पटियाला/: यूथ अकाली दल (वाईएडी) ने आज कहा है कि पंजाबी गीतों के लेखक श्री बराड़ को पंजाब सरकार ने केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह के निर्देशों पर ‘किसान गान’ लिखने के लिए सजा के तौर पर गिरफ्तार किया तथा प्रताड़ित किया गया है।
पटियाला पुलिस द्वारा  बराड़ की गिरफ्तारी, प्रताड़ना तथ उसके बाद पुलिस के मानदंडों के खिलाफ बताते हुए सरदार परमबंस सिंह रोमाणा ने कहा कि  बराड़ ने किसान आंदोलन का एक गीत लिखकर किसान आंदोलन को काफी जोश मिला था जोकि इसका अनाधिकृत गान बन गया था। गीत – स्वराज पीछे बैरिकेड पाए होए ने’ को लाखों लोगों को किसान आंदोलन में शामिल होने के लिए प्रेरित किया जो केंद्र के साथ साथ गृहमंत्रालय को पंसद नही आया था। यही कारण है कि  बराड़ को एक महीने पहले लिखे गए एक अन्य गीत के संबंध में सजा दी गई. परमबंस सिंह रोमाणा ने यूथ अकाली दल के सदस्यों के साथ पटियाला के एसएसपी से भी संपर्क किया तथा  बराड़ से मिलने का अनुरोध किया लेकिन उन्हे अनुमति देने से इंकार कर दिया गया। उन्होने पटियाला पुलिस को इस बहाने का इस्तेमाल करने के लिए आलोचना की तथा  बराड़ को गिरफ्तार करने तथा प्रताड़ित करने के लिए की हिंसा की घोर निंदा की है। ‘ हालांकि यूथ अकाली दल हिंसा के खिलाफ है लेकिन कई अन्य गायक हैं जिन्होने बेहद बुरा गाया है लेकिन अदालतों द्वारा सम्मन जारी किए जाने के बाद भी कांग्रेसी नेताओं के वाहनों में घूमते रहते हैं।
 रोमाणा ने गायकों तथा लेखकों को किसान आंदोलन से दूर रखने के लिए मजबूर करने के लिए इस नई प्रवृत्ति की निंदा करते हुए कहा कि गायकों को डराने धमकाने के लिए प्रवर्तन निदेशालय, आयकर तथा यहां तक कि एफईआरए द्वारा नोटिस दिए जाने की खबरे बढ़ती जा रह हैं। ‘ यह सब गृहमंत्रालय द्वारा किया जा  रहा है तथा पंजाब सरकार  अमित शाह के आदेशों को आंखें मूंदकर पालन कर रही है। इससे साबित होता है कि पंजाब की केंद्र तथा कांग्रेस सरकार दोनों मिलकर किसान आंदोलन को समाप्त करने के लिए काम कर रही हैं। पंजाब सरकार का रिमोट कंट्रोल  अमित शाह के पास है। उन्होने इस बात की भी निंदा की कि जहां तक पंजाब में अधिकारियों की पोस्टिंग का सवाल है तो केंद्रीय गृहमंत्रालय कर करवा रहा है तथा अब स्थिति यह है कि कांग्रेसी नेता भी इसके बारे में शिकायत कर रहे हैं।
शिरोमणी अकाली दल इस साजिश को कभी सफल नही होने देगी। सरदार रोमाणा ने कहा कि गीत लेखकों तथा बुद्धिजीवियों से अपील की कि वे किसान आंदोलन की सफलता के लिए काम करते रहें। यूथ अकाली दल के नेता ने कहा कि ‘ हम पंजाब में पीड़ित होने वाले सभी लोगों के लिए कानूनी सहायता प्रदान करेंगे क्योंकि वे किसान आंदोलन से जुड़े हुए हैं। यूथ अकाली दल अध्यक्ष के साथ गरप्रीत सिंह राजुखन्ना, अमित राठी तथा परमिंदर बोहारा शामिल थे।