Home राजनीति Medical bed security system for Covid-19 patients, enrolled as ‘shelter’: कोविड-19 के मरीजों के लिए चिकित्सा बिस्तर की सुरक्षा प्रणाली, ‘आश्रय’ के रूप में नामांकित

Medical bed security system for Covid-19 patients, enrolled as ‘shelter’: कोविड-19 के मरीजों के लिए चिकित्सा बिस्तर की सुरक्षा प्रणाली, ‘आश्रय’ के रूप में नामांकित

2 second read
0
0
10

आशीष सिंह। डिफेंस इंस्टीट्यूट आॅफ एडवांस टेक्नोलॉजी द्वारा कोविड-19 वायरस के प्रसार को रोकने और इसे नियंत्रण करके इससे निपटने करने के लिए एक मेडिकल बेड आइसोलेशन सिस्टम ‘आश्रय’ विकसित किया गया है।डिफेंस इंस्टीट्यूट आॅफ एडवांस टेक्नोलॉजी, द्वारा विकसित यह मेडिकल बेड आइसोलेशन सिस्टम कम लागत, पुन: उपयोग किया जाने वाला समाधान है जिसमें एक्सहेल के पास एक खीचने या नेगेटिव दबाव बनाकर, एयरोसोल को और अधिक फिल्टर और विघटित करके कोविड-19 रोगियों के लिए जरुरी आइसोलेशन को बनाए रखा जा सकता है। इसका मॉडल बनाने वाले निमार्ता के अनुसार, 10 बेड की यूनिट स्थापित करने की लागत लगभग 1 लाख रुपये आएगी, जबकि घर में क्वारंटाइन के लिए एक बेड की लागत लगभग 15,000 रुपये होगी। बेड आइसोलेशन सिस्टम को मेडिकल ग्रेड सामग्री संरचना पर समर्थित विशेष पारदर्शी और पारभासी सामग्री और निर्माण प्रक्रिया से तैयार किया गया हैं।

आईएनए के नए कमांडेंट वाइस एडमिरल एमए हम्पीहोली

वाइस एडमिरल दिनेश के त्रिपाठी ने भारतीय नौसेना अकादमी के कमांडेंट के रूप में कार्यभार सौंपा है। इस सप्ताह के पहले 13 महीने से अधिक के सफल कार्यकाल के बाद वाइस एडमिरल एमए हम्पीहोली नए आईएनए के नए कमांडेंट होंगे। अगले से महीना, वाइस एडमिरल दिनेश के त्रिपाठी, नौसेना संचालन महानिदेशक का पदभार ग्रहण करेंगे। यह भारतीय नौसेना के संचालन में सर्वोच्च स्थान है। वाइस एडमिरल दिनेश के त्रिपाठी ने 12 जून 2019 को भारतीय नौसेना अकादमी के कमांडेंट के रूप में पदभार संभाला। अपने कार्यकाल के दौरान, अकादमी ने बुनियादी ढांचे और प्रशिक्षण सुविधाओं में परिवर्तन देखा। के अंतर्गत फ्लैग आॅफिसर का नेतृत्व, 12 नवंबर 2019 को, आईएनए को राष्ट्रपति के रंग के लिए दिया गया था भारतीय नौसेना, तटरक्षक और अनुकूल के लिए नौसेना नेताओं को आकार देने में 50 साल की तुर्क सेवा प्रदान करना विदेश। वाइस एडमिरल दिनेश के त्रिपाठी को पारंपरिक के साथ गर्मजोशी से भेजा गया पुलिंग आउट समारोह। वाइस एडमिरल एमए हम्पीहोली ने कमांडेंट के रूप में पदभार संभाला है राष्ट्रीय रक्षा अकादमी, खडकवासला, रक्षा सेवा स्टाफ कॉलेज, वेलिंगटन, तत्कालीन कॉलेज आॅफ नेवल वारफेयर, करंजा और प्रतिष्ठित नेशनल डिफेंस कॉलेज, नई दिल्ली। झंडा अधिकारी एंटी-सबमरीन वारफेयर का विशेषज्ञ हैं।

Load More Related Articles
Load More By Aajsamaaj Network
Load More In राजनीति

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

Explosives of explosives in Beirut were already reported, explosion due to negligence: बेरूत में विस्फोटक के जखीरे की जानकारी पहले ही दी गई थी, लापरवाही के कारण हुआ विस्फोट

नई दिल्ली। लेबनान की राजधानी बेरुत में हुए जबरदस्त धमाकेमें डेढ़ सौ सेज्यादा लोग मारे गए और…