Home खास ख़बर Weeping bitterly in the court said, I am losing trust and confidence – Asha Devi: कोर्ट में फूट-फूट कर रोते हुए कहा, मैं भरोसा और विश्वास खोती जा रहीं हूं-आशा देवी

Weeping bitterly in the court said, I am losing trust and confidence – Asha Devi: कोर्ट में फूट-फूट कर रोते हुए कहा, मैं भरोसा और विश्वास खोती जा रहीं हूं-आशा देवी

2 second read
0
0
127

नई दिल्ली। निर्भया गैंगरेप और हत्या मामले में लगातार आरोपियों द्वारा फांसी से बचनेके लिए तमाम हथकंडे अपनाए जा रहे हैं। निर्भया के माता-पिता आज फिर कोर्ट की दहलीज थे। उन्होंने दोषियों के खिलाफ नया डेथ वारंट जारी करने की अपील कोर्ट से की। निर्भया की मां लगातार न्याय व्यवस्था पर अपना विश्वास जताती आ रहीं हैं लेकिन आज लगातार हो रही देरी से वह टूटती हुई दिखीं। उन्होंने कोर्ट के सामने अनुनय विनय किया कि दोषियों के खिलाफ नया डेथ वारंट जारी किया जाए। निर्भया की मां ने कोर्ट में कहा कि मेरे अधिकार का क्या हुआ? मैं हाथ जोड़कर खड़ी हूं, कृप्या दोषियों के खिलाफ नया डेथ वारंट जारी किया जाए। मैं भी इंसान हूं। इस केस के सात साल से अधिक हो गए हैं। यह बोलकर वह फूट-फूटकर रोने लगीं। बता दें कि निर्भया गैंगरेप मामले में चारों दोषियों को फांसी की सजा सुनाई जा चुकी है। सुप्रीम कोर्ट से दी गई फांसी की सजा पर अब तक अमल नहीं हो सका है। दोषियों की दया याचिका और क्यूरेटिव पेटिशन के कारण मामला अब तक लटका हुआ है। जबकि दो बार इस मामले में डेथ वारंट भी जारी किया जा चुका है। मामला कानूनी दांव पेंच में फंसा हुआ है। और कोर्ट ने फिलहाल अनिश्चितकालीन के लिए दोषियों की फांसी की तारीख टाल दी है। इस मामले में आज निर्भया की मां कोर्ट में फूट-फूट कर रोई। उन्होंने कोर्ट से न्याय की अपील की और उन्होंने कहा कि मैं अब भरोसा और विश्वास खोती जा रही हूं। कोर्ट को यह जरूर समझना होगा कि दोषी देरी करने के लिए लगातार हथकंडे अपना रहे हैं। वह रोतेहुए कोर्ट रूम से बाहर चली गर्इं। निर्भया की मां ने कहा कि मैं अपनी बेटी के लिए न्याय पाने यहां से वहां भटक रही हूं। दोषी सजा टालने के लिए हथकंडे अपना रहे हैं। मैं यह नहीं समझ पा रहीं हूं कि कोर्ट इस बात को क्यों नहीं समझ पा रहा है।

Load More Related Articles
Load More By Aajsamaaj Network
Load More In खास ख़बर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

Supreme Court’s automatic cognizance of the painful condition of migrant workers, the responsibility of the state governments to send migrants home – Supreme Court: प्रवासी श्रमिकों की दर्दनाक हालत पर सुप्रीम कोर्ट का स्वत: संज्ञान, प्रवासियों को घर भेजने की जिम्मेदारी राज्य सरकारों की- सुप्रीम कोर्ट

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्टनेकोरोना संक्रमण के कारण लॉकडाउन में परेशान हो रहेप्रवासी श्रमिकों…