत भारत में ना ही पूरी दुनिया में , और सबसे बड़ी बात इंडिया टीम को बनाने में उनका सबसे बड़ा योगदान है
 रितेंद्र सोडी पाकिस्तान के अंदर धोनी के रिटायरमेंट के बाद उनकी बहुत चर्चा हो रही है क्या कहना है आपका इस पर कि रिटायरमेंट हुआ है भारत के अंदर और चैट चाहे पाकिस्तान के अंदर

जी बिल्कुल चर्चा हो रही है आखिरकार उन्होंने भारत को दो वर्ल्ड कप जीता है पाकिस्तान के खिलाफ वह बहुत अच्छा खेल है बहुत रन बनाए हैं पाकिस्तान के खिलाफ , मुझे लगता है कि तारीफ पाकिस्तान में नहीं पूरी दुनिया में हो रही है एक लीजेंड खिलाड़ी है धोनी , धोनी जैसा खिलाड़ी आने में वक्त लगेगा अब

अयाज भाई धोनी की रिटायरमेंट की चर्चा भारत के साथ-साथ पाकिस्तान में भी बहुत हो रही है इसको आप कैसे देखते हैं क्या यह धोनी का जो इंपैक्ट था पाकिस्तान के अंदर दोनों ने पाकिस्तान के खिलाफ रन बनाए हैं यह उसका असर है या फिर जो धोनी के अचीवमेंट्स है उसका असर है
देखिए अगर किसी खिलाड़ी को भारत-पाकिस्तान के फैंस  के दिलों पर राज करना है तो उसका एक ही तरीका है या तो वह भारत वाला पाकिस्तान के खिलाफ परफॉर्मेंस करें या फिर पाकिस्तान वाला भारत के खिलाफ तो वह खिलाड़ी करीब 20 साल तक तो लोगों के दिलों से नहीं उतरेगा , ऐसा ही धोनी ने करा पहला टेस्ट शतक पाकिस्तान के खिलाफ पहला वनडे शतक पाकिस्तान के खिलाफ , और धोनी जो स्टम के पीछे माइक का यूज करते थे वह अद्भुत था जैसे बोला को समझाना चाहे वह कप्तान थे या फीर जब विराट कोहली कप्तान बने उसके बावजूद वह बॉलर्स को गाइड करते थे यह उनकी अच्छी खासियत थी खिलाड़ी को समझाते रहना गैल जैसा सामने खिलाड़ी छक्का मार रहा है फिर भी वह कहते थे कि बोलो और फ्लाइट डाल एक महान खिलाड़ी ही कर सकता है , धोनी भारत की टीम को बहुत ऊपर तक ले गए हैं इसका सारा क्रेडिट धोनी हो जाता है

इसके पीछे दोनों ही कारण है क्योंकि धोनी ने पहले अपने शुरुआती दौर में अपना इंपैक्ट डाला जैसा कि मुझे अभी भी याद 2005 में जो उन्होंने पाकिस्तान में जाकर बल्लेबाजी करी उसका इंपैक्ट पड़ा , परवेज मुशर्रफ ने उनकी तारीफ करी थी और फिर उसके बाद 2 साल बाद 2007 में भारत ने पाकिस्तान को हराकर T20 वर्ल्ड कप जीत लिया इस बात का भी बहुत बड़ा इंपैक्ट पड़ा पाकिस्तान के अंदर , धोनी का इंपैक्ट पाकिस्तान के अंदर नेगेटिव नहीं पड़ा पाकिस्तान के अंदर धोनी हीरो बन गए जिस तरह उन्होंने प्रदर्शन करा , मैंने हाल ही में पड़ा है मिस्बा ने खुद ने बोला है धोनी ने भारतीय क्रिकेट की ही बदल दी

बासित भाई जैसे धोनी ने पाकिस्तान के खिलाफ धूम मचाई पहले T20 वर्ल्ड कप में बोल्ड आउट और फिर वर्ल्ड कप फाइनल में पाकिस्तान को हराया आपको क्या लगता है धोनी पाकिस्तान के खिलाफ प्रेशर अच्छा हैंडल करते थे या फिर प्रेशर लेते नहीं थे जिसकी वजह से धोनी आज पाकिस्तान में इतना चर्चित है

सोढी … आपको क्या लगता है कि धोनी सचिन के कद के बराबर हो चुके थे क्योंकि हिंदुस्तान में दो ही खिलाड़ियों की इतनी चर्चा हुई है सन्यास के वक्त पहले तो सचिन और अब धोनी क्या मानना है आपका

जी हां राजीव आपकी परफॉर्मेंस बोलती है आपकी अचीवमेंट्स बोलती है आपका कैरेक्टर बोलता है आप किस तरह टीम को हैंडल करते हैं वह इंपॉर्टेंट है आप की कप्तानी बोलती है, धोनी ने हर फील्ड में अच्छा करा है