HomeदेशCorona's growing influence in Maharashtra: महाराष्ट्र में कोरोना का बढ़ता प्रभाव

Corona’s growing influence in Maharashtra: महाराष्ट्र में कोरोना का बढ़ता प्रभाव

मुंबई समेत पुरे महाराष्ट्र में कोरोना का कहर बढ़ता जा रहा है। एक बार िर मुंबई में रोजाना ५०० से ज्यादा कोरोना के केस अर्ज हो रहे है ऐसे में पुणे और महाराष्ट्र के अन्य हिस्सों में भी कोरोना के प्रभाव को देखते हुए मुंबई की मेयर किशोरी पेडनेकर ने मुंबई की लाइफ लाइन लोकल ट्रेन और भीड़ भाड़ वाले मार्केट में जाकर लोगो को मास्क पहनने की और सोस्यल डिस्टेंसिंग का पालन करने की नसीहत दे दी है। . मेयर खुद लोगो को समजा रही है की मास्क पहना जाए.. कोरोना के बढ़ने का कारण मुंबई की लोकल ट्रेन में सोश्यल डिस्टेंसिंग का पालन लोग नहीं कर रहे है और शाम ७ बजे के बाद ट्रेन में भारी भीड़ हो जाती है. ऐसे में मुंबई करो के दिमाग में एक ही सवाल है क्या फिर से एक बार लॉक डाउन मुंबई में लगाया जाएगा। .. मुंबई की मेयर ने अति उत्साह में बोल तो दिया की लोग अगर पालना नहीं करेंगे तो लॉक डाउन फिर से होगा लेकिन बाद में उसने कहा हमें ऐसा करने पर मजबूर न किया जाए. कोरोना का वायरस मुंबई के घाटकोपर, मुलुंड, गोवंडी इलाके में तेजी से बढ़ रहा है। . मुंबई में रोजाना केस २०% से बढ़ रहा है

ऐसे में बीएमसी ने जिन इलाके में कोरोना बढ़ रहा है उन इलाके के लोगो को सतर्क रहने के लिए कहा है. उन इलाको की सोसायटी को नोटिस जारी करके बाहर के लोगो को सोसायटी में ना आने की हिदायत दी है. साथ ही सोसायटी को थर्मल स्क्रीनिंग रखने की बात कही गयी है. ५५० इस इलाके की सोसायटी को सील करने की बता भी बीएमसी ने कही है। एक बार फिर से महाराष्ट्र सरकार नाइट कर्फ्यू लगाने पर विचार कर सकती है.. एक तरफ महाराष्ट्र सरकार और मुंबई महानगर पालिका ने तेज रफ़्तार से वेक्सीन देने का काम शुरू किया है अब तक सिर्फ बीएमसी अस्पताल में ही वेक्सीन दी जाती थी अब और ५ निजी अस्पताल में कोविद की वेक्सीन दी जायेगी .. एक तरफ मुंबई के २ लाख से ज्यादा हेल्थ वर्कर और पुलिस कर्मी को वेक्सीन मिल गयी वहीं कोरोना संक्रमण की वजह से मुंबई में अब तक 11425 मरीजों की मौत हुई है।बीएमसी के मुताबिक हाई रिस्क वाले परिवार के सभी सदस्यों का कोरोना टेस्ट कराया जाएगा। साथ ही सोसाइटी में अगर किसी सदस्य में कोरोना के लक्षण दिखाई पड़ते हैं तो सभी का टेस्ट कराया जाएगा।मुंबई के पूर्वी सभा में कोरोना की रफ़्तार रुकने का नाम नहीं ले रही है। इसका सीधा असर एम वेस्ट, टी, और एस वार्ड में पड़ता हुआ नजर आ रहा है।

इन इलाकों में गोवंडी, मानखुर्द, मुलुंड और भांडुप वो जगहें हैं। जहां पर कोरोना तेजी से पैर पसार रहा है। बीएमसी के मुताबिक कोरोना के मामलों में हो रही है बढ़ोतरी अगले 20-22 दिनों तक जारी रह सकती है। कोरोना वायरस का खतरा जिन हाउसिंग सोसाइटी और बिल्डिंग्स में ज्यादा है उन्हें सील करना शुरू कर दिया गया है. इसके अलावा यदि कोई व्यक्ति कोरोना से पीड़ित व्यक्ति के संपर्क में आया है तो उसे भी कोरोना वायरस का टेस्ट करवाने के लिए कहा गया है। नोटिस में आगे कहा गया है कि कोरोना के फैलाव को रोकने के लिए उन बिल्डिंगों और सोसायटीज को सील किया जाएगा जहां कोरोना के केस पाए जाएंगे। मुंबई वेस्ट वार्ड के सहायक नगर आयुक्त पृथ्वीराज चौहान ने कहा, ‘हमने घर-घर में सर्वेक्षण भी शुरू किया है। हमें समूह संक्रमण के मामले मिल रहे हैं, जहां एक ही परिवार के सात-आठ लोगों में वायरस पाया गया है। सुरक्षा नियमों का पालन करना जनता की जिम्मेदारी है।’ उन्होंने आगे कहा शादी और पारिवारिक समारोह कोरोना वायरस के फैलाव का बड़ा कारण बन रहे हैं। इसी बीच वार्ड अधिकारियों ने संकेत दिया है कि यदि आवासीय सोसाइटियों के लोगों ने दिशानिर्देशों का पालन नहीं किया तो लॉकडाउन लगाया जा सकता है।बीएमसी के आंकड़ों के अनुसार मुंबई वेस्ट में कोरोना वायरस के केसों के दोहरीकरण की दर 245 दिन है। 13 फरवरी तक शहर की औसत दोहरीकरण दर 479 दिन थी। रविवार को शहर में 600 से ज्यादा नए कोरोना के मामले दर्ज किए गए। बीएमसी के अतिरिक्त नगर आयुक्त सुरेश काकानी ने बताया कि दैनिक आधार पर हम 15 हजार से अधिक परीक्षण कर रहे हैं जिससे कोरोना का पता लगाने में मदद मिल रही है।

उन्होंने कहा कि लोकल ट्रेनों का शुरू होना, विदेशी यात्रियों के आवागमन और केरल के यात्रियों का आवागमन भी इस वृद्धि का कारण हो सकता है। लेकिन फिलहाल यह कहना जल्दबाजी होगी। हमें एक और सप्ताह का इंतजार करना चाहिए।महाराष्ट्र को एक बार फिर वैश्विक महामारी कोरोना वायरस का प्रकोप बढ़ गया है। कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने के लिए महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने आंदोलन, रैलियों और सभाओं पर फिर से रोक लगा दी है। विवाह समारोहों में तय संख्या में ही मेहमान बुलाने का आदेश दिया गया है। अधिकारियों को इस आदेश का सख्ती से पालन कराने का निर्देश दिया गया है। जिन इलाकों में ज्यादा केस आ रहे हैं, वहां कंटेनमेंट जोन बनाने की पूरी तैयारी रखने का निर्देश दिया गया है। अगर स्थिति में सुधार नहीं हुआ, तो महाराष्ट्र में पूरी तरह लॉकडाउन लागू हो सकता है। बता दें कि महाराष्ट्र में अब तक 20,71,306 लोग कोरोना की चपेट में आ चुके हैं। इनमें से 19,81,408 लोग कोरोना को मात दे चुके हैं जबकि 51,591 लोगों की मौत हो गई। वहीं 38,307 लोगों का इलाज चल रहा है।

SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular