HomeCoronavirusIND vs SA Tour Postpone ओमिक्रॉन के कारण टल सकता है भारत...

IND vs SA Tour Postpone ओमिक्रॉन के कारण टल सकता है भारत का दक्षिण अफ्रीका दौरा

IND vs SA Tour Postpone

आज समाज डिजिटल, नई दिल्ली :

भारतीय टीम को न्यूजीलैंड के साथ दो टेस्ट मैचों की सीरीज का दूसरा यानि सीरीज का आखिरी टेस्ट 3 दिसंबर को खेलना है। और इसके बाद भारतीय टीम 9 दिसंबर को साऊथ अफ्रीका का दौरा करेगी, लेकिन यह दौरा कुछ दिनों के लिए टाला जा सकता है। और दक्षिण अफ्रीका में कोविड19 के ओमीक्रॉन वेरिएंट (Omicron Variant) के उभरने के बाद यह निर्णय लिया जा सकता है। इससे पहले यह पता चला था कि भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) ने दक्षिण अफ्रीका दौरे के लिए टीम चयन को रोक दिया है, हलाकि की अभी इसकी पुष्टि नहीं हुई है।

Also Read : Delhi School News : SC की फटकार के बाद दिल्ली सरकार का फैसला, अगले आदेश तक बंद रहेंगे सभी स्कूल

सरकार से बात करे बीसीसीआई (IND vs SA Tour Postpone)

वहीं इस मुद्दे पर खेल मंत्री अनुराग ठाकुर ने कहा था कि बीसीसीआई को इस मामले में सरकार से बात करने को कहा है। साथ ही उन्होंने क्रिकेट से जुड़े सभी बोर्डों को ऐसे देश में अपनी टीम भेजने से पहले सरकार से बात की सलाह दी। वहीं कुछ दिन पहले बीसीसीआई अध्यक्ष सौरभ गांगुली का भी कहना है।

कि वह सरकार के अनुसार ही इस दौरे पर कोई फैसला लेगी। भारतीय टीम चार्टर्ड प्लेन के जरिये जोहानिसबर्ग के लिए रवाना होना है। अगर हालात काबू से बाहर नहीं हुए तो यह दौर हर हाल में जारी रहेगा। दौरा तभी रद्द या स्थगित होगा, जब सरकार बीसीसीआई को वहां टीम भेजने से साफ-साफ मना कर देती है।

कम किए जा सकते हैं टेस्ट मैच (IND vs SA Tour Postpone)

भारतीय टीम को इस दौर पर 3 टेस्ट, 3 वनडे और 4 टी-20 मुकाबले खेलने हैं। और इस दौरे के लिए 9 दिसंबर को रवाना होना है। और 17 दिसंबर से पहला मैच खेलना है लेकिन दौरे को कुछ दिन के लिए टालने की खबरें आने के बाद ऐसे में मीडिया रिपोर्ट्स में यह सामने आ रहा है कि 3 टेस्ट की जगह 2 टेस्ट कराने पर भी विचार किया जा सकता है। ताकि टीम इंडिया को दौरे पर जाने से पहले थोड़ा समय मिल सके।

क्या है ओमाइक्रोन वैरियंट? (IND vs SA Tour Postpone)

SARS-CoV-2 के फैलने के साथ ही नए वैरियंट सामने आ रहे हैं। अभी तक जितने भी वैरियंट आए हैं उन पर रिसर्च चल रही है। वहीं स्वास्थ्य अधिकारियों को यह पहचानने के लिए लगातार निगरानी रखने की जरूरत है कि कौन सा वैरियंट अधिक खतरनाक है। इसी प्रकार एनजीएस-एसए ने बी.1.1.1.529 का पता लगाया था। अभी तक जो पता चला है उसके अनुसार बी.1.1.529 में कई स्पाइक प्रोटीन म्यूटेशन हैं। यह वैरियंट अत्यधिक संक्रामक है। बता दें कि दक्षिण अफ्रीका ने पिछले दो हफ्तों में इस वैरियंट के नए मामलों में चार गुना वृद्धि दर्ज की है और यह बी.1.1.529 से मेल खाता है।

Connect With Us:-  Twitter Facebook

SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular