नेपाली कांग्रेस ने विवाद के हल पर दिया जोर
आज समाज डिजिटल
काठमांडू। एक महीना पहले नेपाल की सत्ता में आए बदलाव के बाद नेपाली कांग्रेस ने कहा है कि विशेष तौर पर पड़ोसी के रूप में चीन कभी भारत की जगह नहीं ले सकता है। गौरतलब है कि पिछले महीने शेर बहादुर देउबा देश के प्रधानमंत्री बने थे और 13 अगस्त को उन्हें पीएम बने एक महीना हुआ है। इससे पहले केपी शर्मा ओली पीएम थे। उनके पीएम रहते भारत-नेपाल के बीच संबंधों में खटास आई थी। नेपाली कांग्रेस ने लिम्पियाधुरा-कालापानी-लिपुलेख मसले को बातचीत के जरिए सुलझाने पर जोर दिया है। हाल ही में पीएम देउबा ने अपने गठबंधन के सहयोगियों से मिलकर साझा न्यूनतम कार्यक्रम शुरू किया है। नेपाल ने पिछले साल लिम्पियाधुरा-कालापानी-लिपुलेख इलाके को अपने मानचित्र में जोड़ते हुए इस क्षेत्र पर अपना दावा किया था। एक रिपोर्ट मुताबिक नेपाल के पूर्व वित्त राज्य मंत्री और नेपाली कांग्रेस के वरिष्ठ नेता उदय शमशेर राणा ने कहा है नेपाल ‘पड़ोसी पहले’ के सिद्धांत पर काम करता रहेगा। इसके साथ ही और देशों के साथ सौहार्दपूर्ण संबंध बनाए रखेगा। उन्होंने कहा है, नेपाल को बीजिंग की जरूरत है और चीन हमारा अच्छा पड़ोसी रहा है लेकिन भारत स्पेशल है। उन्होंने आगे कहा कि पीएम देउबा को मसलों को बेहतर तीरके से हल करना होगा क्योंकि वह एक नाजुक गठबंधन सरकार का नेतृत्व कर रहे हैं। देउबा को गठबंधन सहयोगियों को साथ लेते हुए भारत के साथ-साथ चीन के साथ स्थिर संबंध बनाए रखना होगा। नेपाल को लेकर भारत का कहना है कि नेपाल, भारत के लिए स्ट्रेटजिक महत्व रखता है।
भारत बड़े स्तर पर कर रहा विकास में मदद 
बीजेपी प्रवक्ता गोपाल कृष्ण अग्रवाल ने कहा है कि नई दिल्ली, काठमांडू के साथ द्विपक्षीय संबंधों को मजबूत करने को प्रतिबद्ध है। काठमांडू स्थित भारतीय दूतावास के मुताबिक भारत बड़े स्तर पर नेपाल के विकास में सहयोग कर रहा है। इन्फ्रास्ट्रक्चर, स्वास्थ्य, जल संसाधन, शिक्षा, ग्रामीण और सामुदायिक विकास आदि को लेकर जमीनी स्तर पर काम कर रहा है। कोरोना वायरस महामारी के बाद नेपाल को इकॉनमी को फिर से ट्रैक पर लाने के लिए भारत के साथ की  जरूरत है।
भारत-नेपाल संबंधों के लिए भविष्य उज्ज्वल 
नेपाल इंस्टीट्यूट आफ इंटरनेशनल एंड स्ट्रैटेजिक स्टडीज के निदेशक भास्कर कोइराला बताते हैं कि भारत-नेपाल संबंधों के लिए भविष्य उज्ज्वल है। नेपाली कांग्रेस के सत्ता में आते ही चीनी सरकारी मीडिया ने कहना शुरू कर दिया था कि नेपाली कांग्रेस का रुख भारत की ओर रहने वाला है। हालांकि ग्लोबल टाइम्स ने कहा था कि नेपाल और चीन के संबंध मजबूत बने रहेंगे।