Homeलाइफस्टाइलकोविड-19 वैक्सीन के बारे में जानिए सबकुछ, कोविशील्ड, कोवैक्सीन, स्पुतनिक वी में बेहतर कौन

कोविड-19 वैक्सीन के बारे में जानिए सबकुछ, कोविशील्ड, कोवैक्सीन, स्पुतनिक वी में बेहतर कौन

भारत ने कोविशील्ड और कोवैक्सिन के साथ अपना टीकाकरण अभियान शुरू किया। दोनों वैक्सीन भारत में तैयार किए जाते हैं। धीरे-धीरे वैक्सीन की उपलब्धता बढ़ती जा रही है। क्योंकि भारत सरकार ने इमरजेंसी यूज के लिए कई वैक्सीन को अनुमति दे दी है। जैसे-जैसे कोविड -19 वैक्सीन की स्वीकृत संख्या बढ़ती है। कई तरह के वैक्सीन होने की वजह से इनके डिटेल्स पर नजर रखना मुश्किल हो सकता है। इसलिए  हम आपके लिए भारत में स्वीकृत वैक्सीन के बारे में बता रहे हैं। जिसके आधार पर आप तय कर सकते हैं कि आपके लिए कौन बेहतर है। कोविशील्ड, कोवैक्सीन, स्पुतनिक वी, मॉडर्ना, जॉनसन एंड जॉनसन, वैक्सीन आपके लिए हैं।

कोविशील्ड

ब्रिटिश-स्वीडिश फर्म एस्ट्राजेनेका के साथ साझेदारी में ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी द्वारा कोविड-19 वैक्सीन विकसित किया गया। इसका निर्माण भारत में पुणे स्थित सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (एसआईआई) द्वारा किया जा रहा है। कोविशील्ड वायरल वेक्टर प्लेटफॉर्म पर आधारित है। टीका एक सामान्य सर्दी वायरस (जिसे एडेनोवायरस के रूप में जाना जाता है) के कमजोर वर्जन से बनाया गया है जो चिंपैंजी में संक्रमण का कारण बनता है। इसे कोरोनावायरस की तरह दिखने के लिए संशोधित किया गया है, हालांकि यह किसी बीमारी का कारण नहीं बन सकता है। इंजेक्ट किया गया वायरस शरीर को समान वायरस से लड़ने का निर्देश देता है। कोविशील्ड टीकाकरण कोर्स में प्रत्येक 0.5 मिली की दो अलग-अलग खुराकें होती हैं। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के लेटेस्ट गाइ़डलाइन्स के अनुसार, दूसरी खुराक पहली खुराक के 12-16 सप्ताह के बीच दी जानी चाहिए। केंद्र ने शिक्षा के लिए विदेश यात्रा करने वाले छात्रों को 28 दिनों के अंतराल के भीतर दूसरी खुराक प्राप्त करने की अनुमति दी है। कोविशील्ड वैक्सीन सरकारी केंद्रों में सभी वयस्कों के लिए और प्राइवेट अस्पतालों में भुगतान के आधार पर फ्री में उपलब्ध है। सरकारी टीकाकरण केंद्रों पर कोविशील्ड मुफ्त दिया जा रहा है, जबकि प्राइवेट अस्पतालों में 780 रुपए दाम रखा गया है। इसमें जीएसटी में 150 रुपए शामिल हैं। भारत में अभी तक कोविशील्ड को बच्चों में यूज के लिए अधिकृत नहीं किया गया है। यह 82 प्रतिशत तक प्रभावशाली है।

कोवैक्सीन

कोवैक्सीन एक स्वदेशी वैक्सीन है जिसे हैदराबाद स्थित भारत बायोटेक इंटरनेशनल लिमिटेड ने इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च और नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी, पुणे के सहयोग से विकसित किया है। कोवैक्सीन एक निष्क्रिय वैक्सीन है, जिसका अर्थ है कि यह मारे गए कोरोना वायरस से बना है, जिससे वे संक्रमित या दोहराने में असमर्थ हैं। एक बार इंजेक्शन लगाने के बाद, मानव कोशिकाएं मृत वायरस को पहचान लेती हैं, जिससे इम्यूनिटी सिस्टम के खिलाफ एंटीबॉडी बनाने के लिए प्रेरित होती है। कोवैक्सीन को 28 दिनों या चार सप्ताह के अंतराल पर दी जाने वाली दो खुराक में दिया जाता है। कोवैक्सीन अभी तक रिटेल के लिए उपलब्ध नहीं है और सभी वयस्कों के लिए सरकारी केंद्रों पर और प्राइवेट अस्पतालों में भुगतान के आधार पर दिया जा रहा है। सरकारी टीकाकरण केंद्रों पर फ्री में कोवैक्सीन दिया जा रहा है जबकि प्राइवेट अस्पतालों में इसकी अधिकतम कीमत 1,410 रुपए रखी गई है। इसमें जीएसटी में 150 रुपए शामिल हैं। भारत बायोटेक वर्तमान में 2-18 साल के बच्चों पर कोवैक्सिन का टेस्ट कर रहा है। यह 81 प्रतिशत तक प्रभावशाली है।

स्पुतनिक वी

स्पुतनिक वी वैक्सीन को रसियन डायरेक्ट इनवेस्टमेंट फंड (RDIF) के साथ साझेदारी में मॉस्को, रूस में गमलेया नेशनल रिसर्च इंस्टीट्यूट ऑफ एपिडेमियोलॉजी एंड माइक्रोबायोलॉजी द्वारा विकसित किया गया है। इसे भारत में हैदराबाद स्थित डॉ रेड्डीज लैबोरेटरीज द्वारा वितरित किया जा रहा है। RDIF ने इसके प्रोडक्शन के लिए अन्य भारतीय कंपनियों – हेटेरो बायोफार्मा, ग्लैंड फार्मा, स्टेलिस बायोफार्मा और विरचो बायोटेक के साथ करार किया है। कोविशील्ड की तरह, स्पुतनिक वी एक वायरल वेक्टर वैक्सीन है। हालांकि, स्पुतनिक वी वैक्सीन अपनी दो खुराक के लिए दो मानव पुनः संयोजक एडेनोवायरस वैक्टर का उपयोग करता है, जिसका उद्देश्य लंबी सुरक्षा प्रदान करना है। वैक्सीन कोरोना वायरस स्पाइक प्रोटीन बनाने के लिए एक कोड देता है। इस प्रकार, जब असली वायरस शरीर में प्रवेश करता है, तो यह एंटीबॉडी के रूप में एक इम्यून रिस्पॉन्स को बढ़ाता है। स्पुतनिक वी वैक्सीन 21 दिनों के अंतराल पर दो खुराक में दी जाती है। वर्तमान में, स्पुतनिक वी सरकार द्वारा संचालित केंद्रों पर उपलब्ध नहीं है। डॉ रेड्डीज ने अपोलो, मेदांता, फोर्टिस हेल्थकेयर जैसे अस्पतालों में पूरे देश के प्रमुख अस्पतालों के साथ भागीदारी की है। केंद्र सरकार ने इस वैक्सीन की कीमत जीएसटी समेत 1,145 रुपए प्रति डोज तय की है। स्पुतनिक वी वैक्सीन 91.6 प्रभावशाली है। स्पुतनिक वी को अभी तक भारत में बच्चों में उपयोग के लिए अधिकृत नहीं किया गया है।

मॉडर्ना

कोविड -19 वैक्सीन, जिसे स्पाइकवैक्स के रूप में भी जाना जाता है। इसे मैसाचुसेट्स स्थित मॉडर्न थेरेप्यूटिक्स द्वारा यूएस नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ एलर्जी एंड इंफेक्शियस डिजीज के सहयोग से विकसित किया गया है। वैक्सीन में हमारी कोशिकाओं को स्पाइक प्रोटीन बनाने के लिए आनुवंशिक निर्देश होते हैं। एक बार इंजेक्शन लगाने के बाद, वैक्सीन कोशिकाओं को स्पाइक प्रोटीन की कॉपी बनाने का निर्देश देता है। यह इंम्यून कोशिकाओं को स्पाइक प्रोटीन और वायरस से लड़ने के लिए एंटीबॉडी बनाने के लिए प्रेरित करता है। मॉडर्न वैक्सीन को 28 दिनों के अंतराल पर दो खुराक (100 माइक्रोग्राम, 0.5 मिली प्रत्येक) में प्रशासित किया जाता है। मॉडर्ना वैक्सीन को पहली खुराक के 14 दिनों के बाद शुरू होने वाले कोविड-19 से बचाने में 94.1% की प्रभावकारिता दिखाई गई है। मॉडर्ना ने यह भी कहा है कि इसका वैक्सीन 12-17 वर्ष के आयु वर्ग के किशोरों के लिए 100 प्रतिशत प्रभावी है। भारत में मॉडर्न वैक्सीन की कीमत अभी तय नहीं की गई है। मॉडर्ना ने टीकों के पहले बैच को दान करने के लिए प्रतिबद्ध किया है। अमेरिका में, वैक्सीन की कीमत 15 डॉलर प्रति खुराक (1,114 रुपए) है, जबकि यूरोपीय संघ के देशों में इसकी कीमत 18 डॉलर (1,337 रुपए) है। मॉडर्ना वैक्सीन का आयात दवा निर्माता कंपनी सिप्ला कर रही है। केंद्र सीधे राज्यों को खुराक प्रदान करेगा और कुछ प्रमुख सरकारी अस्पतालों में उपलब्ध होगा। मॉडर्ना वैक्सीन की उपलब्धता की समय-सीमा अभी स्पष्ट नहीं है।

जॉनसन एंड जॉनसन

जॉनसेन कोविड -19 वैक्सीन अमेरिकी फार्मा दिग्गज जॉनसन एंड जॉनसन की सहायक जेनसेन फार्मास्युटिकल्स द्वारा तैयार की गई है। हैदराबाद स्थित फर्म बायोलॉजिकल ई लिमिटेड के साथ आपूर्ति समझौते के माध्यम से वैक्सीन को भारत लाया जाएगा। जॉनसन एंड जॉनसन वैक्सीन ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका द्वारा बनाया गया एक वायरल वेक्टर वैक्सीन है। वैक्सीन मानव कोशिकाओं में वायरस के स्पाइक प्रोटीन को तैनात करने के लिए एक संशोधित एडेनोवायरस का उपयोग करता है, जो इम्यू्निटी को बढ़ाता है। जबकि ऑक्सफोर्ड वैक्सीन आनुवंशिक रूप से इंजीनियर चिंपैंजी एडेनोवायरस का उपयोग करता है, जॉनसन एंड जॉनसन वैक्सीन एक मानव एडेनोवायरस के एक प्रकार का उपयोग करता है जिसे एडी26 के रूप में जाना जाता है। जॉनसन एंड जॉनसन वैक्सीन सिंगल-शॉट वैक्सीन है और इसे मांसपेशियों में लगाया जाता है। जॉनसन एंड जॉनसन वैक्सीन सबसे पहले सरकार द्वारा संचालित टीकाकरण केंद्रों पर उपलब्ध होने की संभावना है, क्योंकि शुरुआत में केवल सीमित खुराक ही उपलब्ध होगी। वैक्सीन की उपलब्धता की समय-सीमा अभी स्पष्ट नहीं है। यह वैक्सीन 85 प्रतिशत प्रभावी है। भारत में जॉनसन एंड जॉनसन वैक्सीन की कीमत अभी तय नहीं की गई है। संयुक्त राज्य अमेरिका में, वैक्सीन की कीमत 10 डॉलर है।

SHARE
RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments