Homeराज्यचण्डीगढ़दीपेंद्र हुड्डा ने शहीद के घर पहुंचकर दी श्रद्धांजलि Paid Tribute To...

दीपेंद्र हुड्डा ने शहीद के घर पहुंचकर दी श्रद्धांजलि Paid Tribute To martyr

संजीव कौशिक रोहतक:
Paid Tribute To martyr’s: राज्यसभा सदस्य दीपेंद्र हुड्डा ने आज भारतीय सेना के जांबाज सैनिक और राष्ट्रीय खिलाड़ी रहे शहीद नवीन वशिष्ठ के जनता कालोनी स्थित आवास पहुंचकर श्रद्धांजलि अर्पित की। दीपेंद्र हुड्डा ने शहीद के परिवारजनों से मिलकर शोक व्यक्त किया और उन्हें ढांढस बंधाया।

देश ने प्रतिभावान खिलाड़ी खोया: दीपेंद्र Paid Tribute To martyr

उन्होंने कहा कि देश ने अपना बहादुर सैनिक और एक प्रतिभावान खिलाड़ी खो दिया है। दु:ख की इस घड़ी में पूरा देश अपने शहीद के परिवार के साथ है। उन्होंने सरकार से मांग करी कि हुड्डा सरकार के समय शहीद के परिवारों के पुनर्वास और आर्थिक मदद की जो नीति बनाई गई थी, उस नीति के तहत शहीद नवीन वशिष्ठ के परिवार को शामिल किया जाए।

कर्तव्य निष्ठा को किया याद Paid Tribute To martyr

 Paid Tribute To martyr's
Paid Tribute To martyr’s

दीपेन्द्र हुड्डा ने कहा कि गांव मड़कौली के जांबाज सैनिक नवीन वशिष्ठ की कर्तव्यनिष्ठा पर हम सभी को गर्व है और उनकी शहादत हरियाणा के युवाओं को फौज में भर्ती होकर सही मायनों में देशसेवा करने के लिए हमेशा प्रेरणा देने का काम करेगी। इस दौरान दीपेन्द्र हुड्डा पूर्व पार्षद राजबीर सैनी के इंदिरा कॉलोनी स्थित आवास पर भी पहुँचकर श्रद्धांजलि अर्पित की और परिवारजनों से मिलकर शोक संवेदनाएँ प्रकट कीं। दीपेन्द्र हुड्डा ने पूर्व पार्षद राजबीर सैनी के निधन को अपनी निजी क्षति बताया। इस मौके पर प्रमुख रूप से कांग्रेस विधायक बीबी बतरा, विधायक शकुंतला खटक मौजूद रहे।

शहीद से जुड़े वाकयों को किया याद Paid Tribute To martyr

दीपेन्द्र हुड्डा को शहीद के परिवारजनों ने बताया कि नवीन देश के लिए ओलंपिक स्वर्ण पदक जीतने के जुनून के साथ दिन रात कड़ी मेहनत करते थे। नवीन वशिष्ठ सेना की 100 राइफल रेजिमेंट आर्टलरी के जवान थे और वे सेना की तरफ से सेली बोट रेसिंग में राष्ट्रीय स्तर के खिलाड़ी भी थे। इन दिनों एशियन गेम्स के लिए वे मुंबई में तैयारी कर रहे थे, जहाँ बीते 13 दिसंबर को नौका पलटने से हुई दुर्घटना में वे बुरी तरह घायल हो गए और उपचार के लिए उन्हें सेना के असपताल में भर्ती कराया गया था, लेकिन काफी कोशिशों के बावजूद उनको बचाया नहीं जा सका।

SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular