Homeत्योहारमां शैलपुत्री की पूजन विधि, शुभ मुहूर्त, मंत्र, शुभ रंग, भोग व...

मां शैलपुत्री की पूजन विधि, शुभ मुहूर्त, मंत्र, शुभ रंग, भोग व पूजन सामग्री Worship of Maa Shailputri

Worship of Maa Shailputri

आज समाज डिजिटल, अम्बाला:
Worship of Maa Shailputri : इस बार चैत्र नवरात्रि 2 मार्च 2022 यानि आज से शुरू हो गए है। हिंदूधर्म के अनुसार नवरात्रि के दिनों को बहुत शुभ माना जाता है। नवरात्रों के आने का लोग बहुत बेसब्री से इंतजार करते है। नवरात्रों के नौ दिन मां दुर्गा के नौ रूपों की पूजा की जाती है। पहले दिन लोग मां की प्रतिमा को बड़े धूमधाम से अपने घर में लेट है। शुभ मुहुर्त को देखकर घर पर मां की स्थापना करते है। नवरात्रों में माँ के आने के लिए काफी समय पहले से ही तैयारियां शुरू हो जाता है।

नवरात्रि के पहले दिन यानि आज माता शैलपुत्री की पूजा- अर्चना की जाती है। नवरात्रि के नौ दिनों में मां के अलग अलग नौ रूपों की पूजा की जाती है। भक्त नवरात्रि के दिनों में मां दुर्गा का आशीर्वाद प्राप्त करने के लिए भक्त उपवास भी रखते हैं। मन जाता है कि नवरात्रि के दिनों में मां दुर्गा की विधि-विधान से पूजा करने पर Mother Shailputri is worshiped on the first day of Navratri i.e. today. During the nine days of Navratri, nine different forms of the mother are worshipped. Devotees also keep a fast during the days of Navratri to seek the blessings of Maa Durga. की मनोकामना पूरी हो जाती है। जानें आज के दिन मां शैलपुत्री की पूजा विधि, शुभ मुहूर्त, प्रिय रंग व भोग के लिए क्या करें।

मां शैलपुत्री की पूजा कैसे करें

Worship of Maa Shailputri
Worship of Maa Shailputri

नवरात्रि के पहले दिन मां शैलपुत्री की पूजा की जाती है। मां शैलपुत्री हिमालय की पुत्री होने के कारण मां को शैलपुत्री नाम से जाना जाता है। हिन्दू धार्मिक मान्यताओं के अनुसार मां शैलपुत्री की पूजा करने से आपको अच्छा स्वास्थ्य और मान- सम्मान मिलता है। साथ ही मां शैलपुत्री की पूजा करने से उत्तम वर की मनोकामना पूरी होती है। इस दिन मां शैलपुत्री को सफेद अर्पित किए जाते है क्युकि मां शैलपुत्री को सफेद वस्त्र अतिप्रिय होते हैं। इस दिन मां को सफेद वस्त्र के साथ सफेद फूल अर्पित किए जाते है। मां को भोग में सफेद बर्फी चढ़ा सकते है।

चैत्र नवरात्रि के पहले दिन कौन से शुभ मुहूर्त बन रहे

  • ब्रह्म मुहूर्त- 04:38 am से 05:24 pm
  • अभिजित मुहूर्त- 12:00 pm से 12:50 pm
  • विजय मुहूर्त- 02:30 pm से 03:20 pm।
  • गोधूलि मुहूर्त- 06:27 pm से 06:51 pm।
  • अमृत काल- 08:53 am से 10:32 am।
  • निशिता मुहूर्त-12:01 am, अप्रैल 03 से 12:47 am, अप्रैल 03, 05:02 am, अप्रैल 03 से 06:43 am, अप्रैल 03

चैत्र नवरात्रि घटस्थापना पूजा की सामग्री

Worship of Maa Shailputri
Worship of Maa Shailputri
  • चौड़े मुंह वाला मिट्टी का एक बर्तन कलश
  • सप्तधान्य (7 प्रकार के अनाज)
  • पवित्र स्थान की मिट्टी
  • गंगाजल
  • कलावा/मौली
  • आम या अशोक के पत्ते
  • छिलके/जटा वाला नारियल
  • सुपारी अक्षत (कच्चा साबुत चावल)
  • फूल और फूलो की माला
  • लाल कपड़ा
  • मिठाई
  • सिंदूर
  • दूर्वा

मां शैलपुत्री मंत्र

Worship of Maa Shailputri
Worship of Maa Shailputri

ॐ ऐं ह्रीं क्लीं चामुण्डाय विच्चे ॐ शैलपुत्री देव्यै नम:।

मां शैलपुत्री भोग

इस दिन मां दुर्गा के शैलपुत्री रूप को गाय के घी और दूध से बनी चीजों का भोग लगाया जाता है। हिन्दू मान्यता के अनुसार ऐसा करने से मां शैलपुत्री प्रसन्न होती हैं।

नवरात्रि के पहले दिन का शुभ रंग

नवरात्रि का पहला दिन मां शैलपुत्री की अराधना का दिन होता है। मां शैलपुत्री का पसंदीदा रंग सफेद व लाल है।

Worship of Maa Shailputri

Read Also : हिंदू नववर्ष के राजा होंगे शनि देव Beginning of Hindu New Year

Read Also : पूर्वजो की आत्मा की शांति के लिए फल्गू तीर्थ Falgu Tirtha For Peace Of Souls Of Ancestors

Read Also : हरिद्वार पर माता मनसा देवी के दर्शन न किए तो यात्रा अधूरी If You Dont see Mata Mansa Devi at Haridwar 

Connect With Us: Twitter Facebook

SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular