HomeदुनियाPakistan said its share of Jammu and Kashmir and Junagadh, India released...

Pakistan said its share of Jammu and Kashmir and Junagadh, India released new map on the lines of Nepal, India said laughable: जम्मू-कश्मीर और जूनागढ़ को पाकिस्तान ने बताया अपना हिस्सा, नेपाल की तर्ज पर जारी किया नया नक्शा, भारत ने कहा हास्यासपद

पाकिस्तान अपनी हरकतों से बाज नहीं आता है। जैसे ही मौका मिलता है वह भारत के खिलाफ कदम उठाने में पीछे नहीं हटता है। अब पाकिस्तान नेभी नेपाल की तर्ज पर पाकिस्तान ने नया राजनीतिक नक्शा जारी किया है। पाकिस्तान ने अपने नए नक्शे में भारत के इलाकों जम्मू-कश्मीर, लद्दाख और गुजरात के जूनागढ़ को अपने नक्शे में शामिल कर लिया है। पाकिस्तान की इमरान खान की सरकार नेभारतीय हिस्सों को पाकिस्तान में दिखाने वाले राजनीतिक नक्शे पर मुहर लगाई। पाकिस्तान ने यह हरकत तब की है जब जम्मू-कश्मीर से धारा 370 हटाए जानेके एक साल पूरे हो रहे हैं। भारत सरकार ने पिछले साल पांच अगस्त को जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटा दिया था और इसे दो भागों में बांट दिया था। जम्मू-कश्मीर को कुछ समय के लिए केंद्र शासित प्रदेश र खा गया था। अब पाकिस्तान ने अनुच्छेद 370 हटा जाने के एक साल पूरे होने की पूर्व संध्या पर नया राजनीतिक न क्शा जारी किया।

यह पहली बार है कि इन इलाकों को पाकिस्तान ने अपने नक्शों में शामिल किया है। पाकिस्तान के प्रमुख अखबार डॉन की एक रिपोर्ट के मुताबिक इस फैसले के बाद विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी संग देश को संबोधित करते हुए इमरान खान ने इसे पाकिस्तान के लिए ऐतिहासिक दिन बताया, इमरान खान ने कहा, ”कैबिनेट की ओर से आज इस पर मुहर लगाए जाने के बाद यह देश का आधिकारिक नक्शा है। इसे स्कूल और कॉलेज और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर इस्तेमाल किया जाएगा।” पाकिस्तान ने गिलगित-बाल्टिस्तान सहित पूरे जम्मू-कश्मीर और लद्दाख को नक्शे में दिखाते हुए लिखा है कि यह विवादित इलाका है और संयुक्त राष्ट्र के प्रस्तावों के तहत अंतिम फैसला होगा। इससे पहले नेपाल ने भी देश का नया राजनीतिक नक्शा जारी करते हुए भारतीय क्षेत्रों कालापानी, लिंपियाधुरा और धारचुला को अपने शामिल कर लिया था। इमरान खान ने कहा कि कश्मीर का मुद्दा केवल संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के प्रस्तावों के तहत हो सकता है, जो कश्मीरी लोगों को स्वनिर्णय का अधिकार देता है। इमरान खान ने कहा कि विश्व समुदाय ने अभी तक उन्हें यह अधिकार नहीं दिया है। सरकार इस दिशा में प्रयास करती रहेगी। इमरान खाने ने यह भी कहा कि पाकिस्तान हमेशा चाहता है कि कश्मीर पाकिस्तान का हिस्सा हो लेकिन वह इसके लिए राजनीतिक संघर्ष करेंगे, सैन्य समाधान में उनका विश्वास नहीं है।

SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular