Home टॉप न्यूज़ The era of expansionism has ended, this era is of developmentism – PM Modi: विस्तारवाद का युग समाप्त हो गया ये युग विकासवाद का है-पीएम मोदी

The era of expansionism has ended, this era is of developmentism – PM Modi: विस्तारवाद का युग समाप्त हो गया ये युग विकासवाद का है-पीएम मोदी

2 second read
0
62

नई दिल्ली। आज पीएम योगी अचानक ही लेह पहुंचे और अप ने सैनिकोंकी हौंसला अफजाई की। वहांउन्होंनेसीमा की स्थिति के बारे में विस्तार सेजाना और उसके बाद जवानो को संबोधित किया गया। उन्होंने एलएसी पर तैनात सैनिकों से कहा कि यह युग विस्तार वाद का नहीं हैं यह विकासवाद का युग है। उन्होंने जवानों की हौसला अफजाई करते हुए कहा कि ‘आपका यह हौसला, आपका शौर्य और मां भारती के मान सम्मान की रक्षा के लिए आपका समर्पण अतुल्यनीय है। आपकी जिवटता भी दुनिया में किसी से कम नहीं। जिन कठिन परिस्थितियों में जिस ऊंचाई पर आप मां भारती की ढाल बनकर उसकी रक्षा करते हैं उसकी सेवा करते हैं। उसका मुकाबला पूरे विश्व में कोई नहीं कर सकता है। आपका साहस उस ऊंचाई से भी ऊंचा है जहां आप तैनात हैं। आपका निश्चय उस घाटी से भी सख्त है जिसे आप हर दिन कदमों से नापते हैं। आपकी भुजाएं उन चट्टानों जैसी मजबूत है जो आपके ईर्द गिर्द खड़ी है। आपकी इच्छाशक्ति पर्वतों जितनी अटल है। आज आपके बीच आकर मैं इसे महसूस कर रहा हूं। अपनी आंखों से देख रहा हूं।

पीएम ने कहा- जब देश की रक्षा आपके हाथों में है। आपके मजबूत इरादों में है तो एक अटूट विश्वास है, सिर्फ मुझे नहीं पूरे देश को अटूट विश्वास है और देश निश्चिंत है। आप जब सरहद पर डटे हैं तो यही बात प्रत्येक देशवासी को देश के लिए दिन-रात काम करने के लिए प्रेरित करती है। उन्होंने कहा कि आत्मनिर्भर भारत का संकल्प आप लोगों के कारण आपके त्याग के कारण और मजबूत होता है। अभी जो आपने और आपके साथियों ने वीरता दिखाई है उसने पूरी दुनिया में संदेश दिया है कि भारत की ताकत क्या है। मैं मेरे सामने महिला फौजियों को भी देख रहा हूं। युद्ध के मैदान में यह दृश्य प्रेरणा देता है। पीएम ने इस मौके पर रामधारी सिंह दिनकर की कविता का भी जिक्र किया और कहाा कि ‘जिनके सिंहनाद से सहमी, धरती रही अभी तक डोल, कलम आज उनकी जय बोल। मैं अपनी वाणी से आपकी जय बोलता हूं। आपका अभिनंदन करता हूं। मैं गलवान घाटी में शहीद हुए अपने वीर जवानों को भी पुन: श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं। इनमें पूरब-पश्चिम, दक्षिण से देश के हर कोने से वीर अपना शौर्य दिखाते हैं। उनके पराक्रम उनके सिंहनाद से धरती अब भी उनका जयकारा कर रही है। आज हर देशवासी का सिर आपके सामने अपने देश के वीर सैनिकों के सामने आदरपूर्वक नमन करता है। आज हर भारतीय की छाती आपकी वीरता और पराक्रम से फूली हुई है।’

Load More Related Articles
Load More By Aajsamaaj Network
Load More In टॉप न्यूज़

Check Also

असली आजादी के मायने

हमारे देश को आजाद हुए सत्तर वर्ष का का समय व्यतीत हो चुका है किन्तु आज भी हम कई मायनों में…