Home राज्य चण्डीगढ़ Government trying desperately to write a new black chapter- Randeep Singh Surjewala: सरकार एक नया काला अध्याय लिखने का कुत्सित प्रयास कर रही-रणदीप सिंह सुरजेवाला

Government trying desperately to write a new black chapter- Randeep Singh Surjewala: सरकार एक नया काला अध्याय लिखने का कुत्सित प्रयास कर रही-रणदीप सिंह सुरजेवाला

50 second read
0
16
कांग्रेस पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव रणदीप सिंह सुरजेवाला ने चंडीगढ़ में आयोजित पार्टी बैठक को संबोधित किया । उन्होंने कहा कि  आज देश की संसद में देश के किसान मजदूर के लिए बड़ा महत्वपूर्ण दिन भी है, क्योंकि सरकार एक नया काला अध्याय लिखने का कुत्सित प्रयास कर रही है। वो सारे अध्यादेश, जो मोदी जी ने खेत और खलिहान को खत्म करने के लिए अध्यादेश के माध्यम से लागू किए थे, आज वो देश की संसद में पेश कर रहे हैं और उसके बाद एक विशेष समिति, जो श्रीमती सोनिया गांधी जी ने जिसका गठन किया था, उसके फौरन बाद उसकी बैठक भी है, इसलिए मैंने आप सबसे तो अनुमति ले ली, पर जो मेरे सामने मेरे वरिष्ठ पार्टी के अग्रिम नेतागण बैठे हैं, मैं आपसे भी हाथ जोड़कर इसलिए पहले बोलकर जाने की अनुमति चाहूँगा।
सबसे पहले मैं विवेक जी का स्वागत करना चाहूँगा, हरियाणा की इस रणबांकुरों की धरती पर। विवेक जी आपका और हरियाणा का विशेष जुड़ाव इसलिए है कि भगवान श्री कृष्ण आपके और हमारे सुत्रधार हैं। आप भी भगवान श्री कृष्ण की धरती से आते हैं और ये भी भगवान श्री कृष्ण की वो धरती है, जहाँ से श्रीमद्भागवत गीता का संदेश गया, पूरी दुनिया को, पूरे ब्रह्मांड को, इसलिए मुझे लगता है कि पड़ोसी होने के नाते, आपका तो इलाका भी हरियाणा के बिल्कुल साथ लगता है, तो कम से कम आप हरियाणा के कल्चर को, हरियाणा की संस्कृति को, हरियाणा के ताने-बाने को, हरियाणा के ग्रामीण अंचल को और किसी व्यक्ति से बेहतर समझते हैं, क्योंकि मुझे नहीं लगता कि वो इलाका और ये इलाका, केवल प्रांत अलग-अलग है, परंतु हर प्रकार की संस्कृति एक प्रकार की है, इसलिए कांग्रेस के कार्यकर्ताओं को, कांग्रेस के नेताओं को, संगठन नए सिरे से बने, जिसकी चर्चा अध्यक्षा जी करती आई हैं, जिसकी चर्चा पार्टी का कोई शायद ऐसा नेता नहीं हैं, जो न करते आए हों। एक मजबूत संगठन का गठन हो, जिस संगठन के आधार पर न केवल, हम इस सरकार से लोहा ले सकें, परंतु कांग्रेस की वापसी की नींव उस संगठन के आधार पर रख सकें और ये संकल्प, ये उम्मीद आप से है कि आप जल्द से जल्द इस बारे अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी की अध्यक्षा जी से राय करके इस पर कार्यवाही अवश्य करेंगे, जैसा हम सबकी इच्छा है।
हरियाणा सरकार में पिछले लगभग एक साल के अंदर अब ये साफ हो गया है कि भाजपा-जजपा की सरकार, अब तो इसका इंतजार है कि कब होंगे, घोटाले 75 बार। क्योंकि आए दिन, भ्रष्टाचार का एक नया मामला, आए दिन किसान, मजदूर, व्यापारी, दुकानदार, अनुसूचित जाति, पिछड़ा वर्ग, उनके ऊपर जोर-जबरदस्ती का एक नया मामला, एक नया निर्णय ये सरकार लेकर आती है, वो चाहे धान घोटाला पार्ट-1 या 2 हो, चाहे शराब घोटाला हो, चाहे वो पेपर लीक घोटाला हो, चाहे वो पेपर माफिया द्वारा आंसर की बेचने की बात हो, चाहे 5-5 साल पब्लिक सर्विस कमीशन और स्टाफ सलेक्शन कमीशन के नतीजे न निकालकर युवाओं के भविष्य को अंधकार में डालने की बात हो, चाहे लाखों पद, जो रिक्त पड़े हैं, उनको खत्म करने की बात हो, चाहे हजारों कर्मचारियों की नौकरियाँ निकालने की बात हो, चाहे किसानों पर दमन चक्र चलाने की बात हो, चाहे वो रजिस्ट्री घोटाले की बात हो, इस सरकार की हर परत जब खुलती है, तो उसमें से एक नया घोटाला निकलता है और हम सबको मिलकर उसका सामना करना है।
अनेकों बार जब आप जाएंगे, तो एक प्रश्न स्वभाविक तौर से आता है, ये कांग्रेस जो है, उसमे एकजुटता नहीं है, वर्षों से ये बात लगातार सुनते आए हैं। अपनी तरफ से एक बात प्रभारी जी आपको भी, विपक्ष के सम्मानित नेता बैठे हैं, उनको भी और हमारी अध्यक्ष जी बैठी हैं, जो हमारी मुखिया है उनको भी, मैं एक बात कहूँगा कि हम सबको, जो सामने बैठे हैं, वो भी और जो लाखों कार्यकर्ता इस बैठक में आने में सक्षम नहीं, कोरोना काल के चलते वो भी, हम सब एक जुट होकर कांग्रेस की सरकार बनाने के लिए मेहनत करने के लिए तैयार हैं, कोई छोटा-बड़ा नहीं।
मुझे ये विश्वास है, कम से कम पंक्ति में आखिरी नंबर पर आप मुझे खड़ा कर दीजिएगा, मैं सहर्ष सबसे पीछे जाकर खड़ा हो जाऊँगा।कांग्रेस आगे आए, ये महत्वपूर्ण है, कौन कहाँ खड़ा हो, ये महत्वपूर्ण नहीं है और इसके लिए हर व्यक्ति को थोड़ी –थोड़ी कुर्बानी करनी पड़ेगी और ये हमारी अध्यक्षा जी बैठी हैं, विपक्ष के नेता बैठै हैं, आपके नेतृत्व में मेरे समेत, मुझे विश्वास है कि जो सामने साथी बैठे हैं, ये वो लोग हैं, जिनके सिर पर कांग्रेस चलती है, इस प्रदेश के अंदर। आपके सिर पर कांग्रेस मजबूत है, इस प्रदेश के अंदर, हम सब इस बात के लिए तैयार हैं।
एक आखिरी बात कहकर मैं मेरी वाणी को विराम दूँगा, जो तीन काले कानून ये सरकार लेकर आ रही है, आज जो बहुमत के बाहूबल के आधार पर संसद में पास करने की जिनकी तैयारी है। क्योंकि जनबल उनके साथ नहीं, बहुबल का बाहूबल है, उसका विरोध और उसका नुकसान सबसे ज्यादा हरियाणा को होगा, उसका विरोध हम सबको मिलकर करना पड़ेगा, क्योंकि वो ही नींव रखेगा, देश और प्रदेश दोनों में कांग्रेस की अगली सरकार का। आढ़ती का धंधा बंद, गरीब मजदूर का धंधा बंद, मुनीम और तौलने वाले का धंधा बंद, ट्रांस्पोर्टर का धंधा बंद, अनुसूचित जाति और पिछड़ा वर्ग के साथी, जो किसान के साथ कंधे से कंधा मिलाकर काम करते हैं, उनका व्यवसाय और रोजी-रोटी बंद और किसान का खेत और खलिहान बंद, तो उसके बाद हरियाणा जैसे कृषि प्रधान प्रदेश में बच ही क्या जाएगा?
चंद उद्योग पहले से ही बंद पड़े हैं, और बंद हो जाएंगे, इसलिए उसकी रूपरेखा भी हमारी अध्यक्षा जी के नेतृत्व में जो हम तैयार करेंगे, हम सब उसके साथ खड़े हैं, और आप लोग जो मिलकर तैयार करेंगे, उसके साथ भी खड़े हैं।
इन्हीं शब्दों के साथ मैं एक बार फिर विवेक जी आपका स्वागत करते हुए मेरी वाणी को विराम देता हूँ और आप सबसे, जो मेरे सामने, मेरे अगरज, मेरे बुजुर्ग, मेरे हम उम्र साथी बैठे हैं, आपसे और मंचासीन नेतागणों से इजाजत लेकर मैं मेरी वाणी को विराम करते हुए, बंसल जी का स्वागत करते हुए आप सबको धन्यवाद करता हूँ।
Load More Related Articles
Load More By Aajsamaaj Network
Load More In चण्डीगढ़

Check Also

Meaning of democratic movement in Pakistan: पाकिस्तान में लोकतांत्रिक आंदोलन का अर्थ

21 सितंबर, 2020 को विपक्षी दलों का एक सर्वदलीय सम्मेलन आयोजित किया गया था, जिसमें पाकिस्ता…