HomeचुनावPunjab Assembly Elections 2022 Update मुद्दों में उलझ रही आप, मजीठिया से...

Punjab Assembly Elections 2022 Update मुद्दों में उलझ रही आप, मजीठिया से माफी भी सिरदर्द 

Punjab Assembly Elections 2022 Update

आज समाज डिजिटल, चंडीगढ़:

पंजाब विधानसभा चुनाव में दूसरी बार किस्मत आजमा रही आम आदमी पार्टी शुरू में ही अपने मुद्दों से पीछे हटने लगी है। केजरीवाल का पहले नशे का आरोप और बाद में मंजीठिया से माफी का मुद्दा भी अहम होता जा रहा है। इसके अलावा बादल परिवार की बसों पर केजरीवाल सरकार की छूट भी सिरदर्द बनेगी।(Punjab Assembly Elections 2022 Update) बादल परिवार की ये इंडो कैनेडियन बसें बिना परमिट के एयरपोर्ट तक का सफर कर रही हैं। वहीं दूसरी ओर पंजाब सरकार की इसी तरह की बसों पर दिल्ली सरकार की रोक है।

बादल की बसें भी अहम मुद्दा

केजरीवाल सरकार ने पंजाब सरकार की वोल्वो बसों का पहिया जाम कर दिया, लेकिन इंडो कैनेडियन को खुलेआम छूट दे रखी है। दिल्ली ट्रांसपोर्ट विभाग ने पंजाब की सरकारी बसों को नवंबर 2018 में दिल्ली एयरपोर्ट पर जाने से रोक दिया। सरकारी वोल्वो बसें काफी किफायती थी। (Punjab Assembly Elections 2022 Update)उनका किराया दिल्ली एयरपोर्ट के लिए महज 1050 रुपये था। सरकारी बसें एयरपोर्ट से सस्ते किराए में सवारियों को लाती और ले जाती थी। इसके विपरीत प्राइवेट बस इंडो कैनेडियन को इसकी छूट दी गई।

पंजाब के परिवहनमंत्री अमरिंदर सिंह राजा वडिंग इस मुद्दे को चुनावी जनसभा में जोर शोर से उठा रहे हैं। इस मामले में आम आदमी पार्टी बैकफुट पर हैं।(Punjab Assembly Elections 2022 Update)हाल ही में चुनावी जनसभा में राजा वडिंग ने खुलेआम कहा कि केजरीवाल सरकार बादल परिवार की बसों पर इतनी मेहरबान क्यों है। इंडो कैनेडियन बसें टूरिस्ट परमिट पर चल रही हैं और पंजाब सरकार की बसों को रोका जा रहा है।

चंडीगढ़ पर चल रहा विवाद

चंडीगढ़ पंजाब का ही होना चाहिए क्योंकि जब पंजाब व हरियाणा अलग अलग राज्य बने थे तो देश की तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने कहा था कि कुछ समय के लिए चंडीगढ़ साझा राजधानी रहेगी और बाद में पंजाब को मिल जाएगी। फिर 1985 में राजीव-लौंगोवाल समझौते के तहत चंडीगढ़ को पंजाब के सुपुर्द किए जाने की पूरी तैयारी हो चुकी थी, लेकिन 26 जनवरी 1986 को राजीव गांधी सरकार ने ऐन वक्त पर हाथ खींच लिए और चंडीगढ़ के पंजाब के पास जाने की पूरी कवायद धरी रह गई।(Punjab Assembly Elections 2022 Update) आज भी पंजाब चंडीगढ़ पर अपना पूरा हक जताता है। पंजाब की यह मांग हर बार चुनाव में जोर शोर से उठती है। इस बार भी यह मांग जोर पकड़ने लगी है।

ऐसी चर्चा भी शुरू हो चुकी है कि चंडीगढ़ पंजाब को दिया जा सकता है और केंद्र सरकार फैसला ले सकती है। इस बीच अरविंद केजरीवाल ने इसको कोरी अफवाह बता दिया। भाजपा महिला मोर्चा की प्रदेश प्रधान मोना जयसवाल का कहना है कि चंडीगढ़ पंजाब का है और रहेगा। (Punjab Assembly Elections Update)बाकी रही आम आदमी पार्टी की बात, उनका अपना घर इसलिए बिखर रहा है क्योंकि वह पंजाब विरोधी बातें करते हैं। पंजाब में बात यहां के स्थानीय मुद्दों की करते हैं लेकिन दिल्ली में जाते ही पंजाब को दुश्मन मानने लगते हैं।

केजरीवाल की मजीठिया से माफी पर घिरे 

आम आदमी पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने अमृतसर की अदालत में पूर्व अकाली मंत्री बिक्रम मजीठिया पर नशा कारोबार को लेकर लगाए आरोपों के संबंध में माफीनामा देकर पंजाब की सियासत में भूचाल ला दिया था। (Punjab Assembly Elections Update) इसके बाद उनकी पार्टी में बगावती सुर उठने लगे थे। आप विधायक व नेता प्रतिपक्ष सुखपाल खैरा और विधायक कंवर संधू ने इसे गलत बताते हुए विरोध जताया। वहीं भगवंत मान ने इस्तीफा तक दे दिया था। अब यह जिन्न बोतल से फिर बाहर आ गया है। पुलिस ने मजीठिया पर तस्करी का केस दर्ज कर लिया है।(Punjab Assembly Elections Update) इसके साथ ही केजरीवाल का माफीनामा भी वायरल हो गया है। कांग्रेस इसको चुनावी प्रचार में खूब भूना रही है। भाजपा के पूर्व प्रधान मनोरंजन कालिया का कहना है कि केजरीवाल गिररिट से भी ज्यादा तेज रंग बदलते हैं।

Also Read : Night Curfew Implemented In District जिला में रात 11 से सुबह 5 बजे तक नाइट कफ्र्यू लागू

Read Also: 2 Arrested In Paper Leak Case: सिपाही पेपर लीक मामले में वांछित 2 अन्य आरोपी गिरफ्तार

Also Read : Karnal News खैर की लकडियों को ट्रक में भरकर तस्करी करने वाले दो आरोपी गिरफ्तार

Connect With Us:-  Twitter Facebook

 

SHARE
Mohit Sainihttps://indianews.in/author/mohit-saini/
Humanity Is the Best Religion In The Word
RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments