ट्रैटब्रिज और लार्ड्स की  लड़ाई में भले ही भारतीय टीम मेज़बान पर भारी पड़ी हो पर टीम के दो बड़े बल्लेबाज़ों की रन बाज़ी के इंग्लिश गेंदबाज़ डिकोड करने में कामयाब रहे है

इंग्लैंड के खिलाफ तीसरा टेस्ट मैच लीड्स में खेला जाना है। 25 अगस्त से शुरू हो रहे टेस्ट मैच के पहले इंग्लैंड की टीम बौखलाई हुई है। पिछले टेस्ट मैच में जिस तरह उसे हार का सामना करना पड़ा उसके बाद टीम में बवाल मचा हुआ है। लॉर्ड्स टेस्ट मैच की दूसरी पारी में इंग्लैंड की पूरी टीम 51.5 ओवर में 120 रन पर ही सिमट गई। जो पूर्व क्रिकेटर सोशल मीडिया में ऐसी चर्चा कर रहे थे कि विराट कोहली को थोड़ा और पहले ‘डिक्लेयर’ करना चाहिए था। उन्हें भारतीय तेज गेंदबाजों ने मुंहतोड़ जवाब दिया। पहले ही ओवर में भारतीय गेंदबाजों ने जो झटका इंग्लिश टीम को दिया वो लगातार इंटरवल पर चलता रहा। इंग्लैंड के चार खिलाड़ी खाता तक नहीं खोल पाए। सिर्फ तीन खिलाड़ी ही थे जो दहाई के आंकड़े को पार कर पाए। अब तीसरे टेस्ट मैच में भी अगर भारतीय टीम बाजी मार लेती है तो पांच टेस्ट मैच की सीरीज में उसे अपराजेय बढ़त मिल जाएगी। क्योंकि पहला टेस्ट मैच ड्रॉ हो गया था। हालांकि अगर पहले टेस्ट मैच का ‘पोस्टमार्टम’ करेंगे तो पता चलता है कि पहले टेस्ट मैच में भी पलड़ा भारत का ही भारी था। मौसम ने इंग्लिश टीम का साथ दिया और जीत भारतीय टीम के हाथ से फिसल गई। अब तीसरे टेस्ट मैच से पहले इंग्लिश गेंदबाजों ने टीम इंडिया के बल्लेबाजों की बल्लेबाजी को कर दिया है ‘डिकोड’।
वर्ल्ड क्रिकेट के दो बड़े मैचविनर विराट  और रोहित को इंग्लिश गेंदबाजों ने किया ट्रैप 
रोहित शर्मा ने पहले और दूसरे दोनों टेस्ट मैच की पहली पारी में अच्छी शुरूआत की। लॉर्ड्स टेस्ट मैच में तो उन्होंने 83 रन बनाए। यानी वो एक शानदार शतक से चूके। लेकिन इंग्लिश गेंदबाजों ने जिस बात को नोटिस कर लिया है वो ये कि रोहित शर्मा लगातार पुल और हुक शॉट्स खेलने की कोशिश में आउट हुए हैं। कुछ ऐसी ही कहानी विराट कोहली की भी है। विराट कोहली लंबे समय से एक बड़ी टेस्ट पारी से दूर हैं। अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में शतक लगाए उन्हें करीब दो साल का वक्त बीत गया है। लॉर्ड्स टेस्ट की पहली पारी में उन्होंने अच्छी शुरूआत की थी। उन्होंने 42 रन बना भी लिए थे। लेकिन एक बार फिर वो पुरानी गलती दोहरा बैठे। इस सीरीज में अभी तक खेले गए दो टेस्ट मैच की सभी तीनों पारियों में उन्होंने विकेट के पीछे कैच थमाया है। दो बार तो उन्होंने विकेटकीपर को कैच थमाया है। क्रिकेट में हर रोज बढ़ती जा रही तकनीक का ही असर है कि ये बात इंग्लिश गेंदबाजों ने नोटिस कर ली है। अब लीड्स टेस्ट मैच में इसी कमजोरी पर हमले के प्लान से इंग्लिश गेंदबाज मैदान में उतरेंगे। दोनों बल्लेबाज़ों को सचिन से सबक़ लेने की ज़रूरत है यानि कुछ शाट्स को ड्रेसिंग रूम में छोड़कर मैदान पर उतरना पड़ेगा
लॉर्ड्स टेस्ट में केएल राहुल ने शानदार शतक लगाया था। उन्हें मैन ऑफ द मैच भी चुना गया। रोहित शर्मा ने भी अच्छी बल्लेबाजी की थी। असली मुसीबत विराट कोहली, चेतेश्वर पुजारा और अजिंक्य रहाणे की फॉर्म को लेकर है। इन तीनों ही टेस्ट दिग्गजों ने लंबे समय से बड़ी पारी नहीं खेली है। विराट कोहली ने आखिरी शतक नवंबर 2019 में लगाया था। चेतेश्वर पुजारा ने आखिरी शतक अगस्त 2019 में लगाया था। अजिंक्य रहाणे ने आखिरी शतक पिछले साल दिसंबर में मेलबर्न टेस्ट में लगाया था। कड़वी सच्चाई ये है कि लॉर्ड्स टेस्ट मैच में मिली जीत में जसप्रीत बुमराह और मोहम्मद शमी की बल्लेबाजी का योगदान कहीं ज्यादा और अहम था। निचले क्रम के बल्लेबाजों का रन बनाना कोई गलत बात नहीं है लेकिन परेशानी ये है कि जिन बल्लेबाजों पर रन बनाने की जिम्मेदारी है वो उस पर पूरी तरह खरे नहीं उतर रहे हैं। लीड्स में यही पक्ष मैच का फैसला करेगा। हेडिंग्ले में भारतीय टीम 1967 के बाद से कोई मैच हारी नहीं है ऐसे में विराट रोहित में से कोई इंग्लैंड का ट्रैप तोड़ने में कामयाब रहता है तो सीरीज़ में भारतीय टीम अजेय बढ़त बना सकती है