Homeदेशभारतीयों ने चीन से नहीं खरीदा सामान, आर्थिक मोर्चे पर मिला जवाब

भारतीयों ने चीन से नहीं खरीदा सामान, आर्थिक मोर्चे पर मिला जवाब

लद्दाख के पास गलवान घाटी में चीनी सैनिकों से पिछले साल हुई झड़प में भारतीय सेना के जांबाजों ने मुंहतोड़ जवाब दिया था। एक सर्वे के मुताबिक ऐसे 43 पर्सेंट भारतीय हैं, जिन्होंने पिछले 12 महीनों में चीन में बना कोई भी सामान नहीं खरीदा है। यही नहीं तब से अब तक एक साल में आर्थिक मोर्चे पर भी लोगों ने चीन को किनारे लगाने का प्रयास किया है।

केंद्र सरकार की ओर से चीन के 100 से ज्यादा ऐप्स पर बैन कर दिया गया है। बीते साल चीन की ओर से सीमा पर खूनी झड़प किए जाने के बाद भारत सरकार ने टिकटॉक, अली एक्सप्रेस समेत कई ऐप्स को बैन कर दिया था। यही नहीं गलवान घाटी में हुई झड़प में 20 भारतीय सैनिकों की शहादत पर देश भर में गुस्सा था और कई बार चीनी उत्पादों के बहिष्कार की भी अपील की गई थी।

सर्वे में शामिल ज्यादातर लोगों ने चीनी सामान की खरीद के पीछे कम दाम और पैसे की बचत को वजह बताया। कुछ लोग ऐसे भी थे, जिन्होंने चीन में बने उत्पादों की क्वॉलिटी को भी खरीदने की वजह बताया। बीते एक साल में चीन का सामान खरीदने वाले लोगों में से 70 फीसदी ने बताया कि उन्होंने इसलिए इसे लिया क्योंकि पैसे की बचत हो रही थी। चीन का सामान खरीदने वाले सर्वे में शामिल लोगों में से 14 फीसदी ने बताया कि बीते एक साल में उन्होंने 3 से 5 चीजें खरीदीं। इसके अलावा 7 पर्सेंट लोग ऐसे रहे हैं, जिनका कहना था कि उन्होंने 5-10 आइटम ऐसे खरीदे, जो चीन में बने थे।

SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular