Homeखास ख़बरGlobal Warming : तेजी से पिघल रहे ग्लेशियर, सदी के अंत तक...

Global Warming : तेजी से पिघल रहे ग्लेशियर, सदी के अंत तक एक तिहाई का अस्तित्व खत्म होने की आशंका : रिपोर्ट

आज समाज डिजिटल, Global Warming : दुनिया में एक तरफ नये नये वायरस आ रहे हैं तो वहीं ग्लोबर वार्मिंग भी हम सभी के लिए बड़ी समस्या बनी हुई है। हालांकि भारत समेत कई देशों ने ग्लोबल वार्मिंग से निपटने के लिए कई योजनाएं बनाई जिन पर अमलीजामा पहनाया जा रहा है। लेकिन हाल ही में एक रिपोर्ट आई है जोकि हैरान और परेशान करने वाली है। 

नए अध्ययन में बताया गया है कि दो तिहाई ग्लेशियर का सदी के अंत तक अस्तित्व खत्म होने की आशंका है। से यह पता चला है। रिपोर्ट के मुताबिक दुनिया के ग्लेशियर वैज्ञानिकों की कल्पना से कहीं ज्यादा तेजी से पिघल रहे हैं और जलवायु परिवर्तन की मौजूदा प्रवृत्तियों को देखते हुए इनमें से दो तिहाई ग्लेशियर का सदी के अंत तक अस्तित्व खत्म होने की आशंका है। एक नए अध्ययन से यह पता चला है। (Glacier Latest Update)

अध्ययनकर्ताओं ने कहा कि ज्यादातर छोटे लेकिन जाने-पहचाने ग्लेशियर विलुप्त होने की कगार पर हैं। उन्होंने कहा कि तापमान के कई डिग्री तक बढ़ने की सबसे खराब स्थिति में दुनिया के 83 प्रतिशत ग्लेशियर 2100 के अंत तक विलुप्त हो सकते हैं।

ये भी पढ़ें : फिलीपींस में बाढ़ से 51 की मौत, 19 लोग अभी भी लापता

कई वैज्ञानिकों के अनुसार, अगर दुनिया भविष्य के वैश्विक ताप को एक डिग्री के दसवें हिस्से से कुछ ज्यादा तक सीमित कर सकती है और अंतरराष्ट्रीय लक्ष्यों को हासिल कर सकती है जो तकनीकी रूप से संभव है लेकिन इसके आसार कम दिख रहे हैं, तो दुनिया के आधे से कम ग्लेशियर ही गायब होंगे।

215000 जमीन आधारित ग्लेशियर का किया अध्ययन (Global Warming)

एक पत्रिका में प्रकाशित इस अध्ययन में दुनिया के 2,15,000 जमीन आधारित ग्लेशियर का अध्ययन किया गया है। इनमें ग्रीनलैंड और अंर्टाकटिक में बर्फ की चादर पर बने ग्लेशियर शामिल नहीं हैं।

वैज्ञानिकों ने विभिन्न स्तर की ताप वृद्धि का इस्तेमाल कर कम्प्यूटर सिमुलेशन के जरिए यह पता लगाया कि कितने ग्लेशियर विलुप्त हो जाएंगे, कितनी टन बर्फ पिघलेगी और इससे समुद्र का स्तर कितना बढ़ेगा।

दुनिया अब पूर्व-औद्योगिक युग के बाद से 2.7 डिग्री सेल्सियस ताप वृद्धि की राह पर है जिससे साल 2100 तक दुनिया के 32 प्रतिशत ग्लेशियर विलुप्त हो जाएंगे। वैज्ञानिकों का कहना है कि भविष्य में समुद्र का स्तर ग्लेशियर के मुकाबले बर्फ की चादर पिघलने से ज्यादा बढ़ेगा।

ये भी पढ़ें : 2023 में दुनिया बंटेगी 2 ग्रुपों में, होगा विनाशकारी युद्ध, आसमान से बरसेगी आग, जानिए नास्त्रेदमस की 2023 को लेकर की गई भविष्यवाणियों के बारे में

ये भी पढ़ें : अमेरिका जाकर नौकरी करने वालों के लिए बड़ी खबर, H1-B Visa पर बाइडन प्रशासन ने लिया बड़ा फैसला

ये भी पढ़ें : पाकिस्तानी सरकार का जनता पर सितम, खाद्य पदार्थों में 62 प्रतिशत तक वृद्धि, आटा 65 रुपए और चीनी की कीमत हुई 89 रुपए प्रति किलो

ये भी पढ़ें : पाकिस्तान की सरकार किया ऊर्जा बचत विस्तृत प्लान लागू, सड़कों पर उतरे लोग

Connect With Us: Twitter Facebook
SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular