Home Uncategorized There is no authorization for collection from the trust: ट्रस्ट की ओर से उगाही के लिए नहीं है कोई अधिकृत

There is no authorization for collection from the trust: ट्रस्ट की ओर से उगाही के लिए नहीं है कोई अधिकृत

3 second read
0
11

चंडीगढ़। राम जन्मभूमि निर्माण कार्य के लिए धन संग्रह के पीछे फर्जीवाड़े हो रहे हैं। जब से मंदिर निर्माण ने तेजी पकड़ी है, तभी से कई गिरोह रूपया उगाहने के लिए अलग-अलग तरीके अपना रहे हैं। इन मामलों पर पुलिस ने मामले संज्ञान में आने के बाद केस भी दर्ज किए हैं। यहीं मे बात भी काबिलेगौर है कि श्रीराम जन्म भूमि तौ क्षेत्र ट्स्ट को ओर से किसी को भी चंदा लेने के लिए अधिकृत नहीं किया गया है। श्रीराम जन्मभूमि न्यास के पास अपने कार्पस फंड में करीब मादे आठ करोड़ रुपए और नॉन कॉर्पस फंड में लगभग साढ़े चार करीड़ रुपए हैं। इसकी रिपोर्ट बींबीसी में प्रकाशित हुई थी। बीबीसी के मुळाबिक औराम जन्मभूमि न्यास को वित्त वर्ष 2018-19 में तकरीबन 45 लाख रुपए का चंदा मिला था मोदी सरकार भी राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र में दान को इनकम टैक्स एकट के सेक्शन 80जी के तहत ट् दे रही है। यह ट्रस्ट अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण के लिए बनाया गया है और वित व 2020-21 के लिए सरकार ने इसमें किए डोनेशन पर टैक्स छुट दी है। इस सिलसिले में bद्रीय प्रत्यक्ष कर बौई ने मई में नौटिकिकेशन जारी किया था। इसमें बताया गया था कि यह इनकम टैक्स एक्ट के सेक्शन 80जी के त होनेशन पर टैक्स छूट की

रहा है। बीबीसी मैं जब हस बारे में विश्व हिंदू परिणद से प्रश्न किया तो ईमेल के जरिए बीएचपी के महासचिन मिलिंद परांडे ने बतागा, श्री राम जन्मभूमि न्यास ने 1989-90 के बाद श्रीराम जन्मभूमि मंदिर निर्माण के लिए, न तो धनसंग्रह के लिए पब्लिक अपील की है, ने तो उस तरह से धनसंग्रह किया है। उन्होंने बताया, औ्रीराम जन्मभूमि न्यास के संगाह किए हुए धन का व्य उसे न्यास के घ्येय उद्देश्यों के अनुसार ही हुआ है। जो

मंजूरी दे रहा है क्योकि ऐतिहासिक महल और सार्वजनिक पूजा करने की जगह होगी। दोई ने नकिकेशन में थी राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र (2) के अदर कस (बी) के तहत बेसिक महत्व और सार्वजनिक पूजा करने की जगह अधिसूचित किया है और 50 फीसदी की सीमा तक्ष हिडेन |दिया है. जे ट्रस्ट में दान करते हैं। ट्रस्ट की आय को पहले से ही इनकम टैक्स एक्ट के सेक्शन 11 और 12 के तहत छूट दी गई है। याह छूट दूसरे अधिसूचित তिए गए धार्मिक दस्टो की तरह है।

भन समाज ने स्वर्ं न्यास को लाकर दिया है उसे स्वीकार किया गया है। वहीं, सेक्शन 80जी के तहत छट सभी धार्मिक ट्स्ट के लिए उपलब्ध नहीं है। एक चैरिटेबल या धार्मिक ट्स्ट को पहले सेक्शन 1। व 12 के तहत छूट के लिए रजिस्ट्रेशन को लेकर अप्लाई करना होता है जिसके बाद दानियों को सेक्शन 80जो के तहत छूट की मंजूरो मिलती है।

दिग्विजय बोले, चंदरा वसली के नाम पर मुस्लिम इलाकों

पंडित राजीव मोदगिल ने पूछा, कौन लोग निकाल रहे प्रभातफेरियां

ऑल इंडिया सनातन धर्म प्रतिनिधि सभा के स्थानीय सचिव पंडित राजीव मौदगिल

ने उक्त धन सह सहित प्रभारियों को लेकर कहा विरोध किया है। उनका कहना है कि इी हैरानी की छत है कि पिछले कई दिनों राम जन्म भूमि मंदिर निर्माण के लिए प्रभातियां निकाली जा रही हैं। मौदगिल ने कहा कि आखिर ये लोग कौन है, जो राम मंदिर निर्माण के लिए धन संग्रह करने के लिए जागरूकत चला हे हैं। ल इंडिया सनातन चर्म प्रतिनिधि सभा के स्थानीय सविव पडित मीदगिल ने यहा तक कहा कि राम जन्म भूमि की ओर से मदिर प्रवधों के पार

को बनाया जा रहा निशाना

भोपाल। अयोध्या में राम मंदिर निर्माण को लेकर हिंदूषादी संगठनों द्वारा देशभर में रैली कर धन जुटाया जा रहा है। वही, इस पर मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री व राज्यसभा सांसद दिग्विनय सिंह ने सवाल खड़े कर दिए हैं। उन्होंने कहा, राम मांदिर निर्माण को धन जटाने की रैलियों के दौरान मध्य प्रदेश में मुस्लिम इलाकों को निशाना बनाया जा रहा है।

ऐसी कोई चिट्टी नहीं आई है, जिसमें धन संगह के लिए मदद मांगी गई हो।

मौदगिल ने कह तक कहा कि धन संग्रह के लिए चल रहे अभियान को प्रशासन की नजर पर आएंगे तो इसी साल संघ पदाधिकारी अमृत सागर बोले संघ के पदाधिकारी अमृत सागर का कहना है कि पिछले तीन दिनों से राम जन्मभूमि के लिए प्रभातफेरी का कार्यक्रम इल रहा है। मंदिर निर्माण में चन साह के लिए …

Load More Related Articles
Load More By Aajsamaaj Network
Load More In Uncategorized

Check Also

Farmer movement- capitalists look after farmers’ capital after forgiving their debt – Rahul Gandhi: किसान आंदोलन-पूंजीपति दोस्तों का कर्ज माफ करने के बाद किसानों की पूंजी पर नजर- राहुल गांधी

नई दिल्ली। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी केंद्र स रकार को कई मुद्दों पर घेरतेरहेहै…