डिटॉक्स ड्रिंक्स से करें वेट लॉस

0
420

सूरज की तपिश सेहत पर असर डाल सकती है। ऐसे में शरीर को हाइड्रेटेड रखना बहुत जरूरी है। अक्सर लोग पानी पीने से कतराते हैं, लेकिन अगर उसे बना दिया जाए टेस्टी व हेल्दी डिटॉक्स ड्रिंक तो न सिर्फ पानी पीने में अच्छा लगेगा, बल्कि उसके माध्यम से वेट लॉस करना और शरीर को रोगों से दूर रखना भी हो जाएगा संभव

आजकल हमारी जीवनशैली कुछ ऐसी हो चली है कि लोग अक्सर वजन बढ़ने की शिकायत करते हैं। ऑफिस में सीट पर लगातार बैठे रहने, जंक फूड के सेवन इत्यादि से वजन बढ़ने की मुश्किलें पैदा होती हैं। वहीं दूसरी ओर अतिरिक्त परेशानी का सबब बनकर आया है गर्मी का मौसम। स्वस्थ रहने के लिए वजन पर नियंत्रण रखना और शरीर को हाइड्रेटेड रखना दोनों जरूरी है। स्वास्थ्य विशेषज्ञों के अनुसार इसका समाधान हैं डिटॉक्स ड्रिंक्स। यूं भी रोजाना सामान्यत: आठ-दस गिलास पानी पीना आवश्यक माना जाता है। अध्ययनों से यह साबित हुआ है कि पानी पीने से मेटाबॉलिज्म बढ़ता है। इसके जरिए शरीर में मौजूद हानिकारक तत्व बाहर निकलते हैं। वजन घटाने की कोशिशों में भी पर्याप्त वाटर इनटेक से मदद मिलती है। इस पानी में अगर मिल जाएं स्वीट व सिट्रस फ्रूट्स के गुण व फैट बर्र्निंग प्रॉपर्टीज तो न सिर्फ उनका स्वाद बढ़ जाएगा, बल्कि ये डिटॉक्स ड्रिंक्स वजन घटाने में भी मददगार साबित होंगे।

ऐसे बनाएं डिटॉक्स वाटर
आप कोई भी फल और अन्य सामग्री इस्तेमाल करें, पर डिटॉक्स वाटर तैयार करने की प्रक्रिया एक ही होती है।
एक बड़े जग की तली में सभी फलों इत्यादि के पतले गोल स्लाइसेज काटकर लेयर में रखें।

इसके बाद जग में ऊपर से पानी भरें। डिटॉक्स ड्रिंक्स का पूरा फायदा तभी मिलेगा जब आप इन्हें बनाकर करीब छह-आठ घंटे तक रख दें। जब फल इतनी देर तक पानी में पड़े रहेंगे तो पानी में उनके विटामिन व अन्य पोषक तत्व मिल जाएंगे। चूंकि गर्मी का मौसम है तो इन डिटॉक्स ड्रिंक्स में बर्फ डालकर भी पी सकती हैं।

जग में जब पानी खत्म हो जाए तो उसे रीफिल कर लें। इस तरह आप दो-तीन बार जग को तब तक पानी से रीफिल कर सकती हैं, जब तक कि उसका फ्रूटी फ्लेवर बरकरार रहता है।

फेवरेट फ्रूट्स का कॉकटेल
डिटॉक्स ड्रिंक तैयार करने के लिए आप अपने मनपसंद किसी भी फल को चुन सकते हैं जैसे अनार, अंगूर, चकोतरा, मौसम्बी, बेरीज, टमाटर, चुकंदर इत्यादि। अनार के स्लाइस नहीं किए जा सकते, इसलिए उसके दाने इस्तेमाल करें। अन्य फलों को टुकड़ों या स्लाइस में काटकर पानी में डालें और डिटॉक्स ड्रिंक्स तैयार करें। फ्रूट्स में फैट बर्र्निंग प्रॉपर्टीज पाई जाती हैं। ये शरीर से हानिकारक तत्व बाहर निकालते हैं। वहीं इनमें मौजूद विटामिन सी से त्वचा में भी निखार आता है।

लाइम, कुकम्बर, मिंट वाटर
-एक मीडियम साइज नींबू
-एक मीडियम साइज खीरा
-एक छोटा टुकड़ाकसी हुई अदरख
-छह-सात पुदीना पत्ती

शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने और हानिकारक तत्व बाहर निकालने के लिए यह बेस्ट है। खीरे में एंटी इनफ्लेमेटरी प्रॉपर्टीज पाई जाती हैं और यह शरीर को हाइड्रेटेड रखता है। वहीं अदरख में मौजूद विटामिन सी, मैग्नीशियम व अन्य मिनरल्स हृदय की बीमारियों से दूर रखने, ब्लड सर्कुलेशन को सुचारू रखने, दर्द और तनाव से राहत प्रदान करते हैं। स्वाद बढ़ाने के साथ ही पुदीना पत्ती के अनेक फायदे हैं। स्फूर्ति प्रदान करने, याददाश्त बढ़ाने के साथ ही यह डाइजेशन भी अच्छा करता है। इसके साथ ही पुदीने का सेवन थकान और तनाव से भी राहत देता है।

वाटरमेलन, स्ट्रॉबेरी, मिंट वाटर
-तीन-चार कप तरबूज के टुकड़े
-आठ-दस स्ट्रॉबेरी के स्लाइस
-आठ-दस पुदीना पत्ती

उपरोक्त सामग्री से तैयार इस डिटॉक्स ड्रिंक का फ्लेवर आपको मिठास भरा मजेदार स्वाद देगा, पर उससे कोई नुकसान नहीं होगा, क्योंकि यह मिठास नेचुरल है। प्रचुर मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट्स के साथ ही तरबूज में सिट्रूलाइन नामक ऑर्गेनिक कंपाउंड पाया जाता है, यह एक अमीनो एसिड है, जो लिवर और किडनी की कार्य प्रक्रिया को बेहतर बनाता है। तरबूज का सेवन शरीर को हाइड्रेटेड रखने के साथ ही ब्लड प्रेशर को नियंत्रित रखने, मांसपेशियों के दर्द इत्यादि में लाभकारी होता है। वहीं एंटीऑक्सीडेंट्स रिच स्ट्रॉबेरी में मौजूद विटामिन सी कैंसर से लड़ने, रोग प्रतिरोधक क्षमता और आंखों की रोशनी बढ़ाने के लिहाज से भी फायदेमंद है। अगर आपके इलाके में स्ट्रॉबेरी की पैदावार नहीं है, पर आपको इसका फ्लेवर अच्छा लगता है तो आप फ्रोजन स्ट्रॉबेरीज भी इस्तेमाल कर सकती हैं।

एप्पल, सिनामन, लाइम वाटर
-एक मीडियम साइज सेब
-एक टुकड़ा दालचीनी
-एक नींबू

सेब में पाए जाने वाले फाइटोन्यूट्रिएंट्स और एंटीऑक्सीडेंट्स दिल की बीमारियों, हाइपरटेंशन, डायबिटीज और कैंसर का खतरा कम करते हैं। वहीं दालचीनी भी एंटीऑक्सीडेंट्स से भरपूर है। इसमें एंटीइनफ्लेमेटरी, एंटीबैक्टीरियल, एंटीफंगल और एंटीवाइरल प्रॉपर्टीज पाई जाती हैं। इसका सेवन शरीर को रोगों से दूर रखने में लाभकारी है।

नींबू पानी है बेस्ट
नींबू पानी को बेस्ट डिटॉक्स वाटर कहा जाता है। यह हमारे शरीर का मेटाबॉलिज्म तेज करता है। सुबह खाली पेट एक गिलास हल्के गुनगुने पानी में नींबू का रस डालकर पीने से वजन नियंत्रित करने में मदद मिलती है। इसमें शहद मिलाना फायदेमंद रहता है।

-नींबू में फ्लेवोनॉयड्स मौजूद रहते हैं, जो कि एंटीऑक्सीडेंट्स के गुणों से भरपूर होते हैं। ये आपके सेल्स को किसी भी नुकसान से सुरक्षित रखते हैं।

-इसमें मौजूद विटामिन सी एवं अन्य पोषक तत्व उम्र के असर को दूर रखने, त्वचा का सौंदर्य बढ़ाने के साथ ही शरीर की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाते हैं।

-इसमें पोटेशियम प्रचुर मात्रा में पाया जाता है। भोजन में पोटेशियम की समुचित मात्रा की मौजूदगी ब्लड प्रेशर को नियंत्रित रखने में मदद करती है। इससे हार्ट अटैक का खतरा कम होता है।

-नींबू में मौजूद एंजाइम्स लिवर के कार्य में तेजी लाते हैं, फलस्वरूप शरीर से अवशिष्ट पदार्थ बाहर करने की प्रक्रिया तेज होती है।

स्ट्रॉबेरी, कीवी, मिंट फ्लेवर
-आठ-दस स्ट्रॉबेरी
-एक कीवी के पतले कटे स्लाइस
-आठ-दस पुदीना पत्ती

एंटीऑक्सीडेंट्स रिच स्ट्रॉबेरी और मिंट के साथ कीवी को मिक्स करते हुए तैयार किया गया ड्रिंक स्वीट एंड टैंगी फ्लेवर देता है। विटामिन सी, विटामिन के, विटामिन ई, फोलेट, पोटेशियम से भरपूर कीवी में एंटीऑक्सीडेंट्स प्रचुर मात्रा में पाए जाते हैं। इसका सेवन डाइजेशन में मददगार होने के साथ ही ब्लड प्रेशर को नियंत्रित रखने, ब्लड क्लॉटिंग रोकने और शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में मदद करता है।

पाइनएप्पल, ऑरेंज ड्रिंक
-एक ऑरेंज के पतले स्लाइसेज
-एक कप पाइनएप्पल के स्लाइसेज या टुकड़े
-एक छोटा टुकड़ा अदरख

उपरोक्त दोनों ही फलों में प्रचुर मात्रा में फैट बर्निंग प्रॉपर्टीज मौजूद हैं, इसलिए वेट लॉस करने की चाहत रखती हैं तो इस ड्रिंक को जरूर आजमाएं। पाइनएप्पल और ऑरेंज दोनों में ही विटामिन सी प्रचुर मात्रा में पाया जाता है, जो कि मेटाबॉलिज्म तेज करने, फैट गलाने और त्वचा में निखार लाने के लिहाज से फायदेमंद है। मॉर्र्निंग वर्कआउट के बाद इसे पीना बेहद लाभकारी है, क्योंकि यह मांसपेशियों के दर्द से राहत प्रदान करता है।

मौसमी फलों को दें तरजीह
शरीर से विषैले तत्वों को बाहर निकालने के लिए उसे पानी की जरूरत होती है, पर अक्सर देखा गया है कि लोग पानी पीने से कतराते हैं। एसी में बैठने के कारण उन्हें प्यास नहीं लगती। ऐसे में टेस्टी डिटॉक्स ड्रिंक्स के जरिए फ्लूइड इनटेक को बढ़ाना अच्छा आइडिया है। शरीर को हाइड्रेटेड रखने व वेट लॉस के लिहाज से डिटॉक्स ड्रिंक फायदेमंद रहते हैं। इनके लिए मौसमी फलों का चुनाव अच्छा रहता है, जैसे मौसम्बी, खीरा, तरबूज इत्यादि गर्मियों में ठंडक देते हैं। डिटॉक्स ड्रिंक तैयार करते समय फलों का छिलका उतार लें। कारण, आजकल पेस्टीसाइड्स का इस्तेमाल बहुत अधिक होने लगा है। सामान्यत: डिटॉक्स ड्रिंक्स के लिए फलों के स्लाइसेज का इस्तेमाल किया जाता है, मेरी सलाह है कि फलों को थोड़ा क्रश कर लें या जूसी फ्रूट्स को थोड़ा निचोड़ लें, ताकि उनके सभी पोषक तत्व पानी में बेहतर तरीके से घुल जाएं। इसमें कोई शक नहींकि डिटॉक्स ड्रिंक्स हेल्दी रखने में मददगार हैं, पर वेट लॉस के लिए डिटॉक्स ड्रिंक्स लेने के अलावा खानपान में संतुलन और एक्सरसाइज पर भी ध्यान दें।

SHARE